Hastinapura

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R)

Location of Hastinapura in north-eastof Mawana in Meerut district

Hastinapura (हस्‍तिनापुर) or Hastinapur is a town in Mawana tahsil in Meerut district in the Indian state of Uttar Pradesh.

Variants

  • Hastinapura हस्तिनापुर = हास्तिनपुर, जिला मेरठ, उ.प्र., (AS, p.1014)
  • Hastinapura हास्तिनपुर दे. हस्तिनापुर (p.1020)
  • Gajapura (गजपुर) = Hastinapura (हस्तिनापुर) (AS, p.272)
  • Gajasahvaya (गजसाह्वय) = Hastinapura (हस्तिनापुर) (AS, p.272)
  • Hāstinapura (हास्तिनपुर) (AS, p.1016)
  • Nagasahvaya (नागसाह्वय) (AS, p.487) (AS, p.1016)
  • Hastigrama (हस्तिग्राम) (AS, p.1006), (AS, p.1016)
  • Asandivat (आसन्दीवत्) (AS, p.1016)
  • Brahmasthala (ब्रह्मस्थल) (AS, p.1016)
  • Ulatakheda उलटखेड़ा (AS, p.1016)
  • Vudara Ka Tila विदुर का टीला (AS, p.1016)

Population details

There are two towns of this name in Mawana tahsil of Meerut district:

  • 1.Hastinapur Kaurwan - The total geographical area of this village is 954.57 hectares. Hastinapur Kaurwan has a total population of 35 peoples. There are about 9 houses in Hastinapur Kaurwan village.[1]
  • 2.Hastinapur Pandwan - The total geographical area of this village is 954.57 hectares. Hastinapur Pandwan has a total population of 726 peoples. There are about 136 houses in this village.[2]

Mention by Panini

Hastinapura (हास्तिनपुर) is mentioned by Panini in Ashtadhyayi. [3]


V S Agarwal[4] mentions.... Hastinapura (हास्तिनपुर) (VI.2.101), same as Hastinapur (हस्तिनापुर) on the Ganga in Meerut district.

History

V. S. Agrawala[5] writes that Panini mentions Pura (IV.2.122) ending names of towns like Hastinapura - the well known town of epic in Meerut district.


V. S. Agrawala[6] writes that Ashtadhyayi of Panini mentions janapada Kuru (कुरु) (IV.1.172) - It was known to Panini as a janapada and a Kingdom. Hastinapura (VI.2.101) was its capital. The region between triangle of Thanesar, Hisar and Hastinapur was known by three different names. Kururashtra proper between Ganga River and Yamuna with its capital Hastinapur; Kurujangala equal to Rohtak, Hansi, Hisar; and Kurukshetra to the north with its centres at Thaneswar, Kaithal, Karnal.


In the line of Bharata, the son of Shakuntala, there was a king named Hasti who founded this city, which has, therefore, been called Hastinapura. Hasti married Yasodhara, the princess of Trigarta.[7]

Hastinapura was the capital of the kingdom of the Kauravas, belonging to the Kuru dynasty of kings. The throne of this city was the prize over which the Kurukshetra War of the epic Mahabharata was fought. All incidents in the epic Mahabharata have taken place in this city of Hastinapura. The first reference to Hastinapur in Hindu mythology comes as the capital of Emperor Bharata.

History of this place begins from the period of Mahabharata. It is also described as Gajpur, Hastinapur, Nagpur, Asandivat, Brahmasthal, Shanti Nagar and Kunjarpur etc. in Shashtras. Grandson of Samrat Ashoka, king Samprati had built many temples here during his empire. The ancient temple & the stoops are not present today since this city has come across through many ups & downs like the Mughal Invasion which destroyed and devastated most of the Hindu religious places. Hastinapur city was located on the earlier course of the of holy river Ganga.

Excavation at Hastinapur was carried out in early 1950s, by B.B. Lal, of the Archaeological Survey of India. Although the main aim of this excavation, mentioned by Lal himself, "was to find out the stratigraphic position of the Painted Grey Ware with reference to other known ceramic industries of the early historical period"[8], Lal could not resist attempting a correlation between Mahabharata, the text, and the material remains that he uncovered at Hastinapur. This exercise led him to historicize some of the traditions mentioned in the text, as well as link the appearance of the Painted Grey Ware with the arrival of the "Aryans" in upper Ganga basin areas.

Excavation at Hastinapur, Kurukshetra and Surrounding sites

Hastinapur and Surroundings: Excavations were conducted at Hastinapur (29°9'; 78°3', Dt Meerut ,Uttar Pradesh ) in 1950-52 by B.B.Lal on behalf of the ASI. Hastinapur, which is located between Meerut and Mawana in Uttar Pradesh is now a forgotten village, but the 1952 excavations revealed a few interesting discoveries which are highly debatable as whether they can be really correlated with the Mahabharata period.

After the archaeological excavations at ‘Vidura-ka-tila’, a collection of several mounds ,some being 50 to 60 feet high and extending a few furlongs, named after Vidura, a site 37 km (23 miles) north-east of Meerut, it was concluded to be remains of the ancient city of Hastinapur, the capital of Kauravas and Pandavas of Mahabharata, which was washed away by Ganges floods. In the archaeological excavations around hastinapur, about 135 iron objects which included arrow and spearheads, shafts, tongs, hooks, axes, and knives were found, which indicate the existence of a vigorous iron industry. There are indications of brick – lined roads and drainage systems, and an agro – livestock based economy. The painted grey ware (PGW) of Hastinapura has been assigned to 2800 BCE and beyond.

Further excavations at what is today referred to as Draupadi–ki–rasoi (Draupadi’s Kitchen) and Draupadi Ghat resulted in the finding of copper utensils, iron seals, Ornaments made of gold and silver, terracotta discs and several oblong shaped ivory dice used in the game of chauper, all dating to around 3000 BC. These places are visited frequently by tourists since the excavations.

Kota venkatachalam assigns 3138 B.c., as the year of Mahabharata War according to the calculations based on the movement of saptarishi mandala given in the text of Mahabharata Later, according to the Matsya and vayu puranas a heavy flood on the river Ganga destroyed Hastinapura and Nichakshu, the fifth king after Parikshit (Arjuna’s grand son) who ascended the throne after Kurukshetra war, shifted his capital to Kausambi, 50 kms from prayagraj. There is definite archaeological evidence of a massive flood level. The devastation by the Ganga is still visible in the thick clay soil. After the exile, the pandavas asked for three villages: Paniprastha, Sonaprastha and Indraprastha, generally identified with the modern panipat, Sonepat and Purana Kila in New Delhi. These sites have also yielded the same pottery and anti Quities. Building structures with drainage sytems and painted grey ware (PGW) were excavated at purana Qila.

Kurukshetra and Surroundings: Kurukshetra, now in Haryana, was the site kurukshtra war. Excavations here now yielded iron arrow and spearheads dated by Thermoluminence Test (TM) to 3100 B.C. (CIRCA). The Mahabharata mentions many small villages, tanks and hills, which are still identifiable. What is the historicity of the Mahabharata? Our doubting historians will never accept any of these finds unless they are supported by inscriptions, which will never be forthcoming as the earliest inscriptions belong to 300B.C.

Reference: Dwarka to Kurushetra. Dr. S. R. Rao. Journal of Marine Archaeology (1995-96).

Jat History

Ram Sarup Joon[9] writes....According to the Puranas and Mahabharata, King Yayati chose his second son Puru as heir to the throne. This branch, therefore, continued to stay in the same area and ruled Hardwar, Hastinapur and Delhi. King Hasti made Hastinapur and Pandavas Indraprastha as their capital. Porus who fought Alexander belonged to this branch, Poruswal, Phalaswal,Mirhan, Mudgil, Gill and a number of other Jat gotras are of the Puru branch.

हस्तिनापुर = हास्तिनपुर (जिला मेरठ, उ.प्र.)

हस्तिनापुर (AS, p.1014) : विजयेन्द्र कुमार माथुर [10] ने लेख किया है ....मेरठ से 22 मील उत्तर-पूर्व में गंगा की प्राचीन धारा के किनारे हस्तिनापुर बसा हुआ है। हस्तिनापुर महाभारत के समय में, कौरवों की वैभवशाली राजधानी के रूप में भारत भर में प्रसिद्ध था। प्राचीन नगर गंगा तट पर स्थित था, किन्तु अब नदी यहां से कई मील दूर हट गई है। गंगा की पुरानी धारा जिसे 'बूढ़ी गंगा' कहते हैं, यहां के प्राचीन टीलों के समीप बहती है।

नगर की स्थापना : पौराणिक किंवदंती के अनुसार नगर की स्थापना पुरुवंशी वृहत्क्षत्र के पुत्र हस्तिन् ने की थी और उसी के नाम पर यह नगर हस्तिनापुर कहलाया। हस्तिन् के पश्चात् अजामीढ़, दक्ष, संवरण और कुरु क्रमानुसार हस्तिनापुर में राज्य करते रहे। कुरु के वंश में ही शांतनु और उनके पौत्र पांडु तथा धृतराष्ट्र हुए, जिनके पुत्र पाण्डव और कौरव कहलाए।

महाभारत के युद्ध के समय हस्तिनापुर बड़ा विशाल नगर था। महाभारत आदिपर्व में इसका वर्णन इस प्रकार है- p.1015]: 'नगरं हास्तिनपुरं शनैः प्रविविशुस्तदा। पांडवानागतांञ्छ्रुत्वा त्वा नागरास्तु कुतूहालात्, मंडयांचकिरेतत्र नगरं नागसाह्वयम। मुक्तपुष्पावकीर्ण तज्जलसिक्तं तु सर्वश:, घूपितं दिव्यघूपेन मंडनैश्चापि संवृतम्। पताकोछ्रितमाल्यमं च पुरमप्रतिमंबभौ, शंबभेरीनिनादैश्चनागवादित्रनि:स्वनै:। कौतूहलेन नगरं दीप्यमानमिवाभवत, तत्र ते पुरुषव्याघ्रा: दु:खशोकविनाशना:।' महाभारत, आदिपर्व 206, 14-दाक्षिणात्य पाठ, 15

कहा जाता है कि महाभारत के समय हस्तिनापुर राज्य की उत्तरी सीमा शुक्करताल (मुज़फ़्फ़रनगर ज़िला), दक्षिणी सीमा 'पुष्पवटी' (पूठ, बुलंदशहर ज़िला)) और पश्चिमी सीमा 'वारणावत (=बरनावा, मेरठ ज़िला) तक थी। पूर्व की ओर गंगा प्रवाहित होती थी। गढ़मुक्तेश्वर शायद यहां का एक उपनगर था और मेरठ या मयराष्ट्र भी इसकी परिसीमा के भीतर स्थित था। (दि मानुमेंटल एंटिक्विटीज एण्ड इंसक्रिप्शंस ऑव एन डब्ल्यू प्राविंसेज, 1891) मेरठ से 15 मील उत्तर-पूर्व में स्थित मवाना (मुहाना) नामक ग्राम को हस्तिनापुर का प्रमुख द्वार कहा जाता है। (दे.हस्तिनापुर, शिक्षा विभाग, उत्तर प्रदेश, पृ. 2) महाभारत आदिपर्व 125,9 में हस्तिनापुर के वर्धमान नामक पुरद्वार का उल्लेख है। पांडु की मृत्यु के पश्चात् शतश्रंग से हस्तिनापुर आते समय कुंती अपने पुत्रों सहित इसी द्वार से राजधानी में प्रविष्ट हुईं थी - 'सात्वदीर्घेण कालेन सम्प्राप्ता: कुरुजांगलम्, वर्धमानपुरद्वारमाससाद यश-स्विनी।'

महाभारत के युद्ध के पश्चात: महाभारत के युद्ध के पश्चात हस्तिनापुर की पूर्व गरिमा समाप्त हो गई। विष्णुपुराण से ज्ञात होता है कि बलराम ने कौरवों पर क्रोध करके उनके नगर हस्तिनापुर को अपने हल की नोंक से खींच कर गंगा में गिराना चाहा था, किंतु पीछे उन्हें क्षमा कर दिया; किन्तु उसके पश्चात् हस्तिनापुर गंगा की ओर कुछ झुका हुआ-सा प्रतीत होने लगा था- 'बलदेवस्ततोगत्वा नगरं नागसाहृयम् बाह्योपवनमध्येऽभून्नविवेशतत्पुरम्।' विष्णुपुराण 5,35,8. 'अद्याप्याघूर्णिताकारं लक्ष्यते तत्गुरं द्विज, एष प्रभावो रामस्य बलशौयोलक्षणः।' विष्णुपुराण 5,35,37.

इससे जान पड़ता है कि हस्तिनापुर को गंगा की धारा से भय कौरवों के समय में ही उत्पन्न हो गया था। [[Parikshita|परीक्षित के वंशज निचक्षु या निचक्नु के समय में तो वास्तव में ही गंगा ने हस्तिनापुर को बहा दिया और उसे इस नगर को छोड़कर वत्स देश की प्रसिद्ध नगरी कौशाम्बी में जाकर बसना पड़ा था- 'अधिसीमकृष्णान्निचक्नुः यो गंगया पह्ते हस्तिनापुरे कौशम्बयां निवत्स्यति।' विष्णुपुराण 21,7-78; (दे. पार्जिटर-डायनेस्टजी ऑव दि कलि एज, पृ. 5)

पुरातत्वों की खोजों से भी उपरोक्त तथ्य की पुष्टि होती है। उत्खनन से ज्ञात होता है कि हस्तिनापुर की सर्वप्राचीन [p.1016]: बस्ती 1000 ई. पूर्व से पहले की अवश्य थी और यह कई शतियों तक स्थित रही। दूसरी बस्ती 900 ई. पू. के लगभग बसाई गई थी, जो 300 ई. पू. के लगभग तक रही। तीसरी बस्ती 200 ई. पू. से लगभग 200 ई. तक विद्धमान थी और अन्तिम 11वीं से 14वीं शती तक। इस प्रकार हस्तिनापुर का इतिहास कई बार बना और बिगड़ा।

हस्तिनापुर के पर्यायवाची नाम: परवर्ती काल में जैन धर्म के तीर्थ के रूप में इस नगर की ख्याति बनी रही। प्राचीन संस्कृत साहित्य में इस नगर के 'हास्तिनपुर' (पाणिनि 4, 2, 101), 'गजपुर', 'नागपुर', 'नागसाह्वय', 'हस्तिग्राम', 'आसन्दीवत्' और 'ब्रह्मस्थल' आदि नाम मिलते हैं। कहा जाता है कि हाथियों के बहुतायत के कारण इस प्रदेश का प्रथम नाम 'गजपुर' था, पीछे राजा हस्तिन के नाम पर यह हस्तिनापुर कहलाया और महाभारत के युद्ध के पश्चात् यह नाग जाति का प्रमुख होने से 'नागपुर' या 'नागसाह्वय' कहलाया। ये सब पर्यायवाची नाम हैं। 'आसंदीवत्' का बौद्ध साहित्य (दे.अवदान, 2 पृ. 359) में उल्लेख है। संभव है 'विष्णुपुराण' के उर्पयुक्त उल्लेख के अनुसार गंगा की ओर झुके होने के कारण ही यह नाम पड़ा हो।(आसंदी = कुर्सी). इस उल्लेख में इसे 'कुरुट्ठ' (कुरुराष्ट्र) की राजधानी बताया गया है। 'वसुदेव हिंडि' नामक ग्रंथ में 'ब्रह्मस्थल' नाम भी मिलता है। यह जैन ग्रंथ है।

कालिदास ने 'अभिज्ञान शाकुंतलम्' में दुष्यंत की राजधानी हस्तिनापुर का उल्लेख किया है। दुष्यंत से 'गंघर्व विवाह' होने के पश्चात् शकुंतला ऋषि कुमारों के साथ कण्वाश्रम से दुष्यंत की राजधानी हस्तिनापुर गई थी- 'अनुसूये त्वरस्व, स्वरस्व, एतेखलु हस्तिनपुरगामिनः ऋषयः शब्दाय्यान्ते।'--अंक 4. हस्तिनापुर के पूर्व की ओर गंगा के पार उस समय विस्तृत घना वन प्रदेश था, जहां दुष्यंत आखेट के लिए गया था और जहां मालिनी के तट पर कण्वाश्रम में उसकी भेंट शकुंतला से हुई थी। यह वन गढ़वाल की तराई क्षेत्र में स्थित था तथा इसका विस्तार बिजनौर तथा गढ़वाल के इलाके में था। वर्तमान हस्तिनापुर नामक ग्राम में, जो इसी नाम से आज तक प्रसिद्ध है, प्राचीन नगर के खंडहर, ऊंचे-नीचे टीलों की श्रृंखलाओं के रूप में दूर-दूर तक फैले हैं। मुख्य टीला 'बिदुर का टीला' या 'उलटखेड़ा' कहलाता है। इसकी खुदाई से अनेक प्राचीन अवशेष प्रकाश में आये हैं।

जैन-परंपरा में हस्तिनापुर: जैन-परंपरा में हस्तिनापुर का काफी महत्व रहा।जैन ग्रंथ 'विविधतीर्थकल्प' के अनुसार महाराज ऋषभदेव ने अपने सम्बंधी कुरु को कुरूक्षेत्र का राज्य दे दिया था। इन्हीं कुरु के पुत्र हस्ति ने हस्तिनापुर को भागीरथी के किनारे बसाया था। हस्तिनापुर में शान्ति, कुंधु और अरनाध तीर्थंकरों का जन्म हुआ था। ये क्रमशः 16वें, 17वें और 18वें तीर्थंकर थे। 5वें, 6वें और 7वें तीर्थंकरों ने यहाँ कैवल्य ज्ञान प्राप्त किया

[पी.1017]:था। हस्तिनापुर नरेश बाहुबली के पौत्र श्रेयांश के निवास स्थान पर ऋषभदेव ने प्रथम उपवास का पारण किया था। विष्रग कुमार नामक जैन साधु जिन्होंने नमुचि नामक दैत्य को वश में किया था, हस्तिनापुर ही के निवासी थे। इनके अतिरिक्त सनत्कुमार, महापद्म, सुभूभ और परशुराम का जन्म भी हस्तिनापुर में हुआ था। यहाँ चार चैत्यों का निर्माण किया गया था।

हस्तिनापुर परिचय

हस्तिनापुर उत्तर प्रदेश में मेरठ के निकट स्थित महाराज हस्ती का बसाया हुआ एक प्राचीन नगर, जो कौरवों और पांडवों की राजधानी थी। इसका महाभारत में वर्णित अनेक घटनाओं से संबंध है। महाभारत से जुड़ी सारी घटनाएँ हस्तिनापुर में ही हुई थीं। अभी भी यहाँ महाभारत काल से जुड़े कुछ अवशेष मौजूद हैं। इनमें कौरवों-पांडवों के महलों और मंदिरों के अवशेष प्रमुख हैं। इसके अलावा हस्तिनापुर को चक्रवर्ती सम्राट भरत की भी राजधानी माना जाता है। यहाँ स्थित 'पांडेश्वर महादेव मंदिर' की काफ़ी मान्यता है। कहा जाता है यह वही मंदिर है, जहाँ पांडवों की रानी द्रौपदी पूजा के लिए जाया करती थी। पौराणिक काल में हस्तिनापुर के राजा का नाम अधिसीम कृष्ण था।

महाभारतकालीन महानगरों की श्रेणी में हस्तिनापुर भी आता था। इसकी स्थापना 'हस्तिन्' नामक व्यक्ति द्वारा की गई थी। इसीलिये इसे 'हस्तिनापुर' कहा जाता था। हस्तिनापुर में युधिष्ठिर जुए में द्रौपदी सहित अपना सब कुछ हार गए थे। पांडवों की ओर से शांतिदूत बनकर श्रीकृष्ण यहीं धृतराष्ट्र की सभा में आए थे। अपने पिता शांतनु की सत्यवती से विवाह करने की इच्छा पूरी करने के लिए भीष्म पितामह ने अपना उत्तराधिकार छोड़ने और आजीवन अविवाहित रहने का प्रण यहीं पर किया था। द्रौपदी से विवाह के बाद कुछ समय के लिए पांडवों ने दिल्ली के निकट इंद्रप्रस्थ को अपनी राजधानी बनाया था, किंतु महाभारत युद्ध के बाद उन्होंने हस्तिनापुर को ही राजधानी रखा।

महाभारत में इस नगर का खुला वर्णन मिलता है। इसके अनुसार विभिन्न शस्त्रों द्वारा सुरक्षित होने के कारण इस पुर के भीतर शत्रुओं का प्रवेश दुष्कर था। नगर के परकोटे में बने गोपुर (दरवाज़े) ऊँचे थे। नगर का भीतरी भाग राजमार्गों द्वारा विभक्त था। सड़कों के दोनों किनारों पर महल और बाज़ार सुशोभित थे। राजमहल नगर के बीच में स्थित था। इसमें अनेक सरोवर और उद्यान थे। नागरिक धर्मनिरत, होमपरायण, यज्ञादि में श्रद्धा रखने वाले, वर्णाश्रम-व्यवस्था के पोषक और धन-धान्य से सम्पन्न थे। सूत-मागध और बन्दी अपने-अपने कर्म में निरत थे। इनके द्वारा नगर की शोभा इतनी बढ़ गई थी कि वह इन्द्रलोक के समान सुन्दर लगता था।

पुराणों में कहा गया है कि जब गंगा की बाढ़ के कारण यह पुर विनष्ट हो गया, उस समय पाण्डव हस्तिनापुर को छोड़कर कौशाम्बी चले आये थे। यह घटना झूठी नहीं मानी जा सकती। हस्तिनापुर और कौशाम्बी में जो खुदाइयाँ हाल में हुई हैं, उनसे इसकी पुष्टि हो चुकी है। अब विद्वान इस बात को मानने लगे हैं कि गंगा की बाढ़ ने हस्तिनापुर को सचमुच ही किसी समय बहा दिया था। कौशाम्बी के कुछ प्राचीन बर्तन बनावट में हस्तिनापुर के बर्तनों के तुल्य हैं। इससे प्रमाणित होता है कि गंगा की बाढ़ के कारण पाण्डव हस्तिनापुर को छोड़कर कौशाम्बी में बस गये थे। हस्तिनापुर की आधुनिक खुदाइयों ने वहाँ की प्राचीन कला और संस्कृति पर प्रकाश डाला है। वहाँ के नागरिक अपने बर्तनों पर भूरे रंग की पालिश चढ़ाते थे। यह प्रथा मथुरा, इन्द्रप्रस्थ तथा महाभारतकालीन अन्य नगरों में भी प्रचलित थी। इससे सिद्ध होता है कि उनका सामाजिक जीवन एकाकी नहीं था। वे एक-दूसरे से कोई बहुत दूर भी नहीं थे। जलमार्ग से एक-दूसरे से वे लगे हुये थे, अत:एइन महापुरियों के निवासियों के बीच सांस्कृतिक सम्बन्ध कोई अनहोनी बात नहीं मानी जा सकती।

जैन समुदाय के बीच हस्तिनापुर को एक प्रमुख तीर्थ माना जाता है। हस्तिनापुर जैन धर्मावलंबियों का भी प्रसिद्ध तीर्थ है। यहाँ जैन धर्म के कई तीर्थंकरों का जन्म हुआ था। यही वजह है कि यहाँ काफ़ी संख्या में जैन मंदिर मौजूद हैं। यहीं पर राजा श्रेयांस ने आदितीर्थकर ऋषभदेव को गन्ने के रस का दान दिया था। इसलिए इसको 'दानतीर्थ' कहते हैं। इसका संबंध शांतिनाथ, कुन्थुनाथ और अरनाथ नामक तीर्थकरों से भी है। यहाँ भगवान शान्तिनाथ, कुन्थुनाथ, अरहनाथ के चार-चार कल्याणक हुए हैं। यहाँ अनेक जैन धर्मशालाएं और मंदिर हैं। खुदाई में यहाँ अनेक प्राचीन खंडहर मिले हैं। इनमें क़रीब 200 साल पुराना बड़ा मंदिर, जंबूद्वीप, कैलाश पर्वत, अष्टापद जी, कमल मंदिर और ध्यान मंदिर मुख्य हैं। प्राचीन बड़ा मंदिर में हस्तिनापुर की नहर की खुदाई के दौरान प्राप्त हुई जिन प्रतिमाओं को देखा जा सकता है। इन मंदिरों को काफ़ी सुंदर और कलात्मक तरीक़े से बनाया गया है।

हस्तिनापुर पहला ऐसा तीर्थ स्थान है, जो हिन्दू और जैनों के साथ सिक्खों का भी पवित्र तीर्थ है। हस्तिनापुर के पास ही स्थित 'सैफपुर' सिक्ख धर्म के पंच प्यारों में से एक भाई धर्मदास की जन्मस्थली है। देश भर के श्रद्धालु यहाँ स्थित पवित्र सरोवर में डुबकी लगाने के लिए आते रहते हैं।

हस्तिनापुर में साल में कई छोटे-बड़े मेले लगते हैं। इनमें अक्षय तृतीया, होली और 2 अक्टूबर का मेला प्रमुख है। अक्षय तृतीया को देश भर से श्रद्धालु यहाँ भगवान को गन्ने के रस का आहार कराने के लिए आते हैं। यदि किसी को होली के रंग पसंद नहीं आते, तो हस्तिनापुर उनके लिए इनसे बचने की एक बेहतरीन जगह साबित हो सकता है। दुल्हैंडी वाले दिन यहाँ लगने वाले मेले में देश भर से होली नहीं खेलने वाले लोग आते हैं। साथ ही 2 अक्टूबर को लगने वाले मेले में भी काफ़ी भीड़ उमड़ती है।

संदर्भ: भारतकोश-हस्तिनापुर

गजपुर

विजयेन्द्र कुमार माथुर[11] ने लेख किया है ...गजपुर = हस्तिनापुर (p.272) - गजपुर को जैन सूत्र 'प्रज्ञापणा' ने कुरुक्षेत्र के अंतर्गत माना है.

खांडवप्रस्थ

विजयेन्द्र कुमार माथुर[12] ने लेख किया है कि....खांडवप्रस्थ (AS, p.255) हस्तिनापुर के पास एक प्राचीन नगर था जहां महाभारतकाल से पूर्व पुरुरवा, आयु, नहुष तथा ययाति की राजधानी थी. कुरु की यह प्राचीन राजधानी बुधपुत्र के लोभ के कारण मुनियों द्वारा नष्ट कर दी गई. युधिष्ठिर को, जब प्रारंभ में, द्यूत-क्रीडा से पूर्व, आधा राज्य मिला तो धृतराष्ट्र ने पांडवों से खांडवप्रस्थ में अपनी राजधानी बनाने तथा फिर से उस प्राचीन नगर को बसाने के लिए कहा था. (महाभारत आदि पर्व, 206 दक्षिणात्य पाठ) तत्पश्चात पांडवों ने खांडवप्रस्थ पहुंच कर उस प्राचीन नगर के स्थान पर एक घोर वन देखा. (आदि पर्व: 206, 26-27). खांडवप्रस्थ के स्थान पर ही इंद्रप्रस्थ नामक नया नगर बसाया गया जो भावी दिल्ली का केंद्र बना. खांडवप्रस्थ के निकट ही खांडववन स्थित था जिसे श्रीकृष्ण और अर्जुन ने अग्निदेव की प्रेरणा से भस्म कर दिया. खांडवप्रस्थ का उल्लेख अन्यत्र भी है. पंचविंशब्राह्मण 25,3,6 में राजा अभिप्रतारिन् के पुरोहित द्दति खांडवप्रस्थ में किए गए यज्ञ का उल्लेख है. अभिप्रतारिन् जनमेजय का वंशज था. जैसा पूर्व उद्धरणों से स्पष्ट है, खांडवप्रस्थ पांडवों के पुराने किले के निकट बसा हुआ था. (दे. इंद्रप्रस्थ, हस्तिनापुर)

खांडववन

विजयेन्द्र कुमार माथुर[13] ने लेख किया है कि....खांडवप्रस्थ के स्थान पर पांडवों की इंद्रप्रस्थ नामक नई राजधानी बनने के पश्चात अग्नि ने कृष्ण और अर्जुन की सहायता से खांडववन को भस्म कर दिया था. इसमें कुछ अनार्य जातियाँ जैसे नाग और दानव लोगों का निवास था जो पांडवों की नई राजधानी के लिए भय उपस्थित कर सकते थे. तक्षकनाग इसी वन में रहता था और यहीं मयदानव नामक महान यांत्रिक का निवास था जो बाद में पांडवों का मित्र बन गया और जिसनेइंद्रप्रस्थ में युधिष्ठिर का अद्भुत सभा भवन बनाया. खांडववन-दाह का प्रसंग महाभारत आदि पर्व 221 से 226 में सविस्तर वर्णित है. कहा जाता है कि मयदानव का घर वर्तमान मेरठ (मयराष्ट्र) के निकट था और खांडववन का विस्तार मेरठ से दिल्ली तक, 45 मील के लगभग था. महाभारत में जलते हुए खांडववन का बड़ा ही रोमांचकारी वर्णन है. (आदि पर्व 224,35-36-37). खांडववन के जलते समय इंद्र ने उसकी रक्षा के लिए घोर वृष्टि की किन्तु अर्जुन और क़ृष्ण ने अपने शस्त्रास्त्रों की सहायता से उसे विफल कर दिया.

इंद्रप्रस्थ

विजयेन्द्र कुमार माथुर[14] ने लेख किया है कि....इंद्रप्रस्थ वर्तमान नई दिल्ली के निकट पांडवों की बसाई हुई राजधानी थी. महाभारत आदि पर्व में वर्णित कथा के अनुसार प्रारंभ में धृतराष्ट्र से आधा राज्य प्राप्त करने के पश्चात पांडवों ने इंद्रप्रस्थ में अपनी राजधानी बनाई थी. दुर्योधन की राजधानी लगभग 45 मील दूर हस्तिनापुर में ही रही. इंद्रप्रस्थ नगर कोरवों की प्राचीन राजधानी खांडवप्रस्थ के स्थान पर बसाया गया था--

'तस्मातत्वं खांडवप्रस्थं पुरं राष्ट्रं च वर्धय, ब्राह्मणा: क्षत्रिया वैश्या: शूद्राश्च कृत निश्चया:। त्वदभ्क्त्या जंतग्श्चान्ये भजन्त्वेव पुरं शुभम्' महाभारत आदि पर्व 206

अर्थात धृतराष्ट्र ने पांडवों को आधा राज्य देते समय उन्हें कौरवों के प्राचीन नगर वह राष्ट्र खांडवप्रस्थ को विवर्धित करके चारों वर्णों के सहयोग से नई राजधानी बनाने का आदेश दिया. तब पांडवों ने श्री कृष्ण सहित खांडवप्रस्थ पहुंचकर इंद्र की सहायता से इंद्रप्रस्थ नामक नगर विश्वकर्मा द्वारा निर्मित करवाया--'विश्वकर्मन् महाप्राज्ञ अद्यप्रभृति तत् पुरम्, इंद्रप्रस्थमिति ख्यातं दिव्यं रम्य भविष्यति' महाभारत आदि पर्व 206.

इस नगर के चारों ओर समुद्र की भांति जल से पूर्ण खाइयाँ बनी हुई थी जो उस नगर की शोभा बढ़ाती थीं. श्वेत बादलों तथा चंद्रमा के समान उज्ज्वल परकोटा नगर के चारों ओर खींचा हुआ था. इसकी ऊंचाई आकाश को छूती मालूम होती थी--


[पृ.76]: इस नगर को सुंदर और रमणीक बनाने के साथ ही साथ इसकी सुरक्षा का भी पूरा प्रबंध किया गया था तीखे अंकुश और शतघ्नियों और अन्यान्य शास्त्रों से वह नगर सुशोभित था. सब प्रकार की शिल्प कलाओं को जानने वाले लोग भी वहां आकर बस गए थे. नगर के चारों ओर रमणीय उद्यान थे. मनोहर चित्रशालाओं तथा कृत्रिम पर्वतों से तथा जल से भरी-पूरी नदियों और रमणीय झीलों से वह नगर शोभित था.

युधिष्ठिर ने राजसूय यज्ञ इंद्रप्रस्थ में ही किया था. महाभारत युद्ध के पश्चात इंद्रप्रस्थ और हस्तिनापुर दोनों ही नगरों पर युधिष्ठिर का शासन स्थापित हो गया. हस्तिनापुर के गंगा की बाढ़ से बह जाने के बाद 900 ई. पू. के लगभग जब पांडवों के वंशज कौशांबी चले गए तो इंद्रप्रस्थ का महत्व भी प्राय समाप्त हो गया. विदुर पंडित जातक में इंद्रप्रस्थ को केवल 7 क्रोश के अंदर घिरा हुआ बताया गया है जबकि बनारस का विस्तार 12 क्रोश तक था. धूमकारी जातक के अनुसार इंद्रप्रस्थ या कुरूप्रदेश में युधिष्ठिर-गोत्र के राजाओं का राज्य था. महाभारत, उद्योगपर्व में इंद्रप्रस्थ को शक्रपुरी भी कहा गया है. विष्णु पुराण में भी इंद्रप्रस्थ का उल्लेख है.

आजकल नई दिल्ली में जहाँ पांडवों का पुराना किला स्थित है उसी स्थान के परवर्ती प्रदेश में इंद्रप्रस्थ की स्थिति मानी गई है. पुराने किले के भीतर कई स्थानों का संबंध पांडवों से बताया जाता है. दिल्ली का सर्वप्रचीन भाग यही है. दिल्ली के निकट इंद्रपत नामक ग्राम अभी तक इंद्रप्रस्थ की स्मृति के अवशेष रूप में स्थित है.

शक्रावतार

विजयेन्द्र कुमार माथुर[15] ने लेख किया है कि.... अभिज्ञानशाकुंतल, अंक 5 के उल्लेख अनुसार हस्तिनापुर जाते समय शक्रावतार के अंतर्गत सचीतीर्थ में गंगा के स्रोत में शकुंतला की अंगूठी गिरकर खो गई थी-- नूनं ते शक्रावताराभ्यंतरे सचीतीर्थसलिले वंदमानाया: प्रभ्रष्टमं अंगुलीयकम्. यह अंगूठी शक्रावतार के धीवर को एक मछली के उदर से प्राप्त हुई थी--शृणुत इदानीम् अहं शक्रावतारवासी धीवर: अंक-6. सचीतीर्थ में गंगा की विद्यमानता का उल्लेख इस प्रकार है-- सचीतीर्थंवंदमानाया: सख्यास्ते हस्ताद्गंगास्तोत्रसि परिभ्रष्टमं- अंक-6. हमारे मत में शक्रावतार का अभिज्ञान जिला मुजफ्फरनगर (उत्तर प्रदेश) में गंगा तट पर स्थित शुक्करताल नामक स्थान से किया जा सकता है. शुक्करताल, शक्रावतार का ही अपभ्रंश जान पड़ता है. यह स्थान मालन नदी के निकट स्थित मंडावर (जिला बिजनौर) के सामने गंगा की दूसरी ओर स्थित है. मंडावर में कण्व आश्रम की स्थिति परंपरा से मानी जाती है. मंडावर से हस्तिनापुर (जिला मेरठ) जाते समय शुक्करताल गंगा पार करने के पश्चात दूसरे तट पर मिलता है और इस प्रकार कालिदास द्वारा वर्णित भौगोलिक परिस्थिति में यह अभिज्ञान ठीक बैठता है. शुक्करताल का संबंध शुकदेव से बताया जाता है और यह स्थान अवश्य ही बहुत प्राचीन है. बहुत संभव है कि शक्रावतार का शक्र ही शुक्कर बन गया है और इस शब्द का सुखदेव से कोई संबंध नहीं है (दे. मॉडर्न रिव्यू नवंबर 1951, में ग्रंथकर्ता का लेख 'टोपोग्राफी ऑफ अभिज्ञान शाकुंतल'). महाभारत 84,29 (III.82.25) में उल्लिखित शक्रावर्त भी यही स्थान जन पड़ता है.

दिल्ली

विजयेन्द्र कुमार माथुर[16] ने लेख किया है ... दिल्ली (AS, p.434): दिल्ली की संसार के प्राचीनतम नगरों में गणना की जाती है. महाभारत के अनुसार दिल्ली को पहली बार पांडवों ने इंद्रप्रस्थ नाम से बसाया था (देखें इंद्रप्रस्थ), किंतु आधुनिक विद्वानों का मत है कि दिल्ली के आसपास--उदाहरणार्थ रोपड़ (पंजाब) के निकट, सिंधु घाटी सभ्यता के चिन्ह प्राप्त हुए हैं और पुराने किले के निम्नतम खंडहरों में आदिम दिल्ली के अवशेष मिलें तो कोई आश्चर्य नहीं. वास्तव में, देश में अपनी मध्यवर्ती स्थिति के कारण तथा उत्तर पश्चिम से भारत के चतुर्दिक भागों को जाने वाले मार्गों के केंद्र पर बसी होने से दिल्ली भारतीय इतिहास में अनेक साम्राज्यों की राजधानी रही है. महाभारत के युग में कुरु प्रदेश की राजधानी हस्तिनापुर में थी. इसी काल में पांडवों ने अपनी राजधानी इंद्रप्रस्थ में बनाई. जातकों के अनुसार इंद्रप्रस्थ 7 कोस के घेरे में बसा हुआ था. पांडवों के वंशजों की राजधानी इंद्रप्रस्थ में कब तक रही यह निश्चय पूर्वक नहीं कहा जा सकता किंतु पुराणों के साक्ष्य के अनुसार परीक्षित तथा जनमेजय के उत्तराधिकारी ने हस्तिनापुर में भी बहुत समय तक अपनी राजधानी रखी थी और इन्हीं के वंशज निचक्षु ने हस्तिनापुर के गंगा में बह जाने पर अपनी नई राजधानी प्रयाग के निकट कौशांबी में बनाई. (देखें पार्टीजर, डायनेस्टीज ऑफ दि कलि एज-पृ.5).

Hastinapura described by James Tod

According to James Todd[17] Hastinapura was built by Hastin a name celebrated in the Lunar dynasties. The name of this city is still preserved on the Ganges, about forty miles south of Hardwar, where the Ganges breaks through the Siwalik mountains and enters the plains of India. This mighty stream, rolling its masses of waters from the glaciers of the Himalaya, and joined by many auxiliary streams, frequently carries destruction before it. In one night a column of thirty feet in perpendicular height has been known to bear away all within its sweep, and to such an occurrence the capital of Hastin is said to have owed its ruin. [18] As it existed, however, long after the Mahabharata, it is surprising it is not mentioned by the historians of Alexander, who invaded India probably about eight centuries after that event. In this abode of the sons of Puru resided Porus, one of the two princes of that name, opponents of Alexander, and probably Bindusara the son of Chandragupta, surmised to be the Abisares [19] and Sandrakottos of Grecian authorities. Of the two princes named Porus mentioned by Alexander's historians, one resided in the very cradle of the Puru dynasties ; the abode of the other bordered on the Panjab : warranting an assertion that the Pori of Alexander were of the Lunar race, and destroying all the claims various authors [20] have advanced on behalf of the princes of Mewar.

Hastin sent forth three grand branches, Ajamidha, Dvimidha, and Purumidha. Of the two last we lose sight altogether ; but Ajamidha's progeny spread over all the northern parts of India, in the Panjab and across the Indus. The period, probably one thousand six hundred years before Christ.


[p.50]: From Ajamidha1 in the fourth generation, was Bajaswa, who obtained possessions towards the Indus, and whose five sons gave their name, Panchala, to the Panjab, or space watered by the five rivers. The capital founded by the younger brother, Kampila, was named Kampilnagara. 2

The descendants of Ajamidha by his second "wife, Kesini, founded another kingdom and dynasty, celebrated in the heroic history of Northern India. This is the Kausika dynasty.

In Mahabharata

Hastinapura (हास्तिनपुर) (City) is mentioned in Mahabharata (I.90.36), (I.90.37), (I.90.77), (1.95),(II.31.1),(III.48.26), (III.252), (V.19.28),

Gajasahvaya (गजसाह्वय) is mentioned in Mahabharata (XIV.14.16)


Adi Parva, Mahabharata/Mahabharata Book I Chapter 90 mentions History and family tree of Puru, Bharatas and Pandavas commencing from Daksha. Origin of Hastinapura (हास्तिनपुर) (City) is mentioned in Mahabharata (I.90.36) and (I.90.37) [21]....And he begat upon her a son Suhotra who married Suvarna, the daughter of Ikshvaku. To her was born a son named Hasti who founded this city, which has, therefore, been called Hastinapura. And Hasti married Yasodhara, the princess of Trigarta.


Aswamedha Parva, Mahabharata/Book 14 Chapter 14 describes wonders of the Himalaya mountains. Gajasahvaya (गजसाह्वय) is mentioned in Mahabharata (XIV.14.16).[22]....And then the foremost descendant of Kuru again performed with Dhritarashtra the funeral rites (of the heroes slain in battle), and having given away immense wealth to the Brahmanas, the Pandava chief with Dhritarashtra in advance, made this entry into the city of Gajasahvaya (गजसाह्वय) (Hastina Nagar), and consoling his lordly uncle, possessed of eyes of wisdom (Chakshu), that virtuous prince continued to administer the earth with his brothers.

Present day location

In the present day Hastinapura is a small town in the Doab region of Uttar Pradesh, called Hastinapur, 37 km from Meerut and 110 km from Delhi. Geographical Details: Situated at 29 degree 09'31.50 degree North & 77 degree 59'19.46" East. Hastinapur is 120 KM North-East of Delhi on Delhi-Meerut-Bijnore Highway. You need to take a turn to Bijnore highway from Meerut from where Hastinapur is approx 39 KM away. Hastinapur is a small town. Population is approx. 20,000. Regular buses are available from 7 AM to 9 PM from Meerut which is the nearest Railway station (42km). Nearest Airport: New Delhi. (120 km)

The antiquity of the present location of Hastinapur is testified by the existence of ancient Shiva-lingas worshipped by the venerable Best of Munis, Sage Ved Vyas, by the Pandavas, by Draupadi, and Guru Dronacharya.

Parikshitgarh (परीक्षितगढ़)

Presence of the township of Parikshitgarh, close by at a distance of 10 miles, further solidifies the definite geographical location of Hastinapur. The town of Parikshitgarh is named after Parikshit, the grandson of Arjuna, who became king of Hastinapur when the five brothers renounced the world and went into the Himalayas. Both the towns are similarly located on small hillocks which were the original fortresses at these locations. A massive inundation about 3000 years ago during a great flood in the Ganges totally drowned the cities and left them choked with silt up to roof level.

References

  1. https://villageinfo.in/uttar-pradesh/meerut/mawana/hastinapur-kaurwan.html
  2. https://villageinfo.in/uttar-pradesh/meerut/mawana/hastinapur-pandwan.html
  3. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p. 54, 64, 71
  4. V S Agarwal: India as Known to Panini, p.71, sn. 19.
  5. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.64
  6. V. S. Agrawala: India as Known to Panini, 1953, p.54
  7. Adi Parva, Mahabharata
  8. B.B. Lal, ' Excavation at Hastinapur and other explorations in the Upper Ganga and Sutlej Basins 1950-52', Ancient India, No. 10&11, 1954 & 1955, ASI, New Delhi.
  9. History of the Jats/Chapter II,p. 31-32
  10. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.1014-1017
  11. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.272
  12. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.255
  13. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.256
  14. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.75-76
  15. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.887
  16. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.434
  17. James Todd Annals/Chapter 4 Foundations of States and Cities by the different tribes,p.49-50
  18. Wilford says this event is mentioned in two Puranas as occurring in the sixth or eighth generation of the Great War. Those who have travelled in the Duab must have remarked where both the Ganges and Jumna have shifted their beds.
  19. Abisares is Abhisara in the modern Kashmir State (Smith, EHI, 59).
  20. Sir Thomas Roe ; Sir Thomas Herbert ; the Holstein ambassador (by Olearius) ; Delia Valle ; Churchill, in his collection : and borrowing from these, D'Anville, Bayer, Orme, Rennell, etc.
  21. सुहॊत्रः खल्व इक्ष्वाकुकन्याम उपयेमे सुवर्णां नाम, तस्याम अस्य जज्ञे हस्ती, य इदं हास्तिनपुरं मापयाम आस (I.90.36) हस्ती खलु त्रैगर्तीम उपयेमे यशॊधरां नाम, तस्याम अस्य जज्ञे विकुण्ठनः (I.90.37)
  22. ततॊ दत्त्वा बहुधनं विप्रेभ्यः पाण्डवर्षभः, धृतराष्ट्रं पुरस्कृत्य विवेश गजसाह्वयम (XIV.14.16)

Back to Jat Villages