Ram Deo Singh Mahria

From Jatland Wiki
(Redirected from Ramdev Singh Mahria)
Jump to navigation Jump to search

Ram Deo Singh Mahria is a leader of Indian National Congress from Rajasthan. He was born in Mehria gotra family in village Kudan in Sikar district Rajasthan. He has been a Minister in Rajasthan Government several times.

कूदन के महरिया

सीकर वाटी में राव राजा के प्रिय चौधरी नाथाराम महरिया थे। इसी परंपरा को उनके बेटे शिवबक्स महरिया ने निभाया। शिवबक्स कूदन के बेताज बादशाह थे। गांव में सुण्डा गोत्र के जाट अधिक संख्या में हैं। महरिया और सुंडा में हमेशा प्रतिस्पर्धा चलती रही है। लेकिन शिवबक्स महरिया के ऊंचे रसूख के कारण वे सुंडा लोगों पर भारी पड़ रहे थे। महरिया एक पोळी (दरवाजा) के भीतर रहते थे, जिसे मेहरिया पोली कहा जाता था। आज भी इस पोली के विशेष स्मारक के रुप में सुरक्षित हैं। विशेष रुप से नाथाराम महरिया गढों और महलों में प्रसिद्धि प्राप्त करते रहे हैं। किसान वर्ग में रहते हुए भी मेहरिया परिवार किसानों से अलग रहते एवं उनमें उच्च वर्ग की भावना थी। [1]

महरिया परिवारों का आदि पुरुष किसना मेहरिया थे, जिनकी छतरी अभी भी कूदन में मौजूद है। किसना राम के दो बेटे थे - 1. भीमाराम और 2.बोयत राम। भींवाराम के चार पुत्र थे जिनके नाम भानाराम, मोटाराम, गुमानाराम और न्योला राम थे। इन चारों ने 25-25 रुपये खर्च कर किसनाराम की छतरी बनाई थी। चारों भाइयों की चार हवेलियां काफी पुरानी हैं जिससे इस परिवार की समृद्धि का पता लगता है। कूदन के महरिया उन्हीं की वंशबेल हैं।[2]

शिवबक्स महरिया कूदन का मुख्य चौधरी था। 1935 ई. में सीकर आंदोलन के समय कूदन गाँव में करीब दस हवेलियाँ थी। शिवबक्स राव राजा सीकर के अति विश्वसनीय व्यक्तियों में से थे। गोली काण्ड के बाद गाँव की हालत गंभीर होगाई थी। शिवबक्स महरिया ने स्वयं ही पूरे गाँव का लगान चुका दिया था। शिवबक्स के कोई संतान नहीं थी। उन्होने अपने भाई के बेटे रामदेव सिंह को गोद लिया जो आगे चलकर राजस्थान सरकार में मंत्री बने। [3]


Back to The Leaders

  1. Rajendra Kaswan: Mera Gaon Mera Desh, Jaipur, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p.144
  2. Rajendra Kaswan: Mera Gaon Mera Desh, Jaipur, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p.144-145
  3. Rajendra Kaswan: Mera Gaon Mera Desh, Jaipur, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p.143