Parbhani

From Jatland Wiki
(Redirected from Prabhavati)
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R)

Parbhani district map

Parbhani (परभणी) is a city and district in Maharashtra state of India.

Variants

Location

Parbhani is around 200 kms away from regional headquarters of Aurangabad while it is 491 km away from the state capital Mumbai.

Origin

In ancient times, Parbhani was known as Prabhavatinagari (प्रभावतीनगरी) [1] on account of the existence of a massive temple of Goddess Prabhavati. The name "Prabhavati" means goddess Lakshmi and Parvati.[2] Present name Parbhani is a corrupt form of Prabhavati.[3]

History

Parbhani was for over 650 years under Muslim rule, under the Deccan sultanates, the Mughals and later the Nizam of Hyderabad. The town remained a part of the Princely State of Hyderabad under the rulership of the Nizam until Operation Polo of the Indian Army in 1948. Thereafter it became part of the independent Republic of India. Until 1956 the town remained a part of Hyderabad State within India. Under the administrative reforms that year and the break-up of the State of Hyderabad, Parbhani and the adjacent towns were transferred to the multilingual Bombay State.[4] Since 1960 it has been a part of State of Maharashtra.[5]

परभणी

विजयेन्द्र कुमार माथुर[6] ने लेख किया है ...परभणी, महा., (p.530): इस जिले से पाषाण कालीन अवशेष प्राप्त हुए हैं. गोदावरी तथा उसकी सहायक नदियों की घाटियों में कंकड़ तथा चिकनी मिट्टी की स्तरों में परिमृत जीवों की हड्डियां मिली हैं. यह भूभाग अशोक के समय उसके राज्य के [p.531]: दक्षिणी भाग को जाने वाले मार्ग पर स्थित था. परभणी एक समय देवगिरि के यादव नरेशों के अधिकार में था. नगर में स्थित किला इसी काल का बना हुआ है. यादव नरेशों के समय में भगवान शिव की पूजा बहुत प्रचलित थी. परभणी जिले में वह घटनास्थलिया हैं जहां बहमनी रियासतों में से अहमदनगर तथा बरार में परस्पर लड़ाइयां हुई थी.

परभणी परिचय

परभणी नगर महाराष्ट्र राज्य मनमाड़-हैदराबाद के रेलमार्ग पर, दुधना नदी से लगभग 16 किमी दक्षिणी में स्थित है। परभणी का संबंध प्रभावती मंदिर से है, जिसे मुग़लकाल में जबरन मस्जिद बना दिया गया।

प्रमुख स्थल: एक औद्योगिक क्षेत्र की स्थापना के साथ ही परभणी नगर आधुनिक उधोगों के लिए लगातार आकर्षक बनता जा रहा है। शिवाजी उद्यान, रोशन ख़ान का क़िला और हज़रत सैयद शाह तुराबत की मज़ार (शहर से तीन किमी दूर) यहाँ के प्रमुख स्थल हैं।

कृषि: परभणी के आसपास का क्षेत्र पूर्णा, दुधना और गोदावरी नदियों के कारण महत्त्वपूर्ण है। ज्वार यहाँ की मुख्य फ़सल है, जिसके बाद गेहूँ, बाजरा, कपास, दलहन, तिलहन का स्थान आता है। यहाँ गन्ने की खेती का प्रचलन भी बढ़ गया है। यल्दारी और सिद्धेश्वर में बांधों के निर्माण से कृषि उत्पादन में वृद्धि हुई है। औद्योगिक विकास निगम कपास ओटाई और गांठ बनाने को बढ़ावा दे रहा है तथा कई छोटे स्थानों पर कारख़ाने स्थापित हो रहे हैं।

संदर्भ: भारतकोश-परभणी

External links

References

  1. ""Parbhani at a glance"". parbhani.nic.in.
  2. "Meaning of Prabhavati". bachpan.com.
  3. "Parbhani District Gazetteers chapter 1". Cultural.maharashtra.gov.in.
  4. "Aurangabad | India". Britannica.com.
  5. "Parbhani, Nizam, and post 1947". parbhani.nic.in.
  6. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.530-531