Rameshwar Singh Meel

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
लेखक रामेश्वरसिंह

Rameshwar Singh Meel (born:31.7.1929) is an IAS officer from Rajasthan. His father was Thana Ram Meel, who was a leading Freedom fighter and took part in Shekhawati farmers movement in Rajasthan. He is father of Dr Virendra Singh, a specialist in Respiratory diseases and Director of Asthma Bhawan Jaipur, Rajasthan.

He is author of a book Shekhawati Ke Gandhi Amar Shahid Karni Ram (शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम)

रामेश्वरसिंह का परिचय

रामेश्वरसिंह का जन्म गांव भोजासर के साधारण किसान परिवार में 31 जुलाई 1929 को हुआ. चमरिया कॉलेज फतेहपुर से सन 1949 में इंटरमीडिएट परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण कर राजपूताना विश्वविद्यालय में द्वितीय स्थान प्राप्त किया. बिरला कॉलेज पिलानी से 1951 में b.a. तथा 1953 में महाराजा कॉलेज से m.a. पास किया. दोनों ही परीक्षाओं में विश्वविद्यालय की योग्यता सूची में सर्वोच्च स्थान मिला और दो स्वर्ण पदक प्राप्त किए. सन 1955 में प्रथम श्रेणी में कानून की परीक्षा पास की. अध्ययन के दौरान फतेहपुर व पिलानी में कई अछूतोद्धार कार्यक्रम चलाये और अछूतों के मोहल्ले में प्रौढ़ पाठशालायें चलाई.

सन् 1955 में राजस्थान प्रशासनिक सेवा में प्रवेश तथा सन् 1977 में भारतीय प्रशासनिक सेवा में पदोन्नति, सन 1976 में प्रशासक नगर परिषद अजमेर के पद पर उल्लेखनीय कर्तव्यपरायणता के लिए योग्यता योग्यता प्रमाण पत्र. जिलाधीश बांसवाड़ा, सवाई माधोपुर, सचिव राजस्थान राज्य विद्युत मंडल आदि पदों पर कार्य किया. वर्तमान में आयुक्त, भू प्रबंध विभाग में. जहां भी रहे, गरीब और बेसहारा लोगों को पूरी मदद करने की कोशिश की.

करणी राम पर पुस्तक

शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम

पुस्तक: शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम

लेखक: रामेश्वरसिंह

प्रथम संस्करण: 2 अक्टूबर, 1984

प्रकाशक: चंवरा शहीद स्मारक समिति, झुंझुनू (राजस्थान), मूल्य रु. 51/-


पुस्तक समीक्षा: प्रस्तुत पुस्तक में धरती के वीर पुत्र शहीद करणीराम अमर एवं गौरव गाथा अंकित है. लेखक ने सफलतापूर्वक जहां अपने नायक करणीराम के बहुविध गुणों, सिद्धांतों, आदर्शों एवं संकल्पों का चित्रण किया है वहां तत्कालीन राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का भी विचारोत्तेजक परिचय कराया है. करणी राम को देव लोके हुए तीन दशकों से भी ज्यादा समय व्यतीत हो चुका है परंतु ऐसे महान पुरुष के जीवन के बारे में कोई विश्वसनीय प्रकाशन नहीं हुआ था. आज देश की वर्तमान परिस्थितियों में अलगाववादी शक्तियां देश के लिए एक जबरदस्त चुनौती दे रही हैं. ऐसे मौके पर शहीदों का स्मरण एवं उनकी उपलब्धियों की जानकारी समाज एवं राष्ट्र को दी जानी चाहिए ताकि राष्ट्र की अखंडता एवं सुरक्षा को कायम रखा जा सके, अतः वर्तमान परिपेक्ष में इस पुस्तक की उपयोगिता और भी बढ़ जाती हैं.

श्री रामेश्वर सिंह भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं और शहीद करणी राम के आदर्श गांव भोजासर के ही निवासी हैं. उन्होंने शहीद करणी राम के बारे में तथा समसामयिक परिस्थितियों के संबंध में जो कृति प्रस्तुत की है वह वास्तव में सराहनीय प्रयास है. निश्चित रूप से युवा पीढ़ी इस पुस्तक से प्रेरणा ग्रहण कर समाज एवं राष्ट्र की सेवा में अग्रसर होगी.

मेरी मान्यता है कि राज्य सरकार को चाहिए कि इस प्रकार की पुस्तकों को बच्चों के पाठ्यक्रम में सम्मिलित करें ताकि बच्चों के दिल में देश प्रेम की भावना संचारित हो और वे देश के उज्जवल भविष्य के निर्माण में सहायक हों.

कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी, प्रधान संपादक, दैनिक नवज्योति, अध्यक्ष राजस्थान स्वतंत्रता सेनानी संगठन जयपुर

नोट: लेखक को डॉ. वीरेद्र सिंह द्वारा पुस्तक शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम उपलब्ध कराई गई है जिसका ऑनलाइन संस्करण यहाँ देखे - शेखावाटी के गांधी अमरशहीद करणीराम

External links

References