Gulbarga

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R)

Map of Karnataka

Gulbarga (गुलबर्गा) is a city and district in the Indian state of Karnataka, India. It's name was Kalaburgi. Previously it was part of Hyderabad State and incorporated into a newly formed Mysore State (now known as Karnataka) through the States Reorganisation Act in 1956.

Variants

  • Gulbarga गुलबर्गा (मैसूर) (AS, p.292)
  • Kalaburgi (कलबुर्गी) is ancient name of Gulbarga (गुलबर्गा) (AS,p.147)

Location

Gulbarga is 623 km north of the state capital city of Bangalore and 220 km from Hyderabad.

Origin

History

Note: This section is from book - History-And-Legend-In-Hyderabad, pp.39-40-42


[p.39]: Sacred to the memory of great saints and religious leaders who are universally venerated by Hindus and Muslims alike, Gulbarga is perhaps the “ holiest ” of Hyderabad’s districts. While other districts may be famed for archaeology, architecture, art, industry or history, Gulbarga has inherited an unrivalled tradition of spiritual glory.

Here lies buried Jayatirtha, the celebrated commentator on Sri Madhava’s teachings.

And the eternal footprints which great saints like Hazrat Khwaja Banda Nawaz, Shri Sharana Basaweshwara have left on the sands of time continue to illumine the path of salvation for hundreds of thousands of devoted pilgrims to this day.

As one looks back upon the tapestry of time, Gulbarga district stands out of the mists of history as a province of consequence from very ancient times. Although there are veiled references to this region in the Ramyana, it does not appear in history until 750 A.D. when the warlike Rashtrakutas established themselves in the Deccan over the ashes of the Chalukyan empire. The Rashtrakutas were the chieftains of Lattalur, the Latur of today, and they ruled the Deccan from Manyakheta, which survives today at Malkhed, Gulbarga district.

According to contemporary literature Manyakheta was a fair and prosperous city and the Rashtrakuta empire in its golden days extended all over the Deccan including central India, southern Gujarat and part of modern Mysore. Krishna, Govinda and Amoughravarsha, the most celebrated of Rashtrakuta emperors, were patrons of art and learning as soldiers and in their court flourished the earliest Kannada writers, most of whom were Jains. The famous Kailasa at Ellora is an everlasting memorial to Rashtrakuta greatness.

Salman Tajir, the famous Arab navigator and trader, who visited the court of Amou- ghravarsha, described him as one of the four great monarchs of the world, the other three being the Caliph of Baghdad, the Emperor of Constantinople and the Emperor of China.

[p.40]: About 1000 A.D. Manyakheta was destroyed by the Parmars of Malwa and the power of the Rashtrakutas declined.

They were supplanted by the later Chalukyas, who set themselves up as rulers of the Deccan at Kaiyani, another city which still exists in Bidar district. Vikramaditya Ghalukya, was the most celebrated of his line, and it was in his court that the Mitakshara Law can be said to have originated.

In 1310 A.D. Gulbarga came under the Khiljis and records are available which describe how the Delhi Government appointed Muslim officers at Kalyani, Sagar and other places in the district. By 1348 A.D., however, Gulbarga again managed to free itself, when Alauddin Hasan Gangu Bahmani declared himself independent and made Gulbarga his capital.

Gulbarga City: Originally Kalburgi, Gulbarga was a town of parochial importance until the [p.42]: Bahmanis made it their capital. It has a strong fort which used to have a small Arab-Sikh garrison. The fort has a great mosque which is said to have been built in 1347. It is the largest covered mosque in India, having no courtyard. Modelled after the mosque of Cordova in Spain, its interior has the appearance of a grand old cathedral with long aisles. It has a large dome surrounded by smaller ones which present a curious spectacle. The area of the mosque is 38,016 square feet.

Next in importance is the Dargah of Khwaja Banda Nawaz, which has a dome about 80 feet high. Within the dargah premises are a Kaqqar Khana, a caravanserai for pilgrims, a madrasa and an exclusively carved stone mosque which was built by Aurangzeb. The tombs of the Bahmani kings, the dargah of saint Ruknuddin and the tomb of Shah Sirajuddin are also of interest. Shah Sirajuddin is said to have spiritually influenced Khwaja Banda Nawaz and is believed to have attained the age of 111 years.


It is called one of the Sufi cities having famous religious places, like Khwaja Banda Nawaz Dargah, Sharana Basaveshwara Temple, Ladle Mashak and Buddha Vihar. It also has a fort built during Bahmani rule. Has many domes like Hafth Gumbad (seven domes together) and Shor Gumbad.[1][2] Gulbarga has a few architectural marvels built during the Bahamani Kingdom rule, including the Jama Masjid sited in the Gulbarga Fort.

गुलबर्गा

विजयेन्द्र कुमार माथुर[3] ने लेख किया है ...गुलबर्ग या 'गुलबर्गा' शहर (AS, p.292) भारत के पश्चिमोत्तर कर्नाटक (भूतपूर्व मैसूर) राज्य में स्थित है। गुलबर्ग का प्राचीन नाम 'कलबुर्गी' है। यह नगर दक्षिण के बहमनी नरेशों के समय से प्रसिद्ध हुआ। दक्षिण के बहमनी वंश के संस्थापक सुल्तान अलाउद्दीन ने गुलबर्ग को 1347 ई. में अपनी राजधानी बनाया। उसने इसका नाम एहसानाबाद रखा। 1425 ई. तक यह इस राज्य की राजधानी रहा, जबकि 9वें सुल्तान (1422-36) ने इसे त्याग कर बीदर को राजधानी बनाया। वारंगल के काकतियों के राज्य क्षेत्र में शामिल इस नगर को आरंभिक 14वीं शताब्दी में पहले सेनापति उलूग़ ख़ाँ और बाद में सुल्तान मुहम्मद बिन तुग़लक़ द्वारा दिल्ली की सल्तनत में शामिल कर लिया गया। सुल्तान की मृत्यु के बाद यह बहमनी राज्य (1347 से लगभग 1424 तक यह इस साम्राज्य की राजधानी था) के अधीन हो गया और इस सत्ता के पतन के बाद बीजापुर के तहत आ गया। 17वीं शताब्दी में मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब द्वारा दक्कन विजय के बाद इसे फिर से दिल्ली सल्तनत में शामिल कर लिया गया, लेकिन 18वीं शताब्दी के आरंभ में हैदराबाद राज्य की स्थापना से यह दिल्ली से अलग हो गया।

गुलबर्ग में एक प्राचीन सुदृढ़ दुर्ग स्थित है। जिसके अन्दर एक विशाल मस्जिद है, जो 1347 ई. में बनी थी। यह 216 फुट लम्बी और 176 फुट चौड़ी है। इसके अन्दर कोई आंगन नहीं है वरन् पूरी मस्जिद एक ही छ्त के नीचे है। कहा जाता है कि यह भारत की सबसे बड़ी मस्जिद है। इसकी बनावट में स्पेन नगर के कोरडावा की मस्जिद की अनुकृति दिखलाई पड़ती है। अन्दर से यह प्राचीन गिरजाघरों से मिलती-जुलती है। इसका एक सुदीर्घ गुंबद है जिसके चारों तरफ छोटे-छोटे गुंबद हैं। मुस्लिम संत ख्वाजा बंदा-नवाज़ की दरगाह (निर्माण 1640 ई.) भी गुलबर्ग का प्रसिद्ध स्मारक है। इसका गुम्बद प्रायः अस्सी फुट ऊँचा है। दरगाह के अन्दर नक़्क़ारखाना, सराय, मदरसा और औरंगज़ेब की मस्जिद है। बहमनी सुल्तानों के मक़बरे भी यहाँ स्थित हैं। बहमनी सुल्तानों और उनके दरबारियों ने गुलबर्ग में बहुत इमारतें बनवायीं थीं। लेकिन ये इमारतें इतनी बड़ी और कमज़ोर थीं कि अब उनके ध्वंसावशेष ही देखे जा सकते हैं।

ऐतिहासिक स्मारक: गुलबर्ग शहर में कई प्राचीन स्मारक हैं। पूर्वी हिस्से में बहमनी शासकों के मक़बरे हैं। गुलबर्ग के ऐतिहासिक स्मारक हैं:-

  • हसनगंगू का मक़बरा (हसनगंगू ने ही बहमनी वंश की नींव डाली थी)
  • महमूदशाहका मक़बरा
  • अफ़जलख़ाँ की मस्जिद
  • लंगर की मस्जिद:- लंगर की मस्जिद की छ्त हाथी की पीठ की भाँति दिखाई देती है और बौद्ध चैत्वों की अनुकृति जान पड़ती है।
  • चाँदबीबी का मक़बरा:-चाँदबीबी का मक़बरा बीजापुर की शैली में बना हुआ है और स्वयं उसी का बनवाया हुआ है किन्तु चाँदबीबी की क़ब्र उसमें नहीं है।
  • सिद्दी अंबर का मक़बरा
  • चोर गुंबद:- चोर गुंबद की भूमिगत भूलभुलैया में पिछले जमाने में चोर-डाकुओं ने अड्डा बना लिया था। इसी भवन में कन्फेशन्स ऑव-ए-ठग का प्रसिद्ध लेखक मीड़ोज टेलर भी ठहरा था।
  • कलन्दरख़ाँ की मस्जिद व इन्हीं का मक़बरा।
  • वासवेश्वर का मंदिर: गुलबर्ग के ऐतिहासिक मन्दिरों में वासवेश्वर का मंदिर 19वीं शती की वास्तुकला का सुन्दर उदाहरण है। श्री वासवेश्वर (शरन बसप्पा) का जन्म आज से प्रायः सवा सौ वर्ष पूर्व गुलबर्ग ज़िले में स्थित अरलगुन्दागी नामक ग्राम में हुआ था। यह बचपन से ही सन्त स्वभाव के व्यक्ति थे। 35 वर्ष की आयु में इन्होंने सन्न्यास ले लिया किन्तु बाद में वे गुलबर्ग में रहकर जीवन भर जनार्दन की सेवा में लगे रहे और उन्होंने मानव मात्र की सेवा को ही अपने धार्मिक विचारों का केंद्र बना लिया। मार्च मास में इनके समाधि मन्दिर पर दूर-दूर से लोग आकर श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

External links

See also

References

  1. "Remembering a Sufi saint". www.thehindu.com.
  2. "The Haft Gumbaz–Gulbarga". hariexploresindia.wordpress.com.
  3. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.292-293