Dandak

From Jatland Wiki
(Redirected from Dandaka)
Jump to navigation Jump to search

Dandakh (दांदक) Dandak (दांदक) Dandaka (दांदक) Dadak (दादक) are various names of gotra of Jats found in Rajasthan, Haryana and Madhya Pradesh. They fought Mahabharata War in Pandava's side

Origin

History

According to Rajatarangini[4]Dandaka was a very respectable man who was with the king Kalasha, father of Harsha (r.1089-1111 AD) king of Kashmir.

दंडक = दंडकवन = दंडकारण्य

विजयेन्द्र कुमार माथुर[5] ने लेख किया है ... दंडक = दंडकवन = दंडकारण्य (AS, p.421): रामायण काल में यह वन विंध्याचल से कृष्णा नदी के कांठे तक विस्तृत था. इसकी पश्चिमी सीमा पर विदर्भ और पूर्वी सीमा पर कलिंग की स्थिति थी. वाल्मीकि रामायण अरण्यकांड 1,1 में श्री राम का दंडकारण्य में प्रवेश करने का उल्लेख है-- 'प्रविश्य तु महारण्यं दंडकारण्यमात्मवान् रामो ददर्श दुर्धर्षस्तापसाश्रममंडलम्'.

लक्ष्मण और सीता के साथ रामचंद्रजी चित्रकूट और अत्रि का आश्रम छोड़ने के पश्चात यहां पहुंचे थे. रामायण में, दंडकारण्य में अनेक तपस्वियों के आश्रमों का वर्णन है. महाभारत में सहदेव की दिग्विजय यात्रा के प्रसंग में दंडक पर उनकी विजय का उल्लेख है--'ततः शूर्पारकं चैव तालकटमथापिच, वशेचक्रे महातेजा दण्डकांश च महाबलः' महा. सभा पर्व 31,36

सरभंगजातक के अनुसार दंडकी या दंडक जनपद की राजधानी कुंभवती थी. वाल्मीकि रामायण उत्तरकांड 92,18 के अनुसार दंडक की राजधानी मधुमंत में थी. महावस्तु (सेनार्ट का संस्करण पृ. 363) में यह राजधानी गोवर्धन या नासिक में बताई है. वाल्मीकि अयोध्या कांड 9,12 में दंडकारण्य के वैजयंत नगर का उल्लेख है. पौराणिक कथाओं तथा कौटिल्य के अर्थशास्त्र में दंडक के राजा दांडक्य की कथा है जिनका एक ब्राह्मण कन्या पर कुदृष्टि डालने से सर्वनाश हो गया था. अन्य कथाओं में कहा गया है भार्गव-कन्या दंडका के नाम पर ही इस वन का नाम दंडक हुआ था.

कालिदास ने रघुवंश में 12,9 में दंडकारण्य का उल्लेख किया है-- 'स सीतालक्ष्मणसख: सतयाद्गुरुमलोपयन्, विवेश-दंडकारण्यं प्रत्येकं च सतांमन:'. कालिदास ने इसके आगे 12,15 में श्रीराम के दंडकारण्य-प्रवेश के पश्चात उनकी भरत से चित्रकूट पर होने वाली भेंट का वर्णन है जिससे कालिदास के अनुसार चित्रकूट की स्थिति भी दंडकारण्य के ही अंतर्गत माननी होगी. रघुवंश 14,25 में वर्णन है कि अयोध्या-निवर्तन के पश्चात राम और सीता को दंडकारण्य के कष्टों की स्मृतियाँ भी बहुत मधुर जान पड़ती थी-- 'तयोर्यथाप्रार्थितमिंद्रियार्थानासेदुषो: सद्मसु चित्रवत्सु, प्राप्तानि दुखान्यपि दंडकेषु संचित्यमानानि सुखान्यभूवन'.

रघुवंश 13 में जनस्थान को राक्षसों के मारे जाने पर 'अपोढ़विघ्न' कहा गया है. जनस्थान को दंडकारण्य का ही एक भाग माना जा सकता है. उत्तररामचरित में भवभूति ने दंडकारण्य का सुंदर वर्णन किया है. भवभूति के अनुसार दंडकारण्य जनस्थान के पश्चिम में था (उत्तररामचरित, अंक-1).

Distribution in Madhya Pradesh

Dandak (दांदक) Jats live in districts: Dhar, Indore, Narsinghpur, Bhopal and Ratlam

Locations in Dhar city

Prakash nagar,

Villages in Indore district

Indore, Manpur, Sherpur Indore,

Villages in Barwani district

Talun[6]

Villages in Narsinghpur district

Banskuari, Barman Kalan, Linga, Mainakar (Narsinghpur), Mainawari,

Villages in Bhopal district

Kachhi Barkheda, Nipania Jat (Bhopal), Raipur (Bhopal),

Villages in Ratlam district

Villages in Ratlam district with population of Dandak (दांदक) gotra are: Ratlam 1,

Villages in Dhar district

Dandak (दांदक) Jats live in Dhar.

Villages in Indore district

Ghatabillod, Manpur,

Villages in Khargone district

Khargone, Mangariya,

Villages in Gwalior district

Lashkar (Gwalior), Sekra,

Villages in Datia district

Khadaua, Pachokhara Datia, Nogawan,

Distribution in Haryana

Villages in Bhiwani district

Mandholi Kalan[7]

Notable persons

  • Ram Singh Dandak (ठाकुर रामसिंह ) from Pachokhara, Datia, Madhya Pradesh, was a social worker and freedom fighter. ठाकुर रामसिंह जी - [पृ.555]: दतिया राज्य की सेवड़ा तहसील में पचोखरा गांव में ठाकुर रामसिंह जी की जन्म भूमि है। गोत दांदक है। आप एक धनवान जमीदार हैं और कौम के कामों से हित रखते हैं। आप की अवस्था लगभग 42 साल है। आपके पिता ठाकुर कमोदसिंह जी थे। [8]
  • ठाकुर गणेशसिंह – [पृ.556]: दतिया राज्य की सेवड़ा तहसील में खड़ऊआ नाम के गांव में दांदक गोत्र के ठाकुर गणेशसिंह जी एक प्रसिद्ध जाट सरदार हैं। अवस्था आपकी लगभग 50 साल होगी। इसी गांव में इसी गोत्र के दूसरे जाट सरदार ठाकुर भवानीसिंह जी के सुपुत्र ठाकुर चित्तर सिंह जी हैं। आपकी उम्र 25 साल के आसपास है। दोनों ही संपन्न आदमी हैं।[9]
  • Leela Dhar Dandak - From Dhar, Editor Jat Vaibhav Smarika Khategaon, 2010. Address - Prakash Nagar, Manpur House, Dhar. Mob:9425046425: श्री लीलाधर दांदक मूलरुप से ग्राम मानपुर तहसील महू जिला इंदौर के निवासी हैं । आपके पिता जी स्व. श्री कृपाराम जी दांदक थे । स्व श्री कृपाराम जी लोक निर्माण विभाग में ओव्हरसियर (उप यंत्री ) थे । एल.एल.बी.तक शिक्षित श्री लीलाधर पहले जिलाध्यक्ष कार्यालय धार में सेवारत थे । बाद में आपने शासकीय सेवा से त्याग पत्र देकर वकालत का पेशा चुना । वर्तमान में आप धार में वकालत करते हैं । आपकी पत्नी धार में उच्च श्रेणी शिक्षक हैं ।
  • Sardar Singh Dandak - Dhar, MP आप स्व ठाकुर बद्री सिंह दांदक के बड़े सुपुत्र हैं । ठाकुर बद्री सिंह एक सम्पन् किसान परिवार से थे । आपके पास लगभग 900,बीघा कृषि भूमि थी । श्री सरदार सिंह जी के दो पुत्र हैं । बड़े पुत्र श्री हरदेव सिंह जाट हैं । ये घाटाबिल्लोद धार क्षेत्र के बड़े व्यवसायी हैं । धार जिला कांग्रेस के पदाधिकारी रहे हैं । क्षेत्र में आपका अच्छा नाम है ।

इनके दूसरे बेटे श्री संतोष सिंह जाट हैं । इनका व्यवसाय भी बिजनेस है। स्व श्री बद्री सिंह जी के छोटे बेटे श्री राज कुमार सिंह (काका जी) है ।आपका घाटाबिल्लोद और इंदौर में बिजनेस है । आप मृदुभाषी और व्यवहार कुशल व्यक्ति हैं ।

References


Back to Gotras