Balera

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search

Balera (बालेरा) or Baleran (बालेरां) is a medium-size village in Sujangarh tahsil in Churu district in Rajasthan.

Jat Gotras

Population

According to Census-2011 information: With total 279 families residing, Balera village has the population of 1701 (of which 882 are males while 819 are females).[1]

History

चौधरी लादूराम खीचड़ जाट पंचायत के फैसलों में काफी न्याय प्रिय माने गए हैं। रामपुर के एक कालेर की लड़की आबसर के किलका परिवार में ब्याही थी जिसको लड़के के बाप ने जबरन खुमाराम डोटासरा के साथ भेज दी। आबसर वालों ने जाटों की पंचायत गुलेरिया गाँव में बुलाई। इसमें निम्न लिखित पञ्च चुने गए।

परिवार पर 1300 रु. का आर्थिक दंड आरोपित किया, लड़की के द्वारा उसके बाप के सर पर 51 जूते मरवाए, खुमाराम डोटासारा के सर पर 21 जूते मरवाए। लड़की को वापस उसके घर भिजवाया जहाँ आज भी वह आनंदपूर्वक अपना जीवन यापन कर रही है। उसका परिवार भरा-पूरा है।

साभार - उद्द्येशय, जाट कीर्ति संस्थान चूरू द्वारा आयोजित सर्व समाज बौधिक एवं प्रतिभा सम्मान समारोह, चूरू, द्वितीय संस्करण जून 2013, p.37

Notable persons

  • Asha Ram Manda: आशाराम मंडा नि बालेरा:स्वतंत्रता सेनानी, प्रजा परिषद् की गतिविधियों में सक्रीय भाग लिया.[2]
  • भगाराम मंडा नि बालेरा:स्वतंत्रता सेनानी, प्रजा परिषद् की गतिविधियों में सक्रीय भाग लिया.[3]
  • Sohan Lal Manda (सोहनलाल मंडा) - जन्म बालेरा, ग्राम पंचायत बालेरा के सरपंच, पुस्तक 'जुल्म की कहानी किसान की जबानी' प्रकाशन के विशेष सहयोगी और प्रेरक।
  • आशा राम मंडा नि. बालेरा ने जाट प्रजापति महायज्ञ सीकर सन 1934 में भाग लिया जिसने किसानों में राजनैतिक चेतना का संचार किया। उस सम्मलेन में सुजानगढ़ तहसील से जिन किसानों ने भाग लिया उनमे आप मुख्य थे।[4]

External links

References

  1. http://www.census2011.co.in/data/village/70733-balera-rajasthan.html
  2. भीमसिंह आर्य:जुल्म की कहानी किसान की जबानी (2006),p.40
  3. भीमसिंह आर्य:जुल्म की कहानी किसान की जबानी (2006),p.40
  4. भीमसिंह आर्य:जुल्म की कहानी किसान की जबानी (2006),p.35

Back to Jat Villages