Hameerwas Bara

From Jatland Wiki
(Redirected from Hamirwas)
Jump to navigation Jump to search
Location of Hameerwas in Churu district

Hameerwas Bara (हमीरवास बड़ा) (Hamirwas) is a village in Rajgarh tahsil of Churu district in Rajasthan. PIN Code -331305.

Location

The Founders

It was founded by Hameera Punia hence the name Hameerwas.

Jat Gotras

History

There were two Punia brothers: Kalu and Hamira. Kalu Punia founded Kalri village and Hamira Punia founded Hamirwas.

बागड़ मेल

पुस्तक 'बागड़ मेल'
4 अक्टूबर, 1947 को प्रकाशित बीकानेर राजपत्र

6 जून 1947 को चुरू जिले के हमीरवास में एक बड़े किसान आन्दोलन के जलसे में रात भर आपने जोशीले गाने गाये एवं महाशय धर्मपाल सिंह भालोठिया की बीकानेर रियासत के विरूद्ध लिखी हुई भजनों की पुस्तक बागड़ मेल जनता में वितरित की गई।

इस पुस्तक की रचनाओं ने आन्दोलनों में जोश एवं चिनगारी का काम किया। हमीरवास जलसे की सम्पूर्ण पुलिस खुफिया रिपोर्ट बीकानेर पहुँचने पर तत्कालीन बीकानेर रियासत के प्रधानमंत्री, गृहमंत्री एवं इन्सपैक्टर जनरल आफ पुलिस ने मीटिंग कर 17 जून 1947 को भालोठिया जी के धारा 108 (सी. आर. पी. सी.) के तहत गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिए गए । 25 सितम्बर, 1947 को भालोठिया की पुस्तक बागड़ मेल को बगावती, सरकार विरोधी एवं गैर कानूनी ठहराते हुए बीकानेर पब्लिक सेफ्टी एक्ट की धारा 16 के तहत बीकानेर रियासत ने इसे प्रतिबंधित करने का नोटिफिकेशन जारी किया एवं 4 अक्टूबर, 1947 को प्रकाशित बीकानेर राजपत्र में इस नोटिफिकेशन को छपवाया गया।

इस पुस्तक की लोकप्रियता का अन्दाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि यह पुस्तक किसी के पास मिलने पर उसे 6 महिने की जेल की सजा एवं जुर्माने की घोषणा भी उक्त एक्ट की धारा 18 के तहत बीकानेर राजपत्र में रियासत ने करवाई थी। गिरफ्तारी वारंट, बागड़ मेल को प्रतिबंधित करन के आदेश, 4 अक्टूबर 1947 को प्रकाशित बीकानेर राजपत्र एवं रियासत में तीन वर्षों के दौरान विभिन्न जगहों पर मीटिगों में प्रमुख वक्ता के रूप में भाग लेने की इन्सपैक्टर जनरल आफ पुलिस की साप्ताहिक खुफिया रिपोर्टों का विवरण व बागड़ मेल की जब्त मूल प्रति आज भी बीकानेर सरकारी अभिलेखागार में उपलब्ध हैं। आपकी पुस्तक आजादी की गूँज एवं जनता मेल की क्रान्तिकारी रचनाओं ने भी अंग्रेजों की नाक में दम कर दिया था।

Population

As per Census-2011 statistics, Hameerwas Bara village has the total population of 2831 (of which 1469 are males while 1362 are females).[1]

Notable Persons

  • Norang Singh Punia (चौधरी नौरंगसिंह पूनिया), from village Hameerwas Bara (हमीरवास), Rajgarh, Churu, was a social worker and freedom fighter in Churu, Rajasthan.[2]
  • D. C. Dudi - Date of Birth : 10-August-1964, HOD( Geography) Department, VPO Hamirwas, Rajgarh Churu, Present Address : 51/188, Aman villa, Mansarovar, Jaipur, Mobile Number : 9414462203
  • Jat farmers who took part in freedom movement and abolition of Jagirs from Hameerwas village are:1. Norangram Jat, 2. Lal Chand Jat, 3. Ramji Lal Jat, 4. Master Yudhistir, 5. Ch Jiwan Ram.
  • धुडनाथ जोगी, हमीरवास - भजनोपदेशक और समाज सुधारक [3]
  • Jee Ram Jhajharia, Hamirwas, Worker of Rajgarh Kisan Sabha[4]
  • Chandagi Ram Sangwan, Hamirwas, Worker of Rajgarh Kisan Sabha[5]
  • Jai Singh Punia, Hamirwas, Worker of Rajgarh Kisan Sabha[6]
  • Kanhi Ram Punia, Hamirwas, Worker of Rajgarh Kisan Sabha[7]
  • Ram Singh Punia, Hamirwas, Worker of Rajgarh Kisan Sabha[8]
  • Lal Chand - Hamirwas, Worker of Rajgarh Kisan Sabha[9]
  • Nihal Singh Punia, Teacher, Ph:01559-246207.[10]
  • Pratibha Punia - RAS

External Links

References

  1. http://www.census2011.co.in/data/village/70235-hameerwas-bara-rajasthan.html
  2. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.159-160
  3. Ganesh Berwal: 'Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh', 2016, ISBN 978.81.926510.7.1, p.7
  4. Ganesh Berwal: 'Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh', 2016, ISBN 978.81.926510.7.1, p.167
  5. Ganesh Berwal: 'Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh', 2016, ISBN 978.81.926510.7.1, p.169
  6. Ganesh Berwal: 'Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh', 2016, ISBN 978.81.926510.7.1, p.169
  7. Ganesh Berwal: 'Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh', 2016, ISBN 978.81.926510.7.1, p.170
  8. Ganesh Berwal: 'Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh', 2016, ISBN 978.81.926510.7.1, p.170
  9. Ganesh Berwal: 'Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh', 2016, ISBN 978.81.926510.7.1, p.60
  10. Ganesh Berwal: 'Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh', 2016, ISBN 978.81.926510.7.1, p.96

Back to Jat Villages