Delhi

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search

Delhi (दिल्ली) is the capital of India and is also the country's third largest city. Officially the National Capital Territory of Delhi (NCT), is a city and a union territory of India.

Variants

Origin

There are a number of myths and legends associated with the origin of the name Delhi. One of them is derived from Dhillu or Dilu, a king who built a city at this location in 50 BCE and named it after himself.[1][2]

Delhi city derives its name from the Dhillon Jats. [3]

Antiquity

Delhi was the site of the magnificent and opulent Indraprastha, capital of the Pandavas in the Indian epic Mahabharata, founded around 5000 BC. Hindu texts state that the city of Delhi used to be referred to in Sanskrit as Hastinapur, which means "elephant-city". A village called Indraprast existed in Delhi until the beginning of the 19th century. The British demolished the ancient village to make way for the construction of New Delhi in the late 19th century. Archaeological evidence suggests that Indraprastha once stood where the Old Fort is today. Excavations have unearthed shards of the grey painted ware (c. 1000 BC) that some archaeologists associate with the age of the Mahabharata, but no coherent settlement traces have been found.

The earliest architectural relics date back to the Maurya Period (c. 300 BC); since then, the site has seen continuous settlement. In 1966, an inscription of the Mauryan Emperor Ashoka (273-236 BC) was discovered near Srinivaspuri. Two sandstone pillars inscribed with the edicts of Ashoka were later brought to the city by Firuz Shah Tughluq in the 14th century. The famous Iron pillar near the Qutub Minar was commissioned by the emperor Kumara Gupta I of the Gupta dynasty (320-540) and transplanted to Delhi during the 10th century.

History

Prof. B.S. Dhillon[4] writes that Delhi: As the capital of India, it is also the country's third largest founded hundreds of years ago, Professor Qanungo[5] wrote, "It is not unlikely that this famous city derives its name from the Dhillon Jats, who are still found in large numbers in Delhi district". Bhim Singh Dahiya [6] supports Qanungo's assertion by adding, "Its (Delhi's) old name was Dhillika (ढिल्लिका) as is recorded in the inscription of Someswara Chauhan, in 1169 A.D. Later on the suffix "ka" was deleted and the city was named Dhilli". A well known Indian historian, Romila Thapar [7], indirectly said that Delhi in the earlier times was called "Dhillika". However, she wrote, "The city of Dhillika (Delhi) was founded by the Tomaras in 736 A.D. The Tomaras were overthrown by the Chauhans". In order to point out that Tomar and Chauhans are also the clan names of the Jats, Bhim Singh Dahiya [8] remarked, "For example, let us take the clan name Dahiya. Dahiyas in Haryana, Uttar Pradesh and Bhilwara area of Rajasthan (Haryana, Uttar Pradesh, and Rajasthan are the names of Indian Provinces) call themselves Jats. However, Dahiyas in Jodhpur area (Rajasthan) call themselves Rajputs (historical records show that some of the Rajputs also belong to the Jat background), and Dahiya is also the clan name of Gujars (these people are also related to the Jats). The same is true of other clan names like Tomar, Pawars, Dhanikhads, Bhattis, Johiyas, and so on".

As per Ferishta [9], a Persian writer of the early seventeenth century; "Dehloo (Dhillon in Punjabi is pronounced as "Dhilon" or "Dhilo") the uncle of the young king, aided by the nobles, having deposed him, ascended the musnud. This prince, as famous for his


History and study of the Jats:End of Page 103


justice as for his valour devoted his time to the good of his subjects, and built the city of Dehly". On the naming of the city of Delhi General Sir A. Cunningham [10] Director General of the Archeological Survey of India, conducted a comprehensive study in 1860s and published his report in the Journal of the Asiatic Society of Bengal. Sir Cunningham wrote, "According to a popular and well known tradition, Dilli or Dhilli (Delhi) was built by Rajah (king) Dilu or Dhilu, whose date is quite uncertain. This tradition was adopted by Ferishta [11] I confess, however, that I have but little faith in the dates of any Hindu untraditional stories, unless they can be supported by other testimony. That the city Dhilli was founded by a Rajah of similar name is probable enough, for it is the common custom in India, even at the present day, to name places after their founders". Taking all of the above factors into consideration, and being aware of the fact that in India, non-Jats never have clan names such as Dhilu, Dhilo, or Dhillon, it is probably safe to conclude that the city of Delhi was built by a Dhillon Jat king and also Dhillon Jats claim their origin from a king as per Rose [12].


Kumbhalgarh Inscription 1460 AD tells us about Dhilli as under:

"आलोडयासु सपादलक्षमखिलं जालान्धरान् कम्पयन्
ढिल्ली शंकितनायकां व्यरचयन्नादाय शाकम्भरी
पीरोजं स महामदं शरशतैरापात्य य: प्रोल्लसत्
कुंतव्रात निपात दीर्ण ह्रदयां तस्यवधीद् दंतिन:। "[13][14] [15]

Delhi (Siwalik) pillar inscriptions of Visaladeva-Vigraharaja of A.D. 1114

James Tod (Annals of Haravati) [16] writes that In the first place, it is of no small moment to be enabled to adjust the date of Beesildeo, the most important name in the annals of the Chohans from Manik Rae to Pirthi Raj, and a slip from the genealogical tree will elucidate our remarks.


[p.417]: The name of Beesildeo (Visaladeva) heads the inscription on the celebrated column erected in the centre of Feroz Shah's palace at Delhi. This column, alluded to by Chund, as "telling the fame of "the Chohan," was " placed at Nigumbode," a place of pilgrimage on the Jumna, a few miles below Dehli, whence it must have been removed to its present singular position. *

The inscription commences and ends with the same date, viz,, 15th of the month Bysakh, S. 1220. If correctly copied, it can have no reference to Beesildeo, excepting as the ancestor of Prativa Chahmana tilaca Sacambhari bhulpati; or 'Pirthi Raj Chohan, the anointed of Sambhur, Lord of the earth' who ruled at Dehli in S. 1220, and was slain in S. 1249, retaining the ancient epithet of 'Lord of Sambhur,' one of the early seats of their power. brought away an inscription of this, the last Chohan emperor, from the ruins of his palace at Hasi or Hansi, dated S. 1224. See comments thereon, Transactions of the Royal Asiatic Society, Vol I, p. 133. The second stanza, however, tells us we must distrust the first of the two dates, and read 1120 (instead of 1220), when Visaladeva "exterminated the barbarians" from Aryaverta. The numerals 1 and 2, in Sanscrit, are easily mistaken. If, however, it is decidedly 1220, then the whole inscription belongs to Prativa Chahmana, between whom and Visala no less than six princes intervene, and the opening is merely to introduce Pirthi Raj's lineage, in which the sculptor has foisted in the date.

I feel inclined to assign the first stanza to Visaladeva (Beesildeo), and what follows to his descendant Pirthi Raj, who by a conceit may have availed himself of the anniversary of the victory of his ancestor, to record his own exploits. These exploits were precisely of the same nature, — successful war against the Islamite, in which


[p.418]: each drove him from Aryavevia; for even the Mooslem writers acknowledge that Shahbudin was often ignominiously defeated before be finally succeeded in making a conquest of northern India.

If, as I surmise, the first stanza belongs to Beesildeo, the date is S. 1120, or A.D. 1064, and this grand confederation described by the Chohan bard was assembled under his banner, preparatory to the very success, to commemorate which the inscription was recorded.

दिल्ली

विजयेन्द्र कुमार माथुर[17] ने लेख किया है ... दिल्ली (AS, p.434): दिल्ली की संसार के प्राचीनतम नगरों में गणना की जाती है. महाभारत के अनुसार दिल्ली को पहली बार पांडवों ने इंद्रप्रस्थ नाम से बसाया था (देखें इंद्रप्रस्थ), किंतु आधुनिक विद्वानों का मत है कि दिल्ली के आसपास--उदाहरणार्थ रोपड़ (पंजाब) के निकट, सिंधु घाटी सभ्यता के चिन्ह प्राप्त हुए हैं और पुराने किले के निम्नतम खंडहरों में आदिम दिल्ली के अवशेष मिलें तो कोई आश्चर्य नहीं. वास्तव में, देश में अपनी मध्यवर्ती स्थिति के कारण तथा उत्तर पश्चिम से भारत के चतुर्दिक भागों को जाने वाले मार्गों के केंद्र पर बसी होने से दिल्ली भारतीय इतिहास में अनेक साम्राज्यों की राजधानी रही है. महाभारत के युग में कुरु प्रदेश की राजधानी हस्तिनापुर में थी. इसी काल में पांडवों ने अपनी राजधानी इंद्रप्रस्थ में बनाई. जातकों के अनुसार इंद्रप्रस्थ 7 कोस के घेरे में बसा हुआ था. पांडवों के वंशजों की राजधानी इंद्रप्रस्थ में कब तक रही यह निश्चय पूर्वक नहीं कहा जा सकता किंतु पुराणों के साक्ष्य के अनुसार परीक्षित तथा जनमेजय के उत्तराधिकारी ने हस्तिनापुर में भी बहुत समय तक अपनी राजधानी रखी थी और इन्हीं के वंशज निचक्षु ने हस्तिनापुर के गंगा में बह जाने पर अपनी नई राजधानी प्रयाग के निकट कौशांबी में बनाई. (देखें पार्टीजर, डायनेस्टीज ऑफ दि कलि एज-पृ.5).

मौर्य काल में दिल्ली या इंद्रप्रस्थ का कोई विशेष महत्व न था क्योंकि राजनैतिक शक्ति का केंद्र इस समय मगध में था. बौद्ध धर्म का जन्म तथा विकास भी उत्तरी भारत के इसी भाग तथा पार्श्ववर्ती प्रदेश में हुआ और इसी कारण बौद्ध धर्म की प्रतिष्ठा बढ़ने के साथ ही भारत की राजनीतिक सत्ता भी इसी भाग (पूर्वी उत्तर प्रदेश तथा बिहार) में केंद्रित रही. फलत: मौर्य काल के पश्चात लगभग 13 सौ वर्ष तक दिल्ली और उसके आसपास का प्रदेश अपेक्षाकृत महत्वहीन बना रहा.

हर्ष के साम्राज्य के छिन्न-भिन्न होने के पश्चात उत्तरी भारत में अनेक छोटी-छोटी रियासतें बन गई और इन्हीं में 12 वीं सदी में पृथ्वीराज चौहान की भी एक रियासत थी जिसकी राजधानी दिल्ली बनी. दिल्ली के जिस भाग में क़ुतुब मीनार है वह अथवा महरौली का निकटवर्ती प्रदेश ही पृथ्वीराज के समय की दिल्ली है. वर्तमान जोगमाया का मंदिर मूल रूप से इन्हीं चौहान नरेश का बनाया हुआ कहा जाता है. एक प्राचीन जनश्रुति के अनुसार चौहानों ने दिल्ली को तोमरों से लिया था जैसा कि 1327 ई. के एक अभिलेख से सूचित होता है--'देशोस्ति हरियाणाख्य: पृथिव्यां स्वर्गसन्निभ:, ढिल्लिकाख्या पुरी यत्र

[p.435]: तोमरैरस्ति निर्मिता। चहमाना नृपास्त्र राज्यं निहितकंटकम्, तोमरान्तरम् चक्रु: प्रजापालनतत्परा:'

यह भी कहा जाता है कि चौथी सदी ईस्वी में अनंगपाल तोमर ने दिल्ली की स्थापना की थी. इन्होंने इंद्रप्रस्थ के किले के खंडहरों पर ही अपना किला बनवाया. इसके पश्चात इसी वंश के सूरजपाल ने सूरजकुंड बनवाया जिसके खंडहर तुगलकाबाद के निकट आज भी वर्तमान हैं. तोमर वंशीय अनंगपाल द्वितीय ने 12 वीं सदी के प्रारंभ में लाल कोट का किला कुतुब के पास बनवाया. तत्पश्चात दिल्ली बीसलदेव चौहान तथा उनके वंशज पृथ्वीराज के हाथों में पहुंची. जनश्रुति के अनुसार क़ुतुब मीनार और कुव्वतुल इस्लाम मस्जिद पृथ्वीराज के इस स्थान पर बने हुए 27 मंदिरों के मसालों से बनवाई गई थी.

कुछ विद्वानों का मत है कि महरौली जहां कुतुब मीनार स्थित है-- पहले एक वृहद वेधशाला के लिए विख्यात थी. 27 मंदिर 27 नक्षत्रों के प्रतीक थे और कुतुब मीनार चांद-तारों आदि की गतिविधि देखने के लिए वेधशाला की मीनार थी. इन सभी इमारतों को कुतुबुद्दीन (r. 1206-1210) तथा परर्वती सुल्तानों ने इस्लामी इमारतों के रूप में बदल दिया. पृथ्वीराज के तराइन के युद्ध में (1192 ई.) मारे जाने पर दिल्ली पर मुहम्मद गोरी (1149 – 1206) का अधिकार हो गया. इस घटना के पश्चात लगभग साढ़े 6सौ वर्षों तक दिल्ली पर मुसलमान बादशाहों का अधिकार रहा और यह नगरी अनेक साम्राज्यो की राजधानी के रूप में बसती और उड़ती रही. मुहम्मद गौरी के पश्चात 1236 ई. में गुलाम वंश की राजधानी दिल्ली में बनी. इसी काल में कुतुब मीनार का निर्माण हुआ. गुलाम वंश के पश्चात अलाउद्दीन (r. 1296 to 1316) ने सीरी में अपनी राजधानी बनाई.

तुगलक कालीन दिल्ली वर्तमान तुग़लकाबाद में थी किंतु फिरोजशाह तुगलक (1351-1388 ई) के जमाने में इसका विस्तार दिल्ली दरवाजे के बाहर फिरोजशाह कोटला तक हो गया. तुगलकाबाद में मुहम्मद तुगलक (r. 1324 to 1351) का मकबरा है. तुगलकों के पश्चात लोदियों का कुछ समय तक दिल्ली पर कब्जा रहा.

1526 में पानीपत के युद्ध के पश्चात बाबर (1483–1530) ने दिल्ली पर अधिकार कर लिया बाबर और हुमायूं (r.1531–1540, 1555–1556) की राजधानी दिल्ली में ही रही. शेरशाह सूरी (1486 – 1545) ने भी 5 वर्ष दिल्ली में राज्य किया. अकबर (1542 – 1605) तथा जहांगीर (r. 1605 - 1627) के समय में दिल्ली का गौरव फतेहपुर सीकरी तथा आगरे ने कुछ समय तक के लिए छीन लिया था किंतु शाहजहां (r. 1628 - 1658) ने पुनः दिल्ली में अपनी राजधानी बनाई. वही शाहजहांबाद या चहारदीवारी के अंदर के शहर का निर्माता था. औरंगजेब (r.1658 - 1707) ने भी दिल्ली में ही अपने विशाल साम्राज्य की राजधानी कायम राखी. 1857 ई. तक मुगलों का राज्य किसी न किसी

[p.436]: रूप में दिल्ली में चलता रहा. 1857 की राज्य क्रांति के पश्चात अंग्रेजों ने दिल्ली से राजधानी उठाकर कलकत्ते को यह गौरव प्रदान किया किंतु 1910 ई. में दिल्ली को एक बार पुनः भारत की राजधानी बनने की प्रतिष्ठा प्रदान की.

1947 में दिल्ली स्वतंत्र भारत की राजधानी के रूप में अपनी पूर्व प्रतिष्ठा पर आसीन हुई. इस प्रकार आज भी भारत की राजधानी के रूप में दिल्ली की प्राचीन प्रतिष्ठा कायम है. दिल्ली के प्राचीनतम स्मारकों में महरौली में स्थित चंद्र नाम के किसी यशस्वी नरेश का विष्णुध्वज लोहस्तंभ सबसे अधिक प्रसिद्ध है. इस पर निम्न अभिलेख उत्कीर्ण है--

लौह स्तम्भ पर अंकित सन्देश
यस्य ओद्वर्त्तयः-प्रतीपमुरसा शत्त्रुन् समेत्यागतन् वङ्गेस्ह्वाहव वर्त्तिनोस्भिलिखिता खड्गेन कीर्त्तिर् भुजे,
तीर्त्वा सप्त मुखानि येन समरे सिन्धोर् ज्जिता वाह्लिकायस्याद्य प्यधिवास्यते जलनिधिर् व्विर्य्यानिलैर् दक्षिणाः,
खिन्नस्य एव विसृज्य गां नरपतेर् ग्गामाश्रितस्यैत्राम् मूर्(त्)या कर्म्म-जितावनिं गतवतः कीर्त्(त्)या स्थितस्यक्षितौ,
शान्तस्येव महावने हुतभुजो यस्य प्रतापो महान्नधया प्युत्सृजति प्रनाशिस्त-रिपोर् य्यत्नस्य शेसह्क्षितिम्,
प्राप्तेन स्व भुजार्जितां च सुचिरां च ऐकाधिराज्यं क्षितौ चन्द्राह्वेन समग्र चन्द्र सदृशीम् वक्त्र-श्रियं बिभ्राता,
तेनायं प्रनिधाय भूमिपतिना भावेव विष्नो (ष्नौ) मतिं प्राणशुर्विष्णुपदे गिरौ भगवतो विष्णौर्धिध्वजः स्थापितः
महरौली स्थित चंद्र का लोहस्तंभ अभिलेख [18]

चंद्र का अभिज्ञान चंद्रगुप्त द्वितीय से किया जाता है किंतु यह तथ्य विवादास्पद है. कहा जाता है कि पृथ्वीराज के नाना अनंगपाल ने यह लोह-स्तंभ मथुरा से लाकर यहां स्थापित किया था. यह स्तंभ सैकड़ों वर्षों से खुले हुए स्थान में बिना जंग खाए हुए खड़ा हुआ है. यह एक ही लोहे के खंड का बना है. इतना बड़ा लोह-दंड ढालने की निर्माणियां भारत में चौथी सदी ई. में थी यह जानकर प्राचीन भारत के धातु-कर्म-विशारदों के प्रति हमारा मस्तक आदर से झुक जाता है. कहा जाता है कि इस परिमाण का लोह-दंड इंग्लैंड तक में 19 वीं शती के प्रारंभ से पूर्व नहीं ढाला जा सकता था.

अशोक के दो प्रस्तर स्तंभ: इस लोह स्तंभ से प्राय: 600 वर्ष प्राचीन अशोक के दो प्रस्तर स्तंभ की दिल्ली में वर्तमान हैं. पहला स्तंभ तो सब्जी मंडी के निकट पहाड़ी पर है तथा दूसरा दिल्ली दरवाजे के बाहर फिरोजशाह कोटला में है. दोनों को फिरोजशाह तुगलक ने दिल्ली की शोभा बढ़ाने के लिए क्रमश: मेरठ तथा तोपरा (जिला अंबाला) से मंगवा कर स्थापित किया था. इस तथ्य का उल्लेख इब्नबतूता ने भी किया है. पहले स्तंभ पर अशोक के सात 'स्तंभ अभिलेख' उत्कीर्ण थे किंतु 1715 में इसको काफी क्षति पहुंचने के कारण इस पर का लेख मिटसा गया है.

दूसरा स्तंभ 46 फुट 8 इंच ऊंचा है. इस पर भी सात स्तंभ लेख अंकित हैं और स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं. दिल्ली का पुराना किला पांडवों के समय का बताया जाता है और जनश्रुति के अनुसार प्राचीन इंद्रप्रस्थ की स्थिति का परिचायक है. अवश्य ही इसका जीर्णोद्धार तथा संवर्धन परिवर्ती युग में हुआ होगा. शेरशाह का राजप्रसाद पुराने किले के भीतर था और यहीं उसकी बनवाई हुई कुहना (=पुरानी) मस्जिद है जो निश्चित रूप से किसी प्राचीन इमारत को परिवर्तित करके बनवाई गई थी. कहा जाता है कि यहां पंच पांडव

[p.437]: के समय का सभा भवन था जैसा कि इस इमारत के दालान में बने हुए 5 कोष्ठकों से प्रमाणित होता है. इस प्रकार के पांच कोष्टक किसी और मस्जिद में नहीं देखे जाते. पुराने किले के शेरमंडल नामक स्थान के अंतर्गत बने हुए पुस्तकालय की सीढ़ियों से गिरकर ही हुमायूं की मृत्यु हुई थी (1556 ई.).

क़ुतुब मीनार 238 फुट ऊंची है और भारत में पत्थर की बनी हुई सब मीनारों में सर्वोच्च है. इसे कुतुबुद्दीन ऐबक ने 1199 ई. में बनवाया था. तत्पश्चात इल्तुतमिश और फिरोजशाह तुगलक (1370 ई.) ने इसका संवर्धन तथा जीर्णोद्धार करवाया. इसमें पांच मजिलें हैं. प्रत्येक पर बाहर की ओर निकले हुए अलिंद बने हैं. मीनार के ऊपर अरबी में अभिलेख उत्कीर्ण हैं. मीनार की निचली सतह का व्यास 47 फुट 3 इंच और शीर्ष का केवल 9 फुट है. पहली तीन मंजिले लाल पत्थर की और अंतिम दो जो शायद फिरोज़शाह तुगलक की बनवाई हुई है-- संगमरमर की हैं. ये पहली मंजिलों से अधिक चिकनी व ऊँची हैं. मीनार में छोटी पर पहुँचने के लिए 379 सीढ़ियां हैं. प्राचीन जनश्रुतियों के अनुसार यह मीनार मूल रूप में पृथ्वीराज चौहान द्वारा अपनी प्रिय रानी संयोगिता के लिए बनवाया हुआ दीपस्तंभ था जिसे बाद में मुसलमान बादशाहों ने मीनार के रूप में बदल दिया. कुतुब मीनार के पास ही अलाउद्दीन खिलजी द्वारा प्रारंभ की हुई अलाई मीनार की कुर्सी के अवशेष हैं. यह मीनार अलाउद्दीन की मृत्यु के कारण आगे न बन सकी थी.

दिल्ली की वास्तुकला: दिल्ली की वास्तुकला का वास्तविक गौरव मुगलकालीन है. हुमायूं के मकबरे को 1565 ई. में उसकी बेगम हमीदा बानो ने बनवाया था. इसमें हमीदा की कब्र भी है. इसके अतिरिक्त विभिन्न कालों में बनी दारा शिकोह फरुखसियर तथा आलमगीर द्वितीय आदि की भी कब्रें यही स्थित हैं. कहा जाता है कि मुगल परिवार के तथा उससे संबंधित 90 से अधिक व्यक्तियों की कब्रें यहां हैं. 1857 की राज्यक्रांति में अंतिम मुगल सम्राट बहादुर शाह को मुगलों ने यही कैद किया था. यह मकबरा मुगल वास्तुकला का प्रारूपिक उदाहरण है.

लाल किला जो फर्ग्युसन के अनुसार शायद संसार का सर्वश्रेष्ठ राजप्रसाद है, 1639 और 1648 ई. के बीच शाहजहां द्वारा बनवाया गया था. दीवाने खास में जगप्रसिद्ध मयूर सिंहासन या तख्तेताऊस था जिसे शाहजहां ने, तत्कालीन यूरोपियन लेखकों के अनुसार 20 लाख पॉन्ड की लागत से बनवाया था. लाल किले के ठीक सामने कुछ दूर पर चांदनी चौक के पास भारत की सबसे बड़ी मस्जिद, जामा मस्जिद है. इसे शाहजहां ने 1650-58 में बनवाया था. इसके

[p.438]: तीन पट्टियोंदार कंदाकृति गुंबद और दो 130 फुट ऊँची व पतली मीनारें . ये विशेषताएं मुगलशैली की परिचायक हैं. बीच में विशाल प्रांगण है जिसके तीन और खुले हुए प्रकोष्ठ हैं और तीन और विशाल दरवाजे जो भूमि तल से काफी ऊंचाई पर हैं.इन तक पहुंचने के लिए सीढ़ियों की पंक्तियां बनी हैं.

कहा जाता है कि विभिन्न कालों में यमुना नदी की धारा के साथ ही साथ दिल्ली नगरी की स्थिति भी बदलती रही है. जैसा कि ऊपर कहा जा चुका है प्राचीनतम दिल्ली महरौली के आसपास तथा पुराने किले के परिवर्ती प्रदेश में थी. गुलामकालीन राजधानी भी लगभग इसी प्रदेश में रही. अलाउद्दीन की दिल्ली वर्तमान सीरी (तुगलकाबाद और कुतुब के बीच) के पास और तुगलकों की दिल्ली तुगलकाबाद (दिल्ली-मथुरा मार्ग के निकट) में थी. शाहजहां ने जो दिल्ली बसाई वही आजकल की पुरानी दिल्ली है जिसके चारों ओर परकोटा खींचा हुआ है. चांदनी चौक और इसके बीच बहने वाली नहर शाहजहां ने बनवाई थी. अंग्रेजों ने पुरानी दिल्ली से कुछ दूर हटकर अपनी राजधानी नई दिल्ली बनाई. इसके निर्माता शिल्पी सर एडवर्ड लुटियन्स और और सर हरबर्ट बेकर थे. इस भव्य नगरी का अनुष्ठानिक उद्घाटन 1931 में हुआ था.

दिल्ली परिचय

दिल्ली भारत की राजधानी एवं महानगरीय क्षेत्र है। इसमें नई दिल्ली सम्मिलित है जो कि ऐतिहासिक पुरानी दिल्ली के बाद बसी थी। महान् ऐतिहासिक महत्त्व वाला यह महानगरीय क्षेत्र महत्त्वपूर्ण व्यापारिक, परिवहन एवं सांस्कृतिक हलचलों से भरा है। दिल्ली देश के उत्तरी मध्य भाग में गंगा की एक प्रमुख सहायक नदी यमुना के दोनों तरफ़ बसी है। दिल्ली, भारत का तीसरा बड़ा शहर है। यहाँ के ऐतिहासिक स्थल तथा रमणीय स्थल अपने आप में विशेष हैं। पर्यटन विकास के उद्वेश्य से यह आगरा और जयपुर से जुड़ा है।

दिल्ली तो है दिल वालों की। दिल्ली के इतिहास में सम्पूर्ण भारत की झलक सदैव मौजूद रही है। अमीर ख़ुसरो और ग़ालिब की रचनाओं को गुनगुनाती हुई दिल्ली नादिरशाह की लूट की चीख़ों से सहम भी जाती है। चाँदनी चौक-जामा मस्जिद की सकरी गलियों से गुज़रकर चौड़े राजपथ पर 26 जनवरी की परेड को निहारती हुई दिल्ली 30 जनवरी को उन तीन गोलियों की आवाज़ को नहीं भुला पाती जो राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के सीने में धँस गयी थी। दिल्ली ने दौलताबाद जाने के तुग़लकी फ़रमानों को भी सुना और लाल क़िले से प्रधानमंत्री के अभिभाषणों पर तालियाँ भी बजायी। कभी रघुराय ने दिल्ली की रायसीना पहाड़ी को अपने कैमरे में क़ैद कर लिया तो कभी हुसैन के रंगों ने दिल्ली को रंग दिया। दिल्ली कभी कुतुबमीनार की मंज़िलों को चढ़ाने में पसीना बहाती रही तो कभी हुमायूँ के मक़बरे में पत्थरों को तराशती रही। नौ बार लूटे जाने से भी दिल्ली के श्रृंगार में कोई कमी नहीं आयी। आज भी दिल्ली विश्व के सुन्दरतम नगरों में गिनी जाती है।[3]

नामकरण: अनुश्रुति है कि इसका नाम 'राजा ढीलू' के नाम पर पड़ा जिसका आधिपत्य ई.पू. पहली शताब्दी में इस क्षेत्र पर था। बिजोला अभिलेखों (1170ई.) में उल्लेखित ढिल्ली या ढिल्लिका सबसे पहला लिखित उद्धरण है। महाभारत काल में पाण्डवों द्वारा बसाया गया इन्द्रप्रस्थ नगर, आज हमारे देश का हृदय माना जाता है। एक मत के अनुसार दिल्ली का नामकरण फ़ारसी शब्द 'दहलीज़' पर पड़ा है। जिसका अर्थ है 'प्रवेश द्वार'। कुछ अन्य लोगों के मतानुसार आठवीं सदी में कन्नौज के राजा दिल्लू के नाम पर इसका नामांकन हुआ है। कई मुग़ल साम्राज्यों ने भी दिल्ली पर अपनी प्रभावी छाप छोड़ी है। कई अवसरों पर दिल्ली ने कई साम्राज्यों के पतन में अपनी छाप छोड़ी है। ऐसे बहुरूपदर्शी भूतकाल में न केवल दिल्ली बल्कि विश्व के महानतम लोकतंत्र की खोज की जा सकती है।

इतिहास: महाभारत काल से ही दिल्ली का विशेष उल्लेख रहा है। दिल्ली का शासन एक वंश से दूसरे वंश को हस्तांतरित होता गया। यह मौर्यों से आरंभ होकर पल्लवों तथा मध्य भारत के गुप्तों से होता हुआ 13वीं से 15वीं सदी तक तुर्क और अफ़ग़ान और अंत में 16 वीं सदी में मुग़लों के हाथों में पहुँचा। 18वीं सदी के उत्तरार्ध और 19वीं सदी के पूर्वार्द्ध में दिल्ली में अंग्रेज़ी शासन की स्थापना हुई।

1911 में कोलकाता से राजधानी दिल्ली स्थानांतरित होने पर यह शहर सभी तरह की गतिविधियों का केंद्र बन गया। 1956 में केंद्रशासित प्रदेश का दर्जा प्राप्त हुआ। दिल्ली के इतिहास में 69 वाँ संविधान संशोधन विधेयक एक महत्त्वपूर्ण घटना है, जिसके फलस्वरूप राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र अधिनियम 1991 में लागू हो जाने से दिल्ली में विधानसभा का गठन हुआ। दिल्ली का पुरातात्विक परिदृश्य अत्यंत दिलचस्प है। सहस्राब्दियों पुराने स्मारक क़दम-क़दम पर खड़े नज़र आते हैं। नए या पुराने क़िलेबंद स्थान पर निर्मित 13 शहरों ने दिल्ली–अरावली त्रिकोण के लगभग 180 वर्ग किलोमीटर के एक सीमित क्षेत्र में अपनी मौजूदगी के निशान छोड़े हैं। दिल्ली के बारे में यह किंवदंती प्रचलित है कि जिसने भी यहाँ नया शहर बनाया, उसे इसे खोना पड़ा। सबसे पुराना नगर इंद्रप्रस्थ, क़रीब 1400 ई.पू निर्मित किया गया माना जाता है और वेदव्यास रचित महाकाव्य महाभारत में इसका वर्णन पांडवों की राजधानी के रूप में मिलता है। इस त्रिकोण में निर्मित दिल्ली का दूसरा शहर है अनंगपुर या आनंदपुर, जिसकी स्थापना लगभग 1020 ई. में तोमर राजपूत नरेश अनंगपाल (अनङ्पाल) ने राजनिवास के रूप में की थी। यह शहर अर्द्धवृत्ताकार निर्मित तालाब सूरजकुंड के आसपास बसा था। अनंग पाल ने बाद में इसे 10 किलोमीटर पश्चिम की ओर लालकोट पर स्थापित एक दुर्ग में स्थानांतरित किया।

भौगोलिक संरचना: दिल्ली एक जलसंभर पर स्थित है। जो गंगा तथा सिंधु नदी प्रणालियों को विभाजित करता है। दिल्ली की सबसे महत्त्वपूर्ण स्थालाकृति विशेषता पर्वत स्कंध (रिज) है, जो राजस्थान प्रांत की प्राचीन अरावली पर्वत श्रेणियों का चरम बिंदु है। अरावली संभवत: दुनिया की सबसे पुरानी पर्वत माला है, लेकिन अब यह पूरी तरह वृक्ष विहीन हो चुकी है। पश्चिमोत्तर पश्चिम तथा दक्षिण में फैला और तिकोने परकोट की दो भुजाओं जैसा लगने वाला यह स्कंध क्षेत्र 180 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। कछारी मिट्टी के मैदान को आकृति की विविधता देता है तथा दिल्ली को कुछ उत्कृष्ट जीव व वनस्पतियाँ उपलब्ध कराता है। यमुना नदी त्रिभुजाकार परकोटे का तीसरा किनारा बनाती है। इसी त्रिकोण के भीतर दिल्ली के प्रसिद्ध सात शहरों की उत्पत्ति ई.पू. 1000 से 17 वीं शताब्दी के बीच हुई।

जलवायु: दिल्ली की जलवायु उपोष्ण है। दिल्ली में गर्मी के महीने मई तथा जून बेहद शुष्क और झुलसाने वाले होते हैं। दिन का तापमान कभी-कभी 40-45 सेल्सियस तक पहुँच जाता है। मानसून सामान्यत: जुलाई में आता है और तापमान को कम करता है। लेकिन सितंबर के अंत तक मौसम गर्म, उमस भरा और कष्टप्रद रहता है। यहाँ की वार्षिक औसत वर्षा लगभग 617 मिमी[4] है। अक्टूबर से मार्च के बीच का मौसम काफ़ी सुहावना रहता है। हालांकि दिसंबर तथा जनवरी के महीने खूब ठंडे व कोहरे से भरे होते हैं और कभी-कभी वर्षा भी हो जाती है। शीतकाल में प्रतिदिन का औसत न्यूनतम तापमान 7 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है, लेकिन कुछ रातें अधिक सर्द होती है।

अर्थव्यवस्था: किसी भी ऐतिहासिक राजधानी की तरह दिल्ली भी वैविध्यपूर्ण केंद्र है, जिसमे प्रशासन, सेवाएं और निर्माण अच्छी तरह मिले–जुले हैं। दिल्ली कला एव हस्तकौशल की प्रचुर विविधता का केंद्र रहा है। मुग़ल काल में दिल्ली रत्न और आभूषण, धातु पच्चीकारी, क़सीदाकारी, सोने की पच्चीकारी, रेशम और ज़री का काम, मीनाकारी और शिल्प, मूर्तिकला और चित्रकला के लिए विख्यात थी। दिल्ली का वर्तमान प्रशासकीय महत्त्व उस समय से है, जब भारत का शासन ईस्ट इंडिया कंपनी से लेकर महारानी विक्टोरिया को सौंप दिया गया और ब्रिटिश साम्राज्य की राजधानी, वाणिज्यिक और सेवा केन्द के रूप में विकसित हो गई। यहाँ की लगभग तीन–चौथाई आबादी व्यापार लोक प्रशासन, सामुदायिक, सामाजिक और निजी सेवाओं में संलग्न है।

कृषि: दिल्ली में गेहूँ, बाजरा, ज्वार, चना और मक्का आदि की प्रमुख फ़सलें हैं, लेकिन अब किसान अनाज वाली फ़सलों की बजाय फलों और सब्जियों, दुग्‍ध उत्‍पादन, मुर्ग़ी पालन, फूलों की खेती को ज़्यादा महत्‍व दे रहे हैं। ये गतिविधियाँ खाद्यान्‍नों, फ़सलों के मुक़ाबले अधिक लाभदायक साबित हुई हैं।

सिंचाई: दिल्‍ली के गाँवों का तेज़ी से शहरीकरण होने की वजह से सिंचाई के अंतर्गत आने वाली खेती योग्‍य भूमि धीरे-धीरे कम होती जा रही है। राज्‍य में ‘केशोपुर प्रवाह सिंचाई योजना चरण तृतीय’ तथा ‘जल संशोधन संयंत्र से सुधार एवं प्रवाह विस्‍तार सिंचाई प्रणाली’ नामक दो योजनाएं चलाई जा रही है। राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र, दिल्‍ली के ग्रामीण क्षेत्र में 350 हेक्‍टेयर की सिंचाई राज्‍य नलकूपों द्वारा और 1,376 हेक्‍टेयर की सिंचाई अतिरिक्‍त पानी द्वारा की जा रही है। इसके अलावा 4,900 हेक्‍टेयर भूमि की सिंचाई हरियाणा सरकार के अधीन पश्चिमी यमुना नहर द्वारा की जा रही है।

कला: 16वीं से लेकर 19वीं शताब्दी तक दिल्ली की कला और वहाँ के रहन सहन पर मुग़ल सल्तनत का प्रभाव रहा। मुग़लों के समय में तुर्की, फ़ारसी और भारतीय कलाओं के मिश्रण ने एक नई कला को जन्म दिया। जामा मस्जिद और लाल क़िला इसी वक्त में बनाए गए थे। दिल्ली दुनिया के सबसे पुराने शहरों में से एक है। लेकिन 1911 में नई दिल्ली की स्थापना हुई और ब्रिटिश वास्तुकला ने दिल्ली के क़िलों और महलों के बीच अपनी जगह बना ली। एड्विन लुटियंस ने इंडिया गेट, राष्ट्रपति भवन सहित नई दिल्ली को एक आधुनिक रूप दिया।

वास्तुकला: दिल्ली के वैविध्यपूर्ण इतिहास ने विरासत में इसे समृद्ध वास्तुकला दी है। शहर के सबसे प्राचीन भवन सल्तनत काल के हैं और अपनी संरचना व अलंकरण में भिन्नता लिए हुए हैं। प्राकृतिक रुपाकंनों, सर्पाकार बेलों और क़ुरान के अक्षरों के घुमाव में हिन्दू राजपूत कारीगरों का प्रभाव स्पष्ट नज़र आता है। मध्य एशिया से आए कुछ कारीगर कवि और वास्तुकला की सेल्जुक शैली की विशेषताएं मेहराब की निचली कोर पर कमल- कलियों की पंक्ति, उत्कीर्ण अलंकरण और बारी-बारी से आड़ी और खड़ी ईटों की चिनाई है। ख़िलजी शासन काल तक इस्लामी वास्तुकला में प्रयोग तथा सुधार का दौर समाप्त हो चुका था और इस्लामी वास्तुकला में एक विशेष पद्धति और उपशैली स्थापित हो चुकी थी जिसे पख़्तून शैली के नाम से जाना जाता है। इस शैली की अपनी लाक्षणिक विशेषताएं हैं। जैसे घोड़े के नाल की आकृति वाली मेहराबें, जालीदार खिड़कियां, अलंकृत किनारे बेल बूटों का काम (बारीक विस्तृत रूप रेखाओं में) और प्रेरणादायी, आध्यात्मिक शब्दांकन बाहर की ओर अधिकांशत: लाल पत्थरों का तथा भीतर सफ़ेद संगमरमर का उपयोग मिलता है।

पर्यटन: दिल्‍ली एक आकर्षक पर्यटन स्थल है। दिल्‍ली में मंदिरों से लेकर मॉल तक, क़िलों से लेकर उद्यान तक और अनेक ऐतिहासिक इमारतें और क़िले हैं जो इतिहास की जीवंत निशानियाँ हैं। प्रतिवर्ष लाखों सैलानी दिल्‍ली आते हैं और यहाँ की मिश्रित संस्‍कृति को जानने की कोशिश करते हैं। दिल्‍ली राज्‍य पर्यटन और परिवहन विकास निगम पर्यटकों को यहाँ के विभिन्‍न स्‍थानों की सैर कराने के लिए विशेष बस सेवाएं चलाता है। निगम ने पैरा सेलिंग, पर्वतारोहण और नौकायन जैसी साहसिक गतिविधियों के लिए सुविधाएं विकसित की हैं। निगम ने दिल्‍ली हाट का विकास किया है, जहाँ काफ़ी और विभिन्‍न राज्‍यों की खाद्य वस्‍तुएँ एक जगह उपलब्‍ध हैं। दिल्‍ली के विभिन्‍न भागों में ऐसी ही 'हाट' बनाने की योजना है।

बाग़-बग़ीचे: दिल्ली में कई बाग़-बग़ीचे है। जिनमें जापानी शैली में बना बुद्ध जयन्ती पार्क, कनॉट प्लेस के बीच में स्थित सेंट्रल पार्क जो दुकानों में आने-जाने के लिए छोटे मार्ग के रूप में प्रयुक्त किया जाता है, साथ ही ऑफ़िस आने-जाने वालों के लिए थोड़ी देर सुस्ताने की जगह है। चाणक्यपुरी में स्थित पार्क, डिस्ट्रिक्ट पार्क, लोदी गार्डन, महावीर जयन्ती पार्क, मुग़ल गार्डन, राष्ट्रीय गुलाब पार्क, एशिया का सबसे बड़ा नेशनल ज़ूलोजिकल पार्क (चिड़ियाघर), क्यूडिशा बाग़, रौशन आरा गार्डन आदि हैं। इसके अलावा दिल्ली में महात्मा गांधी के समाधि स्थल राजघाट, जवाहरलाल नेहरू के समाधि स्थल शान्तिवन एवं लालबहादुर शास्त्री के समाधि स्थल विजय घाट को भी बग़ीचों का रूप दिया गया है।

दर्शनीय स्थल

अशोक के शिलालेख: कालका जी मन्दिर के पास स्थित बहाईपुर गाँव में हाल में ही अशोक महान के चट्टानों पर खुदे शिलालेख मिले हैं। ये सभी लघु-शिलालेख अशोक ने अपने राजकर्मचारियों को संबोधित करके लिखवाए हैं। अशोक ने सबसे पहले लघु-शिलालेख ही खुदवाए थे, इसलिए इनकी शैली उसके अन्य लेखों से कुछ भिन्न है।

गांधी स्मृति: बिड़ला भवन के बरामदे में स्थापित यह वह जगह है, जहाँ 30 जनवरी, 1948 को प्रार्थना सभा में जाते हुए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या कर दी गई थी। इसे बाद में स्मारक का रूप दे दिया गया।

हौज़ ख़ास: अलाउद्दीन खिलजी द्वारा सन् 1305 में सिरी के निवासियों के लिए बनाया यह ऐसा पिकनिक स्थल है, जो गर्मियों में ठण्डा और सर्दियों में गरम रहता है।


संसद भवन: नई दिल्ली स्थित सर्वाधिक भव्य भवनों में से एक है, जहाँ विश्व में किसी भी देश में मौजूद वास्तुकला के उत्कृष्ट नमूनों की उज्ज्वल छवि मिलती है। राजधानी में आने वाले भ्रमणार्थी इस भवन को देखने ज़रूर आते हैं। संसद की दोनों सभाएं लोक सभा और राज्य सभा इसी भवन के अहाते में स्थित हैं। 144 खम्बों की यह विशाल इमारत 171 मीटर के व्यास में फैली है। हर खम्बे की ऊँचाई 8.3 मीटर है। अद्भुत लकड़ी का चौखटा अपनी तरह की कला में एक उत्तम स्थान रखता है।

बेगम सामरू का महल: यह इलेक्ट्रानिक सामान के थोक एवं फुटकर व्यापार का केन्द्र है। आजकल इसे भागीरथ बिल्डिंग के नाम से जाना जाता है। इसे बेगम सामरू (1753-1836) के रहने के लिए बनाया गया था, जिसने एक लालची सैनिक वाल्टर रेनहर्ड से निकाह कर लिया था।

कोतवाली: 1857 की क्रान्ति के असफल हो जाने के बाद अंग्रेज़ों ने दिल्ली पर क़ब्ज़ा करने के लिए इसकी स्थापना की थी। कुछ स्वतंत्रता सैनानियों को यहाँ बन्दी बनाकर रखा गया था। कैप्टन हेडसन द्वारा काटे गए मुग़ल राजकुमारों के सिरों का जुलूस भी यहीं पर लाया गया था।

तुग़लकाबाद: दिल्ली का तीसरा हिस्सा, ग़यासुद्दीन तुग़लक़ द्वारा 1321 से 1325 के बीच बसाया हुआ ऊँची पहाड़ी पर बनाया गया क़िला है। अन्दर घुसते ही संगमरमर का बना ग़यासुद्दीन का मक़बरा नज़र आता है। यह क़िला दक्षिण से पूर्व तक मुहम्मद तुग़लक द्वारा बनाए अदिलाबाद क़िले तक फैला है।

धार्मिक स्थल: कालकाजी मन्दिर: चिराग दिल्ली फ़्लाई ओवर से चार किलोमीटर की दूरी पर स्थित कालका जी के इस मन्दिर का निर्माण 18वीं शताब्दी में किया गया था। हालाँकि मन्दिर का विस्तार पिछले 50 सालों का ही है, लेकिन मन्दिर का सबसे पुराना हिस्सा अठारहवीं शताब्दी का है। दिल्ली के व्यापारियों द्वारा यहाँ निकट ही धर्मशाला भी बनवाई गई है। अक्टूबर-नवम्बर में आयोजित वार्षिक नवरात्र महोत्सव के समय देश-विदेश से हज़ारों श्रद्धालु यहाँ आते हैं।

लक्ष्मीनारायण मन्दिर (बिड़ला मन्दिर), झंडेवाला देवी मन्दिर, आद्या कात्यायनी शक्तिपीठ मन्दिर, मां संतोषी मन्दिर, चांदनी चौक का शिव-गौरी मन्दिर, संकट हरणी मंगल करणी शक्तिपीठ, भैरव मन्दिर

इनके अतिरिक्त दिल्ली में हिन्दुओं के अन्य मन्दिर हैं- सफ़ेद संगमरमर का छतरपुर का दुर्गा मन्दिर, माँ सात मंजिला मन्दिर, 1724 में जयपुर के महाराजा जयसिंह द्वारा खड़कसिंह मार्ग पर स्थित हनुमान मन्दिर, काली बेरी का मन्दिर और जोगमाया का मन्दिर।

जैन धार्मिक स्थल: अहिंसा स्थल - कुतुबमीनार के पास तीन एकड़ क्षेत्र में फैला यह स्थल भव्य बगीचे के बीच भगवान महावीर की कमल में स्थित आदमकद प्रतिमा के लिए प्रसिद्ध है। 1980 में स्थापित यह प्रतिमा 17 फ़ीट ऊँची एवं 50 टन वज़नी है।

दिगम्बर जैन मन्दिर: शाहजहाँबाद में 1656 में निर्मित यह मन्दिर भगवान आदिनाथ को समर्पित है। यह मन्दिर चेरिटी पक्षी अस्पताल के लिए भी मशहूर है।

ईसाई धार्मिक स्थल: सेक्रेड हार्ट कैथड्रल चर्च: गुरुद्वारा बंगला साहिब मार्ग के पास दिल्ली की दो प्रमुख कान्वेण्ट स्कूलों सेंट कोलम्बिया एवं कान्वेण्ट ऑफ़ जीसस एवं मैरी के मध्य में स्थित सेक्रेड हार्ट कैथड्रल चर्च है।

सेण्ट जेम्स चर्च: 1836 में जेम्स स्कीनर द्वारा बनाई गई सेण्ट जेम्स चर्च दिल्ली का सबसे पुराना चर्च है। पश्चिमी शैली में निर्मित यह चर्च केवल रविवार के दिन ही खुलता है।

सेण्ट थॉमस चर्च: दिल्ली में तीसरा चर्च सेण्ट थॉमस चर्च है। जो 1930-32 में उन ईसाईयों के लिए बनाई गई थी, जो धर्म परिवर्तन करके ईसाई बने हैं। वॉल्टर जॉर्ज नामक वास्तुशिल्पी द्वारा लाल ईटों से निर्मित यह चर्च पंचकुइयाँ मार्ग पर स्थित है।

सिक्खों के धार्मिक स्थल: बंगला साहिब गुरुद्वारा - यह गुरुद्वारा गुरु हरकिशन साहिब जी की याद में बनाया गया है, जो होशियारपुर से दिल्ली छोटी माता के प्रकोप से दिल्ली वासियों को बचाने आए थे। इस परिसर में गुरु ने निवास किया था एवं यहाँ पर एक झील भी स्थित है। कहा जाता है कि इसका पानी औषधीय गुण लिए हुए है।

अन्य गुरुद्वारे हैं- दमदमा साहिब गुरुद्वारा, रकाबगंज गुरुद्वारा, सीसगंज गुरुद्वारा, मजनूं का टीला गुरुद्वारा इत्यादि।

मुस्लिम धार्मिक स्थल: चिराग देहलवी दरगाह - नसीरूद्दीन मोहम्मद की याद में निर्मित इसे रौशन चिराग़ देहलवी के नाम से भी जाना जाता है।

फ़तेहपुर मस्जिद: सन 1650 में इसे शाहजहाँ की बीवी फ़तेहपुरी बेगम ने बनवाया था।

हज़रत निज़ामुद्दीन औलिया: चिश्ती संतों में चौथे नम्बर के शेख़ निज़ामुद्दीन चिश्ती को समर्पित यह दरगाह मुस्लिम समाज के लिए अत्यन्त पाक स्थल है। 'हर गुरुवार शाम को देश के नामी क़व्वाल यहाँ अपना हुनर दिखाते हैं तथा अमीर खुसरो की गज़लें गाते हैं। यहीं उर्स भी आयोजित किया जाता है।

जामा मस्जिद: लाल पत्थरों से बनी यह मस्जिद मुग़ल काल में विश्व की उम्दा मस्जिदों में से एक है। 1644 में इस मस्जिद का निर्माण शाहजहाँ द्वारा शुरू करवाया गया था और 1650 में यह बनकर तैयार हुई। इस पर तत्कालीन 10 लाख रुपया लागत आई। इसके बीच में एक चबूतरा है, जहाँ पर पूर्व, उत्तर एवं दक्षिण में बनी सीढ़ियों से जाया जा सकता है।

अन्य मुस्लिम धार्मिक स्थल: खिड़की मस्जिद, मोठ की मस्जिद, सुनहरी मस्जिद, क़ुतुबुद्दीन बख़्तियार ख़ाँ की दरगाह आदि।

ग़ुलामी के दौर में अंग्रेज़ सम्राट जॉर्ज पंचम ने 12 दिसम्बर, 1911 को कोलकाता के स्थान पर दिल्ली को राजधानी बनाया। इसकी रूपरेखा और निर्माण कार्यों की देखरेख ब्रिटिश वास्तुकार एडविन लुचेंस (लुटियन्स) ने की थी। एक सौ पचास वर्षों तक कोलकाता के ज़रिये भारत पर शासन करने के बाद अंग्रेजों ने अपनी साम्राज्य विस्तार के मद्देनजर राजधानी को उत्तर भारत स्थानांतरित कर दिल्ली को नए स्थान के रूप में चुना था तथा यहाँ नयी राजधानी बनाने का महत्वाकांक्षी अभियान शुरू किया था। किंग जॉर्ज पंचम के राज्यारोहण का उत्सव मनाने और उन्हें भारत का सम्राट स्वीकारने के लिए दिल्ली में आयोजित दरबार में ब्रिटिश भारत के शासक, भारतीय राजकुमार, सामंत, सैनिक और अभिजात्य वर्ग के लोग बड़ी संख्या में एकत्र हुए थे। दरबार के अंतिम चरण में एक अचरज भरी घोषणा की गई। तत्कालीन वायसराय लॉर्ड हॉर्डिंग ने राजा के राज्यारोहण के अवसर पर प्रदत्त उपाधियों और भेंटों की घोषणा के बाद एक दस्तावेज़ सौंपा। अंग्रेज़ राजा ने वक्तव्य पढ़ते हुए राजधानी को कलकत्ता से दिल्ली स्थानांतरित करने, पूर्व और पश्चिम बंगाल को दोबारा एक करने सहित अन्य प्रशासनिक परिवर्तनों की घोषणा की। दिल्ली वालों के लिए यह एक हैरतअंगेज फैसला था, जबकि इस घोषणा ने एक ही झटके में एक सूबे के शहर को एक साम्राज्य की राजधानी में बदल दिया, जबकि 1772 से ब्रिटिश भारत की राजधानी कलकत्ता थी।

संदर्भ: भारतकोश-दिल्ली

जोगनीपुर

जोगनीपुर (AS, p.371) दिल्ली का एक मध्ययगीन नाम है (दे. बटियागढ़)[19]

खांडवप्रस्थ

विजयेन्द्र कुमार माथुर[20] ने लेख किया है कि....खांडवप्रस्थ (AS, p.255) हस्तिनापुर के पास एक प्राचीन नगर था जहां महाभारतकाल से पूर्व पुरुरवा, आयु, नहुष तथा ययाति की राजधानी थी. कुरु की यह प्राचीन राजधानी बुधपुत्र के लोभ के कारण मुनियों द्वारा नष्ट कर दी गई. युधिष्ठिर को, जब प्रारंभ में, द्यूत-क्रीडा से पूर्व, आधा राज्य मिला तो धृतराष्ट्र ने पांडवों से खांडवप्रस्थ में अपनी राजधानी बनाने तथा फिर से उस प्राचीन नगर को बसाने के लिए कहा था. (महाभारत आदि पर्व, 206 दक्षिणात्य पाठ) तत्पश्चात पांडवों ने खांडवप्रस्थ पहुंच कर उस प्राचीन नगर के स्थान पर एक घोर वन देखा. (आदि पर्व: 206, 26-27). खांडवप्रस्थ के स्थान पर ही इंद्रप्रस्थ नामक नया नगर बसाया गया जो भावी दिल्ली का केंद्र बना. खांडवप्रस्थ के निकट ही खांडववन स्थित था जिसे श्रीकृष्ण और अर्जुन ने अग्निदेव की प्रेरणा से भस्म कर दिया. खांडवप्रस्थ का उल्लेख अन्यत्र भी है. पंचविंशब्राह्मण 25,3,6 में राजा अभिप्रतारिन् के पुरोहित द्दति खांडवप्रस्थ में किए गए यज्ञ का उल्लेख है. अभिप्रतारिन् जनमेजय का वंशज था. जैसा पूर्व उद्धरणों से स्पष्ट है, खांडवप्रस्थ पांडवों के पुराने किले के निकट बसा हुआ था. (दे. इंद्रप्रस्थ, हस्तिनापुर)

खांडववन

विजयेन्द्र कुमार माथुर[21] ने लेख किया है कि....खांडवप्रस्थ के स्थान पर पांडवों की इंद्रप्रस्थ नामक नई राजधानी बनने के पश्चात अग्नि ने कृष्ण और अर्जुन की सहायता से खांडववन को भस्म कर दिया था. इसमें कुछ अनार्य जातियाँ जैसे नाग और दानव लोगों का निवास था जो पांडवों की नई राजधानी के लिए भय उपस्थित कर सकते थे. तक्षकनाग इसी वन में रहता था और यहीं मयदानव नामक महान यांत्रिक का निवास था जो बाद में पांडवों का मित्र बन गया और जिसने इंद्रप्रस्थ में युधिष्ठिर का अद्भुत सभा भवन बनाया. खांडववन-दाह का प्रसंग महाभारत आदि पर्व 221 से 226 में सविस्तर वर्णित है. कहा जाता है कि मयदानव का घर वर्तमान मेरठ (मयराष्ट्र) के निकट था और खांडववन का विस्तार मेरठ से दिल्ली तक, 45 मील के लगभग था. महाभारत में जलते हुए खांडववन का बड़ा ही रोमांचकारी वर्णन है. (आदि पर्व 224,35-36-37). खांडववन के जलते समय इंद्र ने उसकी रक्षा के लिए घोर वृष्टि की किन्तु अर्जुन और क़ृष्ण ने अपने शस्त्रास्त्रों की सहायता से उसे विफल कर दिया.

इंद्रप्रस्थ

विजयेन्द्र कुमार माथुर[22] ने लेख किया है कि....इंद्रप्रस्थ वर्तमान नई दिल्ली के निकट पांडवों की बसाई हुई राजधानी थी. महाभारत आदि पर्व में वर्णित कथा के अनुसार प्रारंभ में धृतराष्ट्र से आधा राज्य प्राप्त करने के पश्चात पांडवों ने इंद्रप्रस्थ में अपनी राजधानी बनाई थी. दुर्योधन की राजधानी लगभग 45 मील दूर हस्तिनापुर में ही रही. इंद्रप्रस्थ नगर कोरवों की प्राचीन राजधानी खांडवप्रस्थ के स्थान पर बसाया गया था--

'तस्मातत्वं खांडवप्रस्थं पुरं राष्ट्रं च वर्धय, ब्राह्मणा: क्षत्रिया वैश्या: शूद्राश्च कृत निश्चया:। त्वदभ्क्त्या जंतग्श्चान्ये भजन्त्वेव पुरं शुभम्' महाभारत आदि पर्व 206

अर्थात धृतराष्ट्र ने पांडवों को आधा राज्य देते समय उन्हें कौरवों के प्राचीन नगर वह राष्ट्र खांडवप्रस्थ को विवर्धित करके चारों वर्णों के सहयोग से नई राजधानी बनाने का आदेश दिया. तब पांडवों ने श्री कृष्ण सहित खांडवप्रस्थ पहुंचकर इंद्र की सहायता से इंद्रप्रस्थ नामक नगर विश्वकर्मा द्वारा निर्मित करवाया--'विश्वकर्मन् महाप्राज्ञ अद्यप्रभृति तत् पुरम्, इंद्रप्रस्थमिति ख्यातं दिव्यं रम्य भविष्यति' महाभारत आदि पर्व 206.

इस नगर के चारों ओर समुद्र की भांति जल से पूर्ण खाइयाँ बनी हुई थी जो उस नगर की शोभा बढ़ाती थीं. श्वेत बादलों तथा चंद्रमा के समान उज्ज्वल परकोटा नगर के चारों ओर खींचा हुआ था. इसकी ऊंचाई आकाश को छूती मालूम होती थी--


[पृ.76]: इस नगर को सुंदर और रमणीक बनाने के साथ ही साथ इसकी सुरक्षा का भी पूरा प्रबंध किया गया था तीखे अंकुश और शतघ्नियों और अन्यान्य शास्त्रों से वह नगर सुशोभित था. सब प्रकार की शिल्प कलाओं को जानने वाले लोग भी वहां आकर बस गए थे. नगर के चारों ओर रमणीय उद्यान थे. मनोहर चित्रशालाओं तथा कृत्रिम पर्वतों से तथा जल से भरी-पूरी नदियों और रमणीय झीलों से वह नगर शोभित था.

युधिष्ठिर ने राजसूय यज्ञ इंद्रप्रस्थ में ही किया था. महाभारत युद्ध के पश्चात इंद्रप्रस्थ और हस्तिनापुर दोनों ही नगरों पर युधिष्ठिर का शासन स्थापित हो गया. हस्तिनापुर के गंगा की बाढ़ से बह जाने के बाद 900 ई. पू. के लगभग जब पांडवों के वंशज कौशांबी चले गए तो इंद्रप्रस्थ का महत्व भी प्राय समाप्त हो गया. विदुर पंडित जातक में इंद्रप्रस्थ को केवल 7 क्रोश के अंदर घिरा हुआ बताया गया है जबकि बनारस का विस्तार 12 क्रोश तक था. धूमकारी जातक के अनुसार इंद्रप्रस्थ या कुरूप्रदेश में युधिष्ठिर-गोत्र के राजाओं का राज्य था. महाभारत, उद्योगपर्व में इंद्रप्रस्थ को शक्रपुरी भी कहा गया है. विष्णु पुराण में भी इंद्रप्रस्थ का उल्लेख है.

आजकल नई दिल्ली में जहाँ पांडवों का पुराना किला स्थित है उसी स्थान के परवर्ती प्रदेश में इंद्रप्रस्थ की स्थिति मानी गई है. पुराने किले के भीतर कई स्थानों का संबंध पांडवों से बताया जाता है. दिल्ली का सर्वप्रचीन भाग यही है. दिल्ली के निकट इंद्रपत नामक ग्राम अभी तक इंद्रप्रस्थ की स्मृति के अवशेष रूप में स्थित है.

Jat rulers of Delhi

Delhi Jat Rulers

According to Thakur Deshraj the descendants of Maharaja Yudhisthira have ruled here for many generations. ‘Satyarth Prakash’ has mentioned the chronology of rulers of Indraprastha. The author of ‘Rajtarangini’ and editor of ‘Haripriya’ have published this list in their books. In this list there appears the name a king a ‘Jiwan’ descended from ‘Virmaha’. ‘Waqyat panch hajar risala’ has mentioned him as ‘Jiwan Jat’. Maharaja Jiwan ascended to the thrown of Delhi prior to 481 BC. He ruled for about 26 years.

Chronology of Jat rulers of Delhi

Satyarth Prakash by Swami Dayanand Saraswati has published a list of Aryan kings of Delhi. [23]Raja Virsalsen was killed by Raja Virmaha. His 16 generations ruled Delhi for 445 years, 5 months and 3 days. Thakur Deshraj has given the details of thse Pandavavanshi Jat rulers.[24] The chronology of these Jat rulers is as under:

  • Raja Vir Maha (817 BC - 800 BC)
  • Raja Mahabal or Swarupbal (800 BC-744 BC)
  • Sarvdutt or Swarupdatt (744 BC-708 BC)
  • Virsen (708 BC-668 BC)
  • Singdaman or Mahipal (668BC-624 BC)
  • Kalink or Sanghraj (624 BC-595 BC)
  • Jitmal or Tejpal (595 BC-515 BC)
  • Kaldahan or Kamsen (515 BC-506 BC)
  • Shtrumardan (506 BC-481 BC)
  • Raja Jiwan (481 BC-455 BC)
  • Virbhujang or Hari Rao (455 BC- 424 BC)
  • Virsen II (424 BC- 389 BC)
  • Udaybhat or Adityaketu (389 BC - 372 BC)

According to Risala their period has been prescribed as under – Mahabal ascended to the throne of Delhi in 800 BC. At that time the ruler of Ujjain city in India was Buddha and Bahmanshah was ruler in Persia. After Mahabal, Sarvdutt or Swarupdatt ascended to the throne of Delhi in 744 BC. During this period Tamisang was born to Ladkun in Khata. Maharaja Virsen became the ruler in 708 BC when Darashah I was ruler of Iran. In 668 BC Maharaja Mahipal ascended to the throne of Delhi. He was so brave that he was popular as Singhdaman. During his regime Kastap had become the ruler of Iran. After death of Singhdaman, Kalink or Sanghraj sat on the throne in 624 BC. Raja Jitmal ascended to throne of Delhi in 595 BC. Kaldahan or Kamsen became ruler of Delhi in 515 BC. His rule extended up to Brahmpur which was known as Kamyvan (Kaman) after Kamsen. In 506 Strumardan became the ruler of Delhi after Kamsen. Thakur Deshraj has worked out the year 481 BC, when Raja Jiwan ascended to the throne of delhi. Maharaja Jiwan became the ruler of Delhi in 478 BC. During the rule of Maharaja Jiwan, one Persian delegation had come to India which studied the conditions of India by visiting various places. After Maharaja Jiwan, Virbhujang or Hari Rao, Virsen II, Udaybhat or Adityaketu were three Jat rulers of Delhi till 372 BC. Adityaketu lost his throne to his own Chieftain Dharandar or Dhaniswar due to conspiracy.

Thus Jats ruled Delhi for about 445 years.Raja Jiwan and his descendents were Pandav vansi. The rule of Delhi went to other people after 27 generations of Yudhidthira. After them Jogi, Kayastha, Pahadi and Vairagi people ruled Delhi. Vikramaditya was also a ruler of Delhi during this period.

Capture of Delhi by Suraj Mal (10 May 1753)

Maharaja Suraj Mal fortified the city by building a massive wall around the city. He started living in Bharatpur in year 1753. Maharaja Suraj Mal attacked Delhi on May 9, 1753. He defeated Nawab of Delhi Ghazi-ud-din (second) on May 10, 1753 and captured Delhi. The attack of Jats in Old Delhi and nearby areas frightened the people and started running to New Delhi for the protection of life and property. The army of Badsah could not protect them. On 13 May samrat removed Safdarjang from the post of wajir and appointed Intijam as new wajir along with Imad as Mirbakshi. On the advise of Suraj Mal Safdarjang, in counter action, appointed Akbar Ādilshāh, said to be grandson of Kāmbaksh, as samrat of Delhi. On 14 May Jats sacked Chārbāg, Bāg-e-kultāt and Hakīm Munīm Bridge. They sacked Jaisinghpura on 15 May and burnt many areas. On 16 May Jats attacked Delhi ferociously and defeated Sādil Khan and Raja Devidatta in a severe war. On 17 May their army could capture Firojshah Kotla. In a severe war with Ruhelas Najib was wounded and 400 Ruhela soldiers were killed.[25]

The Nawab of Delhi, in revenge of the defeat, instigated Marathas to attack Suraj Mal. The Marathas laid siege over the Kumher fort on January 1, 1754. Suraj Mal fought with bravery and gave strong resistance. The Marathas could not conquer the Kumher fort.

दिल्ली में जाट महासभा का जलसा

गणेश बेरवाल[26] ने लिखा है.... वर्ष 1930 में जाट महासभा का जलसा दिल्ली में हुआ। इसमें उत्तर प्रदेश के जाट नेता भी जलसे में पहुंचे। उन्होने उन नेताओं से भी निवेदन किया कि शेखावाटी में भी जागृति व शिक्षा का प्रचार-प्रसार करने हमारा साथ दो तो उन्होने कहा कि कोई बहुत बड़ा जलसा रखो, हम सब वहाँ आएंगे तब वहाँ भी जागृति आएगी। यह तय किया गया कि बसंत पंचमी वर्ष 1932 में झुंझुनू में जाट सभा का बड़ा जलसा रखा जावे। इधर आर्य समाज भी सक्रिय था।

Jat villages in Delhi

The Jatland of capital Delhi

Auchandi, Adhchini, Alipur, Ambarhai, Asalatpur, Azadpur, Bajitpur, Bakargarh, Bakkarwala, Bakhtawar Pur, Bakner, Bamdoli, Baprola, Bawana, Ber Sarai, Budh Pur Bhalswa, Bharthal, Bijwasan, Bindapur, Budhpur, Budhela, Chandpur, Chhawla Chirag Delhi, Dabri Delhi, Dariyapur Kalan, Deenpur, Devli, Dhansa, Dhul Siras, Dichau, Galib Pur, Gheora, Ghitorni, Haiderpur, Hamidpur, Hareveli, Hastsal, Hauz Khas, Hiran Kudna, Hirnki, Holambi Khurd, Humayun Pur, Issapur, Jaffarpur Delhi, Jatkhod, Jatwada Delhi, Jhangola, Jharoda Kalan, Jhimarpura, Jia Sarai, Jindpur, Jonti, Kadipur Delhi, Kair, Kakrola, Kamrudin Nagar, Kanjhawla, Kapashera, Karala, Katewara, Katwaria Sarai, Khanpur, Khera Kalan, Khera Khurd, Kishan Garh, Khidki, Kutabgarh, Ladosarai, Ladpur Kanjhawla, Lampur, Luharheri, Madangir, Madanpur, Madipur, Mahipal pur, Maidan Garhi, Majra Dabas, Mangolpur Kalan, Mangolpur Khurd, Masoodpur Delhi, Matiala, Mehram Nagar, Mehrauli, Mirzapur, Mitraon, Mohammadpur, Mubarak Pur, Mukhmail Pur, Mundka, Mungesh Pur, Munirka, Naankhedi, Najafgarh, Nangal Dewat, Nangal Raya, Nangal Razapur, Nangal Thakran, Nangli Jalib, Nangli Poona, Nangloi Jat, Naraina, Narhaula, Nasirpur Delhi, Narela, Nawada Nayabans, Neb Sarai, Neelwal, Neemsera, New Roshanpura, Nilothi, Nithari, Nizampur, Palam, Pehladpur Banger, Peeragarhi, Peethopuraa, Pitampura, Pochan Pur, Pooth Kalan, Pooth Khurd, Punjab Khor, Putti Tomarpur, Rajpura Tonk, Ramjanpur, Rang Puri, Ranikhera, Rasoolpur, Rawata, Rithala, Sahipur, Samaspur, Shabaad Daulatpur, Shabad Mohmadpur, Shadipur, Shahpur Garhi, Shahpur Jat, Shalimaar, Singhola, Singhpur, Singhu, Siraspur, Sultanpur Dabas, Sultanpur Majra, Tajpur, Tatesar, Tiggipur, Tikri Kalan, Tikri Khrud, Tilangpur Kotla, Tilwal, Toganpur, Ujawaa, Yoginipura,

Notable persons

  • Navdeep Chahar: DANICS, Presently Director Residential & Institutional Land DDA Delhi, M: 09717787033
  • Rishi Pal (): IPS 2005, AGMUT, DCP, Land and Building Cell, Delhi, from Delhi, M: 9868170730
  • Ajay Singh Tomar: IAS (CSE-2011), Rank 88, Cadre Assam Meghalaya, From:Delhi

Further reading

  • Thakur Deshraj: Jat Itihas (Hindi), Maharaja Suraj Mal Smarak Shiksha Sansthan, Delhi, 1934.
  • Dhillon, B. S., History and Study of the Jats, Beta Publishers, Canada, 1994.
  • Bhim Singh Dahiya : Jats the Ancient Rulers, Dahinam Publishers, Sonepat, Haryana
  • Bhim Singh Dahiya: History of Hindustan: Dahinam Publishers, Sonepat, Haryana, (Translated from Persian by Alexander Dow, ESQ. Edited by B.S.Dahiya)
  • History of the Jats : Contribution to the History of Northern India (Upto the Death of Mirza Najaf Khan, 1782)/Kalika Ranjan Qanungo. Edited and annotated by Vir Singh. Delhi, Originals, 2003, xiv, 226 p., $12. ISBN 81-7536-299-5.

External links

References

  1. Bakshi, S.R. (1995) [2002]. Delhi Through Ages. Whispering Eye Bangdat. p. 2. ISBN 978-81-7488-138-0.
  2. Smith, George (1882). The Geography of British India, Political & Physical. J. Murray. pp. 216–217.
  3. Qanungo, K.R., History of the Jats, reprinted by the Sunita Publications, Delhi, India, 1987, pp. 173, first published in 1925.
  4. History and study of the Jats/Chapter 7,pp.103-104
  5. Qanungo, K.R., History of the Jats, reprinted by the Sunita Publications, Delhi, India, 1987, pp. 173, first published in 1925.
  6. Jats: The Ancient Rulers, Sterling Publishers Pvt. Ltd., New Delhi, India, 1980, pp. 253, 71-72.
  7. Thapar, R., A History of India, Penguin Books, London, 1969, pp. 228-229, 70-71, 95-96, 337-339, 29.
  8. Jats: The Ancient Rulers, Sterling Publishers Pvt. Ltd., New Delhi, India, 1980, pp. 253, 71-72.
  9. Ferishta, M.K. (1612 A.D.), History of the Rise of the Mahomedan Power in India, translated by Lt. Col. Briggs, J. Longman, Rees, Orme, Brown, and Green, London, 1829, pp. 1xxiii (Vol. I).
  10. Cunningham, A. (General and Sir), Archaeological Survey Report for 1863-64 (Communicated by the Government of India): Delhi, Journal of the Asiatic Society of Bengal, Supplementary Number, Vol. XXXIII, 1864, pp. vii-viii.
  11. Ferishta, M.K. (1612 A.D.), History of the Rise of the Mahomedan Power in India, translated by Lt. Col. Briggs, J. Longman, Rees, Orme, Brown, and Green, London, 1829, pp. 1xxiii (Vol. I).
  12. Rose, H.A., A Glossary of the Tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier Province, Vol. II, reprinted by Languages Department, Patiala, Punjab, 1970, pp. 237, first published in 1883.
  13. Epigraphia Indiaca, Vol.21,p278
  14. Kumbhalgarh Inscription 1460
  15. रतन लाल मिश्र:शेखावाटी का नवीन इतिहास, कुटीर प्रकाशन मंडावा, 1998, पृ. 101
  16. Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II, Higginbotham and Co. 1873. pp.416-418
  17. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.434-438
  18. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.436
  19. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.371
  20. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.255
  21. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.256
  22. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.75-76
  23. Swami Dayanand Saraswati: Satyartha Prakash, Arsha Sahitya Prachar Trust, Delhi,2004
  24. Thakur Deshraj: Jat Itihas (Hindi), Maharaja Suraj Mal Smarak Shiksha Sansthan, Delhi, 1934, 2nd edition 1992 (Page 716-718)
  25. Dr. Prakash Chandra Chandawat: Maharaja Suraj Mal aur unka yug, Jaypal Agencies Agra, 1982, Page 90-92
  26. Ganesh Berwal: 'Jan Jagaran Ke Jan Nayak Kamred Mohar Singh', 2016, ISBN 978.81.926510.7.1, p.43

Back to Jat Kingdoms in Ancient India