Devi Lal Ji.jpg

25 September
is the birthday of Chaudhary Devi Lal

Flowers.png

Jamana Lal Bajaj

From Jatland Wiki
(Redirected from Jamanalal Bajaj)
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.)

Jamnalal Bajaj (4 November 1889 – 11 February 1942) (जमना लाल बजाज) was an industrialist, a philanthropist, and freedom fighter.[1] He was a close associate and follower of Mahatma Gandhi. Gandhi is known to have adopted him as his son.

Early years

Jamnalal Bajaj was born into a poor Marwari family, as the third son of Kaniram and Birdibai, in a village named Kashi Ka Bas, near Sikar, Rajasthan. He was later adopted as a grandson by Seth Bachhraj and his wife Sadibai Bachhraj, a rich Rajasthani merchant couple of Wardha. Seth Bachhraj was a distant relative on his father's side, and was a well-known and respected trader in the British Raj.

Upon coming of age, under the guidance of Seth Bachhraj, Jamnalal got involved in the family business of his grandfather. During this period he acquired the know-how of being a tradesman—rigorous book keeping and buying and selling commodities—excelling in his work by the time Seth Bachhraj died. In 1926 he founded what would become the Bajaj group of industries.

Industrialist

He founded the Bajaj Group of companies in 1926.[2] The group now has 24 companies, including 6 listed companies. Besides Bajaj Auto Ltd, the other major companies in the group include Mukand Ltd, Bajaj Electricals Ltd and Bajaj Hindusthan Ltd. One of his grandsons, Rahul Bajaj, runs the family flagship company, Bajaj Auto. Several institutions in India bears his name, including the Jamnalal Bajaj Institute of Management Studies. A locality, JB Nagar,in the sub-urban Andheri in Mumbai has been named after him. Jamnalal Bajaj Award was established in 1978 by the Jamnalal Bajaj Foundation and are given away each year on his birth anniversary.[3]

An Honorary Magistrate

During the First World War, the British government appeased and honoured native tradesmen, soliciting funds. They appointed Jamnalal an honorary magistrate. When he provided money for the war fund, they conferred on him the title of Rai Bahadur, a title he later surrendered during the non-co-operation movement of 1921.

Follower of Gandhi

Upon Mahatma Gandhi's return from South Africa, Jamnalal took in interest in Gandhi's way of life, his principles, such as Ahinsha (non-violence), and his dedication to the poor. He could understand Gandhi's vision that home-made goods were the answer to India's poverty. He considered that some British companies were importing cheap, raw cotton from India and sending back finished cloth. He was humbled by the simple life that Gandhi was leading at the Sabarmati Ashram. He was impressed by the Ashram's routine of prayer and physical work. Activities included cleaning, cooking, washing and looking after the domesticated animals. He brought his wife Jankidevi and his children to live in the Ashram. However, this close relationship and his deep involvement in the independence movement did not leave Jamnalal Bajaj with much time to spend on his newly launched business venture.[4]

Freedom struggle

In 1920, Jamanalal was elected chairman of the reception committee for the Nagpur session of the Indian National Congress. He gave up the title of Rai Bahadur conferred on him by the British government, and joined the non-co-operation movement in 1921. Later, in 1923, he participated in the flag satyagraha, defying a ban on flying the national flag in Nagpur, and was detained by British forces. This earned him national admiration.

He wanted Gandhi to move to Wardha and make it the center of his activities. After the Dandi March in April 1930, Gandhi moved to Sevagram, a small village near Wardha, since he wanted to live close to the rural populace. Gandhi vowed not to return to Sabarmati Ashram until freedom was achieved.

Jamanalal was named president of Gandhi Seva Sangha, a group of workers who dedicated their time to constructive work. He was later elected a member of the Congress Working Committee and as the treasurer of Congress in 1933.

Shekhawati farmers movement

The Jat Prajapati Maha-Yagya was organized at Sikar from 20 - 29 January 1934. The program was scheduled for one whole week. The main aim of this event was to present to , the Jats and other farmers of Shekhawati, the picture of advanced level of the cultural and education development, and the progressiveness of the Jat society in U.P. and elsewhere, so that the Jats of Shekhawati could be inspired to have a desire for education and upliftment.

When the trains carrying the groups of the Yajaks (organizers of the Yagya), reached Sikar railway Station, they were greeted with growing crowds. Seth Jamnalal Bajaj, who was a staunch supporter of Mahatma Gandhi, was also present at the railway station to greet the Yajaks. In the open sandy land near the railway station hundreds of thousands of men and women from every corner, every village in Rajasthan had set up camp with their families, bullock carts and camel carts.

Social initiatives

Jamanalal Bajaj was interested in initiatives such as the removal of untouchability, promotion of Hindi, and Khadi and village Industries. He had toured across the country promoting Khadi. In 1925, he was chosen as the treasurer of the All India Spinners Association. He was also the president of the All India Hindi Sahitya Sammelan (literary convention) that promoted Hindi as the single language to unite all Indians. He was instrumental in publishing Hindi magazines and books. He initiated the Gandhi Hindi Pustak Bhandar (bookshop) in Bombay and started the Sasta Sahitya Mandal (publishing house).

He founded the Dakshin Bharat Hindi Prachar Sabha (university) along with C. Rajagopalachari in hopes of spreading the learning of Hindi across the country.

With the intent of eradicating untouchability, he fought the non-admission of Harijans into Hindu temples in his home town of Wardha. As orthodox Hindu priests and Brahmins objected, he opened his own family temple, the Laxmi Narayan Mandir, in Wardha, for the Harijans in 1928. He began a campaign by eating a meal with Harijans and opening public wells to them. He opened several wells in his fields and gardens.

Due to his devotion, he was elected the chief of the Jaipur Rajya Praja Mandal in 1938. While chief, he negotiated a truce between the maharajas of Sikar and Jaipur.

In honour of his social initiatives a well known national and international award called Jamnalal Bajaj Award has been instituted by the Bajaj Foundation.[5] Past awardees include Nelson Mandela and Desmund Tutu among others.

Jamanalal dedicated much of his wealth to the poor, in line with the trusteeship concept proposed by Gandhi.

प्रजामण्डल का असहयोग आन्दोलन

नरोत्तमलाल जोशी[6] ने लिखा है ....तत्कालीन जयपुर राज्य में सन 1938 में सेठ जमनालाल जी बजाज के नेतृत्व में प्रजामण्डल ने भाषण करने एवं लिखने की नागरिक अधिकारों के लिए एक असहयोग आन्दोलन किया था। उस आन्दोलन में शेखावाटी कृषकों ने विशेषत : जाट किसानों ने बड़ी संख्या में भाग लिया और जेल गए। उसके परिणामस्वरूप राज्य सरकार ने जयपुर में सीमित मताधिकार के आधार पर रिप्रेजेंटेटिव एसेम्बली और लेजिस्लेटिव कोन्सिल के निर्माण की घोषणा को और उनके चुनाव 15 मई, 1945 को निश्चित हुए। जागीरदारों और मुसलमानों की सीटें सयुंक्त चुनाव में सुरक्षित कर दी गई। उक्त चुनाव के प्रचार के सिलसिले में अपनी उम्मीदवारी के लिए मतदाताओं से वोट की अपील करने के लिए 14 मई, 1945 को मैं गुढा और उदयपुर गया था।

गुढा की सभा में मेरे को तथा मेरे साथी श्री सूरजमल जी गोठड़ा तथा मेरे परम स्नेहभाजन व रिश्तेदार (अब बड़े सर्जन जो उस समय मेडिकल के विद्यार्थी थे) श्री केदारनाथ जी शर्मा को गुढा के बाजार में दिन 3 बजे मीटिंग करते हुए बुरी तरह पीटा और हारमोनियम बाजा, दरी, टेबल व अन्य सामान तोड़कर उठा ले गए। बाद में उदयपुर जाने पर तो वहां इन भौमियों के 15-20 आदमियों ने ऐसा आक्रमण किया कि मैं देव योग से ही बच पाया वरना मुझे जान से मार


शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम, भाग-II, पृष्ठांत-40

दिया जाता। इस सारी घटना का विस्तृत विवरण उस समय के जयपुर के साप्ताहिक लोकवाणी के 30 मई के अंक में प्रकाशित हुआ है।

तत्कालीन जयपुर राज्य का शासन तंत्र भी इन अत्याचारों के खिलाफ कुछ नहीं कर पाया। इन ही दिनों सन 1945 के वर्षो की फसल के समय कार्यकर्ताओं की मण्डली देहातों में प्रचार करने जाती और काश्तकारों को प्रजामण्डल के उद्देश्यों को बतलाती और सदस्य बनाती फिरती थी। नरहड़ के श्री खेतराम जी, तोगड़ा के श्री भैरोसिंह, महेंद्रसिंह, रामदेव जी गीला, श्री ख्यालीरामजी, श्री बूंटी रामजी किशोरपुरा---डूंगरसिंह और कूमास डूमरा के कार्यकर्ता आदि थे। ये लोग उदयपुरवाटी क्षेत्र को छोड़कर सभी जगह जाते।

श्यायी (सेही) से ही एक फौज के रिटायर्ड व्यक्ति थे जिन्होंने अपना नाम स्वामी मिश्रानन्द रख लिया था बड़े उत्साह से गाँवों में घूम घूम कर काश्तकारों में राजनैतिक चेतना का संदेश दिया करते थे। श्री रामदेव जी उन्हें अपने साथ उदयपुरवाटी में प्रचार के लिए ले गए थे। उदयपुरवाटी के क्षेत्र के काश्तकारों ने उनका बड़ा आतिथ्य सत्कार किया। कार्यकर्ताओं को काश्तकार उन दिनों भौमियों के अत्याचारों से रक्षा करने वाला मुक्ति दूत समझते थे।

उक्त स्वामी जी दूध, दही, खीर आदि खाते पीते और स्वागत सत्कार स्वीकार करते हुए एक दिन दुड़िया ग्राम में विश्राम कर रहे थे कि 10-15 लठैत एवं शस्त्रधारी भौमिये वहां आ पहुंचे और स्वामीजी और उनके साथियों को खूब मारा पीटा और स्वामी जी को तुरन्त वह क्षेत्र छोड़ने के लिए बाध्य कर दिया और कभी न आने का वचन लेकर जाने दिया। बाद में स्वामी जी ने बतलाया कि उन्हें लाठियों की चोटों,घूसों और बंदूक के कुंदे से इस तरह पीटा कि सारा असिथपंजर हिल उठा और भयंकर पीड़ा होती रही। कहीं भी शरीर पर खून का या अन्य कोई चोट फूट नहीं निकली। इसकी पीड़ा कई मास तक रही और बराबर याद रही।

इस घटना से प्रायः कार्यकर्ता उदयपुरवाटी क्षेत्र में जाने से कतराते। भूस्वामियों का प्रभाव या आतंक इतना था कि उसके भयानक परिणामों की आशंका


शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम, भाग-II, पृष्ठांत-41

से कोई भी आहत व्यक्ति प्रथम तो पुलिस में रिपोर्ट ही नहीं करता और यदि साहस करके पुलिस थाने में आता तो हतोत्साहित करते --- यदि फिर भी रिपोर्ट होती तो कोई साक्षी उक्त घटना का प्रमाण देने के लिए प्रस्तुत नहीं होता।

यह आतंक का वातावरण काल्पनिक नहीं था वास्तविक था, क्योंकि भौमियां लोग अपने उदयपुरवाटी क्षेत्र में किसी भी ऐसे व्यक्ति या समूह का प्रवेश नहीं करने देते जो काश्तकारों में किसी प्रकार की चेतना या जागृति पैदा करके उनके शोषण को समाप्त कर दे। इस प्रकार की मारपीट करते समय वे साफ तौर से आहत व्यक्ति या समूह को स्पष्ट रूप से बतला देते कि उदयपुरवाटी उनका एकाधिकार का क्षेत्र है, हमारे काश्तकारों को बहकाने या प्रचार करने को जो भी आएगा उसे हम निकाल देंगे या समाप्त कर देंगे।

इस ही प्रकार की एक घटना सन 1946-47 के आस पास हुई। गुढ़ा के पास हुकमपुरा के एक काश्तकार "हरलाल जाट" पर उन्हें यह सन्देह हो गया कि उसकी गतिविधियां विरोधी है और वह प्रजामण्डल या किसान कार्यकर्ताओं से सम्पर्क रखता है। बस एक दिन भौमियों के एक गिरोह ने उक्त हरलाल को जबरदस्ती उड़ा लिया और उसे गायब कर दिया।

हम लोगों ने स्थानीय पुलिस व तत्कालीन जयपुर राज्य के गृहमन्त्री तक इसकी शिकायत की और उसे खोज कराने की मांग की परन्तु पुलिस ने बराबर यही कहा कि ऐसी न तो हमारे थाने में रिपोर्ट की न ऐसी कोई घटना हुई। यहां तक कि पत्नी को तथा उसके सन्तान को पुलिस के सामने प्रस्तुत किया तो भी कोई सफलता नहीं मिली---इस घटना के लगभग 15-20 वर्ष बाद जब परिस्थितयों ने पलटा खाया तो उन भौमियों ने मेरे को उक्त हरलाल के अपहरण व हत्या का सारा विवरण बतलाया और कहा कि वे लोग पुलिस द्धारा पकड़े जाने और कार्यवाही के भय से उसकी लाश के टुकड़े टुकड़े करके उदयपुरवाटी के पहाड़ों की तली में तांबा व अन्य धातु खनिज के लिए खोदे गए कुँओं में डाल दिए थे।

सबसे बड़ी घटना फरवरी 1946 में हमारे चनाणा में किए गए किसान सम्मेलन में हुई। उक्त सम्मेलन का सभापति मैं मनोनीत किया गया था।


शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम, भाग-II, पृष्ठांत-42

उद्धघाटन करने के लिए जयपुर राज्य प्रजामण्डल के तत्कालीन सभापति श्री टीकाराम जी पालीवाल जयपुर से आए थे जो मुख्य अतिथि होकर उक्त सम्मेलन का उद्धघाटन करने वाले थे। लगभग इस क्षेत्र के सारे कार्यकर्ता उस सम्मेलन में उपस्थित थे।

जाट किसान पंचायत शेखावाटी को प्रजामण्डल में विलीन कर दिए जाने के कारण एक पक्ष हम लोगों का विरोधी था जो इस समारोह का विरोधी प्रचारक के रूप में गाँवों में प्रचार कार्य कर रहा था। सभा की कार्यवाही पुरानावास चनाणा पर हुई जो लगभग 2-3 फलांग के फासले पर गाँव से पड़ता था। ज्योहीं सभा शुरू कि चनाण के ठाकुर व उनके आश्रित लोग 20-25 ऊँटो पर तथा 3- 4 घोड़ों पर सवार व 30-40 पैदल चलने वाले बाजा बजाते हुए आए। सब लोग तलवार, बंदूक व लाठियों से सुसज्जित थे। नि:शस्त्र और शान्त जनता पर लाठी, फरसी का बार करना शुरू कर दिया और सभा के मण्डप को तथा हारमोनियम व साजबाज को तोड़ डाला और बंदूक के फायर किए जिससे सीथल गाँव का किसान घटना स्थल पर ही मारा गया और 15-20 किसान बंदूक के छर्रो से घायल हो गए।

सभा में भगदड़ मच गई और भौमियां दरी शामियाना व सारा सामान ऊँटों पर लादकर ले गए। इस सारे दृश्य को पुलिस का थानेदार अपने 5-7 सिपाहियों के साथ मौके पर खड़ा-खड़ा देखता रहा और कोई भी कार्यवाही नहीं की। इस सारी घटना का भी जागीरदारों पर कत्ल का मुकदमा तो पुलिस को बनता ही पड़ा परन्तु पुलिस बंदूक के छर्रों से घायल व आहत किसानों और हम कार्यकर्ताओं पर भी साथ ही में मुकदमा करने में नहीं चुकी।

इन सारी घटनाओं से भौमियों का हौसला बढ़ता जाता था, परन्तु जनता का उत्साह कम नहीं हुआ। भारतवर्ष को अंग्रेजी शासन से 1947 में मुक्ति मिली और देशी राज्यों के विलीनीकरण के बाद में 1949 में वर्तमान राजस्थान का निर्माण हुआ और 1950 में कल्याणकारी राज्य का संविधान लागू होकर 1952 में प्रथम आम चुनावों का समय आने तक राजस्थान में सन 1951 के अप्रैल में श्री जयनारायण व्यास के नेतृत्व में प्रथम लोकप्रिय मन्त्री मण्डल स्थापित हो चुका


शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम, भाग-II, पृष्ठांत-43

था और उसने जागीरदारी अबोलिशन एक्ट सन 51 में ही पास कर दिया था।

References

  1. "The Gandhian spirit". Financial Express. 2 January 2000.
  2. "In Bajaj family, business sense over-rules ties". Financial Express. 6 April 2012.
  3. "Jamnalal Bajaj Award". Jamnalal Bajaj Foundation.
  4. "History of Bajaj Auto".
  5. innovationsofindia
  6. Shekhawati Ke Gandhi Amar Shahid Karni Ram/Ek Mahan Balidan,pp.40-43

Back to General Leaders