Kulhariyon Ka Bas

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Location of Chirawa in Jhunjhunu district

Kulhariyon Ka Bas (कुलहरियों का बास) near Pilani is a village in Chirawa tahsil in Jhunjhunu district of Rajasthan.

Founders

Kulhari Jats

Jat Gotras

History

बीबासर में लगान वसूली

बीबासर में लगान वसूली - 5 जनवरी 1946 को मंडावा ठिकाने के कर्मचारी गाँव बीबासर में लगान लेने पहुंचे. उन्होंने किसानों को धमकाना शुरू कर दिया. किसी भी तरीके से लगान लेना चाहते थे. कुछ भयभीत किसानों ने लगान दे दिया था. सत्यदेव सिंह के नेतृत्व में वहां किसान कार्यकर्ताओं ने धरना दिया. हरदेव सिंह बीबासर, भौरु सिंह तोगडा सहित आस-पास के गाँवों के अनेक किसान कार्यकर्ताओं का जमघट लग गया. धरना रात-दिन निरंतर चलता था. किसान रात को समय बिताने के लिए वे देशभक्ति के गीत गाने लगे. सत्य देव सिंह धरना स्थल से थोड़ा हटकर घूम रहे थे. सहसा ही गोली चलने की आवाज आई. धरना-स्थल के किसान चोकन्ने हो गए. उन्हें लगा की ठिकानेदारों के कारिंदों ने गोली चलाई है. लेकिन कारिंदों में कोई हलचल नहीं हुई. बाद में पता लगा कि बीबासर गाँव का डकैत सूरजभान वहीँ पहाड़ी पर छिपा हुआ था. अँधेरा होने पर उसने ठिकानेदारों का कैम्प समझकर गोली चलादी. सौभाग्य से गोली किसी को लगी नहीं. असलियत प्रकट होने पर सूरजभान ने भी खेद प्रकट किया. रात को ही पुलिस गाँव में आ गयी थी. यह देख कर सूरजभान वहां से तुरंत फरार हो गया. [1]

पुलिस ने बीबासर में 17 किसानों को गिरफ्तार किया ये सभी पैदल जाने को तैयार नहीं थे. पुलिस के पास ऐसी गाड़ी नहीं थी, जिसमें पंद्रह व्यक्ति बैठ सकें. गिरफ्तार किसानों को वहीँ छोड़ दिया गया. धरना बराबर चलता रहा. आखिर 15 जनवरी को पुलिस द्वारा बीबासर गाँव से 13 कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर जयपुर सेन्ट्रल जेल में डाल दिया. इनमें प्रमुख थे - 1. सत्यदेव सिंह देवरोड़, 2. भैरू सिंह तोगडा, गाँव टिड्डियापुरा के 3. ओंकार सिंह, 4. सुरजन सिंह, 5. जयनारायण, 6. तेजसिंह, गाँव फतेहसरा के 7. लादू राम व 8. राम कँवर सिंह, गाँव बीबासर के 9.अर्जन व 10.पन्ना, बाकरा के 11. भानी राम, कुलड़िया बास के 12.पेमा राम, बाडलवास के 13. नाथू सिंह. बाद में ताड़केश्वर शर्मा को 16 जनवरी 1946 को झुंझुनू में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. (डॉ पेमा राम 205)

Notable persons

External links

References

  1. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), प्रकाशक: कल्पना पब्लिकेशन, जयपुर, फोन: 0141 -2317611, संस्करण: 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, p. 192
  2. Jat Parivesh, September 2011, p. 19

Back to Jat Villages