Morija

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Location of Morija in Jaipur District

Morija (मोरीजा) village is in Chomu tahsil of Jaipur district in Rajasthan.

Location

It is in east of Chomu.

Jat Gotras

History

जयपुर स्टेट में आजादी के बाद 20 मई 1948 को गाँव मोरीजा तहसील चौमू में किसान चेतना के अग्रदूत रहे, किसान श्री लूण करण , उनके पिता खूबा राम तथा भाई राम प्रताप को तत्कालीन जागीरदार ने अपने 200 -300 हथियार बंद लोगों के साथ उनकी पूरी ढाणी के निवासियों के साथ घेर कर गोलियों से केवल इसलिए भून दिया कि देश तो आजाद हो गया परन्तु भूमि का बंदोबस्त स्वतंत्र रूप से चुनी गयी सरकार के किसी महकमे द्वारा हस्तगत नहीं किया गया जा सका था और प्रयास तब रियासती सामंतों द्वारा यह किया जाता रहा कि जमीन जागीरदारों की बपौती है और इस पर वह किसान से खेती करवाकर लगान (हासिल) वसूलने का अधिकार रखता है. [1]

Notable persons

  • श्री लूण करण , उनके पिता खूबा राम तथा भाई राम प्रताप - किसान चेतना के अग्रदूत रहे, किसान - जागीरदार ने गोलियों से भून दिया.

External links

References

  1. Dr Mahendra Singh Arya, Dharmpal Singh Dudee, Kishan Singh Faujdar & Vijendra Singh Narwar: Ādhunik Jat Itihas (The modern history of Jats), Agra 1998, Section 9 pp. 21

Back to Jat Villages