Sadashiv Rao Bhau

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Author : Dayanand Deswal दयानन्द देसवाल
A portrait of Sadashivrao Bhau, in Peshwa Memorial, Pune

Sadashiv Rao Bhau or Sadashiv Bhau or Sadashiv, also known by short word Bhau (सदाशिवराव भाऊ), was born on 4 August 1730. He was son of Peshwa Baji Rao's brother, Chimaji Appa. He served as the Sarsenapati (commander-in-chief) of the Maratha army at the third battle of Panipat (14 January 1761).

Early career

Sadshivrao undertook his first campaign in Karnataka in 1746 because Babuji Naik and Fateh Singh Bhonsle failed in the task assigned to them . In January 1747, he won his first battle at Ajra, south of Kolhapur .The Nawab of Savnur was chastised, the fort of Bahadur Benda was reduced and chauth was levied from the region between the rivers Krishna and Tungabhadra . Altogether, 36 parganas were captured in this campaign.

Sadashivrao's first military achievement was in 1760 in Karnataka region with Mahadjipant Purandare and Sakharam Bappu as his political advisers. He conquered from the Nawab of Savanur and subsequently annexed the cities of Kittur, Parasgad, Gokak, Yadwad, Bagalkot, Badami, Navalgund, Umbal, Giri, Torgal, Haliyal, Harihar and Basavapatna. He crushed the revolt of Yamaji Shivdev.

He also successfully led the Battle of Udgir which weakened the Nizam of Hyderabad. He won the fort of Daulatabad.

The news of Ahmad Shah Abdali's march towards Delhi and the subsequent death of Dattaji Scindia at the battle of Burari Ghat had arrived. Therefore, Sadashivrao was called back from Udgir to Partur where the Council of war was held. It was decided that Sadashivrao would go north to resist the Afghans.

Jats Join Bhau

G.C. Dwivedi[1] writes... Right from the start the Maratha commander attempted to win over allies. He wrote, though in vain, to the various Hindu and Muslim chiefs, seeking their help in banishing the invader.64 The Sarva Khap Pimchayat of the upper Doab, however, responded to his call.65

From his camp south of the Bangaga river (20 miles south of Agra) Bhau wrote to Suraj Mal entreating him to expeditiously unite with his forces. The Raja, however, suspected treachery and hence hesitated to visit the Maratha camp till the Holkar and the Scinde furnished personaloaths and solemn assurances concernmg1iIS safety. On 30th June, 1760, the Holkar conducted the Jat King (at the head of 8 to 10 thousand troops) and Imad to Bhau. Bhau, in person, advanced two miles to honourably welcome his only as also an important ally (Suraj Mal). The renewed pledges followed, Bhau taking the Yamuna's water in his hands as a solemn proof of his alliance with the Jat Raja. The Wazir held a conference with Bhau through the mediation of Suraj Mal.66


61. SPD., XXI, 190. By way of its date, this letter merely refers to 19th Muharram, and not to the particular year. The mention of the name of Badan Singh along with that of Suraj Mal, herein would show that the above negotiations occurred in the former's lifetime i.e. before 9th June, 1756. But the fact that the Marathas continued to press Suraj Mal for money even after that date, goes against it. From the tone of the letter as well as Bhau's conduct, respecting the Jat conditions, it seems that the Bhau's arrival i.e. before 8th June, 1760 rather than after it, as SPD.'s, editor G.S. Sardesai guesses. The incorporation of Badan Singh's name appears here due to the slip of its writer.

62. SPD., II, 126; Also Rajwade, I, 199; contra see Dow, Hindustan, II, 339.

63. Sarkar, Fall, II, 243-244; Memoires des Jats, 53.

64. Rajwade, I, 174; SPD., XXIX 41; Shejwalkar, Panipat, 37.

65. We are told that subsequently the above Panchayat at its meeting held at Sisauli under the Presidentship of Danat Rai, decided to despatch a milita under the command of Chowdhary Sheo Lal Jat of village Shoram (Muzaffarnagar) to the help of the Maratthas. Vide Bhau's letter, Muzaffarnagar Records. Kanha Ram, 19.

66. Purandare, I,387; S.P.D. II, 127; Amira, 103; Siyar, 1II, 382-383; Tarikh-i-Ibrahim Khan in Elliot, VIII, 274-275; Imad, 121,272; Scott, Dekkan, II, 240; Also Memoires des Jats, 53; Mirat, 907; Nur, 32b; Qanungo, Jats, 123-124 and 132; Dow (Hindustan, 11, 339) is wrong in claiming that 50,000 Jats joined the Marathas, Francklin, The History of the Reign of Shah Aulum. London (1798), 18.


[p.210]: When asked for his advice, Suraj Mal emphasized "caution and reflection in conducting the war" against a mighty and clever enemy like the Abdali. He proposed that the ladies, the heavy equipage, big guns and such other things, which were of little use in the present struggle, should be despatched to Jhansi, Gwalior or anyone of his "four iron like forts". The line of supplies should be kept safe and open. The provisions, he ensured, could be procured from the Jat country. The Jat veteran disapproved of pitched contest. Instead, he stressed that unencumbered cavalry should constantly engage the enemy in irregular warfare. In other words the allies should stick to their traditional and tested guerilla system. The astute Jat went on that strong detachments should be sent towards the Afghan homelands. This would not only cut off the enemies supplies but also create a diversion and thus force his Indian allies to desert the Abdali. Perplexed by this strategem as also by the rainy season, the invader would go back and his Afghan henchmen would be brought to their knees, so calculated the Jat Raja. Malharrao Holkar, by far the most experienced Maratha general, concurred with this sagacious advice. However, young Bhau despite being a complete stranger to the north and its people, preferred the new mode of warfare, namely, to engage the enemy in pitched contest through infantry tactics. He, therefore, slighted this wise counsel. Both Suraj Mal and the Holkar felt disgusted at his attitude.Though differences over the plan of campaign did not lead to open rift, some coolness arose between Suraj Mal and Bhau and whatever enthusiasm the former had developed for the Maratha side was affected at the very beginning.67

The facade of unity was however, maintained between the two. Bhau accompanied by Suraj Mal inspected the Yamuna near Agra on 14th July, 1760. Finding it unfordable, the earlier plan to cross the river and then effect a junction with Govind Ballal was now dropped. Two to three thousand reckless Jat soldiers still crossed the flooding Yamuna, but no Maratha ventured the same and the Jats were cut off from the rest of the armies. Bhau now decided to capture the Capital and he moved on to Mathura on 16th July. He asked the Jat Raja to help him in "conquering and settling" De1hi.68 From Mathura he detached a strong force to Delhi


67. Imad, 273-276. However, its assertion that Bhau humiliated Suraj Mal at Agra does not appear to be correct for the simple reason that in view of his pressing needs he could not afford to alienate his only ally at that stage. Qanungo, Jats, 125ff; Tarikh-i-Ibrahim Khan (in Elliot, VIII, 275) claims that Bhau on his own endorsed the Jat plan but eventually discarded at the behest of Vishwasrao. This is incorrect. Gupta, Panipat, 153; Also Sarkar, Fall, II, 256; footnote; For a discordant note see Shejwalkar, Panipat, 42f.

68. Rajwade, I, 217, 217a, 216 also 204, 205 and 215; Shejwalkar, Panipat, 43.


[p.211]: under the Holkar and Scinde guided by Suraj Mal and the Wazir. The city captured and soon (22nd July, 1760) it passed into the hands of the Wazir. The Fort was then put to siege. This was defended, though, inadequately by Yaqub Ali Khan, a relation of the Afghan Wazir. On getting the promise of safe exit he evacuated and handed over the fort on 1st August, 1760.69 Ali Muhammad Khan who wrote only about a year later, adds that the disheartened commandant (Yaqub Ali Khan) decided to make peace and came out to take "a strong pledge", through the Wazir and Suraj Mal. The latter's order got established inside the fort. Bhau "had farfetched ideas in his mind .... He did away with the (Jat) bandobast and appointed his own men there". The Wazir (backed by the Jat Raja) represented to the Maratha commander that as he himself was capable of protecting the fort, he (Bhau) should remove his own men. But Bhau was keen for personal control of the Capital and he spurned this appeal.70

In order to win Shuja over to his side, Bhau had been in touch with that chief, promising him the Wizarat.71 On the other side, he had apparently also assured the current holder of that office, Imad, of his re-installation at Delhi.72 Otherwise, the Wazir would not have confederated and marched with the Marathas upto Delhi. Bhau, however, concealed from his allies his secret promises to Shuja.73 It was only on 1st August, 1760 that the reality dawned them (Jat King and Imad). On that day, Shuja who was encamped across the Yamuna sent a letter to Bhau through Devi Dutta. Referring to the Maratha proposal, he pointed out that if among others he (Shuja) was recognised the Wazir and the Marathas agreed to return to the Deccan, he would persuade the Abdali to go back.

Suraj Mal's Withdrawal From Bhau's Camp

G.C. Dwivedi[2] writes... This embassy could not remain a secret. The thought of his prospective overthrow "displeased" power hungry Imad and his patron and both of them marched away to their camp at Tughlaqabad the same day. Delhi Chronicle adds that next day (i.e. 2nd August) the Marathas "rode out to remove (their) anger."74 This entry (in the above work) has been mainly relied upon by J.N. Sarkar and H.R. Gupta to establish that Suraj Mal


69. Rajwade, I,222-224,226; D.C.; S.P.D., XXVII, 258; Nur, 33a-33b; Mirat, 907; Imad, 275; Memoires des Jats, 53; Amira, 103-104; Siyar, III, 383-384; Shah Alam Nama,171-172; Mirat-i-Aftabnuma, 370; Ahwal, 124; Muharbat, 12.

70. Mirat, 907; Also see Purandare, I, 389 (suggesting his desire to retain personal control).

71. For details see Srivastava, Shuja, 78-80.

72. Shah-Alam Nama, 171; Also Mirat, 907; G. Singh, Durrani, 244, footnote; cf. Qanungo, Jats, 130.

73. Gupta, Panipat, 156.

74. D.C.


[p.212]: abandoned the Marathas on 2nd or 3rd August.75 That right now he finally departed to Ballamgarh has not been specified even by the above authority. The above scholars supplement their version with such sources76 (including SPD, XXI, 190, SPD, XXVII 258) which do not specifically place the Jat return under any of the suggested dates. On the contrary, certain hints in most of them suggest a later date, but this discrepancy has been somehow left un-explained.

The available sources need to be critically examined to ascertain the account and date of Suraj Mal's withdrawal. At the outset it is to be noted that overwhelming evidence of the nearly contemporary as well as important later works, the Sakhas and strong local tradition link his presence with such well-known events, which occurred after 2nd or 3rd August. Of the scores of the Marathi newsletters, only one (written from Bhau's camp) refers to Suraj Mal's departure, though only briefly and a little ambiguously too. It tells us that Suraj Mal and Imad got annoyed with, and left the Marathas and Mahipatrao Chitnis, Gangoba Tatya and Ramji Anand "have gone to bring them back". It merely refers to September, 1760, but contains no exact date of that month. Significantly, it does speak of Naro Shankar having been appointed the governor of Delhi77-an event which took place on 12th August, 1760.78 We have another fragmentary letter, written about 16th October, 1760, from Bhau's camp near Kunjpura. It makes the significant disclosure that Suraj Mal then was at Ballamgarh and that the Bharatpur troops under the command of his son(?) were shortly due to join Bhau. This letter also expresses the Maratha conviction, "The Jat is ours" and that there was no fear of supplies being obstructed on the Agra Mathura route.79

An entry of 24th September (1760), in Delhi Chronicle, whose contents are supported by Mirat-i-Ahmadi (a work written only eight months after Panipat) throws a good deal of light on our present issue. We are told that in order to assure themselves that Suraj Mal would not rejoin the Marathas, Ahmad Shah Abdali and Shuja sent robes of honour for that chief (at Ballamgarh) and sought intended assurances.80 These


75. Suraj Mal left according to H.R. Gupta (Panipat, 156) on 2nd while according to J.N. Sarkar (Fall,II, 255) on 3rd August, 1760

76. Of all the authorities quoted by these scholars, only Tarikh-i-Muzaffari (wr. in 1800) is not acessible to us. We, however, presume that had it contained their dates, K.R. Qanungo, who has used it, must have referred to it while contradicting (Jats, 138) Delhi Chronicle. He, however, follows Bhau Bakhar to place the Jat departure somewhere between 25th September to 25th October. This is equally doubtful.

77. S.P.D., XXVII, 258.

78. Sarkar, Fall, II, 266-267

79. Rajwade, I, 259.

80. D.C.; Mirat, 908; Also Gupta, Panipat, 138-139.


[p.213]: references belie Bhau Bakhar's claim that Suraj Mal left Bhau just before Bhau's departure for Kunjpura81 (i. e. in October, 1760) and also that of a popular Sakha which even makes the Jat go up to Kunjpura.82 In addition, they make an important hint about the period that had intervened since the Jat's return. Apparently, the above gesture of the Abdali emanated from his apprehension lest the Maratha efforts to placate the Jat should bear fruit. That it was not totally unfounded is borne out by Bhau's letter of 18th September. Therein he assures Govind Ballal that he could seek assistance from the Jat contingent (at Shikohabad) for threatening the homelands of the Abdali's Afghan allies.83 We know that Suraj Mal had returned annoyed. And Bhau could express such a conviction which suggests a comparative improvement in his relations with Suraj Mal around the middle of September. This leaves an impression that a reasonable period had elapsed since the Jat withdrawal which enabled the Marathas to re-open dialogue with the displeased Suraj Mal and that too in a manner as to cause concern to the Abdali. This, in turn, leads us to look further back, more appropriately to August, 1760, for the intended date, as is also suggested by a number of important sources.

Mir Ghulam Ali Azad (who wrote roughly two years later) relied upon the testimony of the Maratha negotiator with Shuja, who, being in the same camp, had the unique opportunity to know the actual facts. He places the Jat withdrawal after Bhau-Shuja negotiations and the appointment of Naro Shankar to the Capital's governorship (i e. 12th August, 1760).84 Tankh-i-Ibrahim Khan85 and Siyar accept this in toto, though the latter attributes the Jat departure primarily to that chiefs shock over Bhau's removal of the silver ceiling of the Diwan-i-Khas (6th August).86 So far as we are able to infer, the well-circumstanced eye-witness, Kashi Raj87 and Mirat-i-Ahmadi88 also place that event impliedly well after the ceiling episode. Ghulam Ali, whose informant was Rao Radha Kishan, a trusted follower of the Jat Raja says that the latter left following Bhau's exorbitant demand for money and his suspicious watch over the Jat Raja.89 As regards Shah Alam Nama,


81. Qanungo, Jats, 132.

82. The Sakha sung by Imaduddin and Party of Haryana. Its type script was sent to me by ex-M.P. Shri Jagdeo Singh Sidhanti of Delhi.

83. Rajwade, I, 244; also see its Introduction (by VK. Rajwade).

84. Amira, 105.

85. Tarikh-i-Ibrahim Khan in Elliot, VIII, 277-278.

86. Siyar, III, 385.

87. Kashi Raj as referred to by Duff. History of the Mahrathas (Oxford press: 1921), I, 520 footnote; also Owen, The Fall of the Mogul Empire. 247.

88. Mirat, 908.

89. Imad, 276.


[p.214]: although it does not connect the Jat alienation with any specific event, it all the same tends to put it quite a few days after the capture of the Delhi fort.90 Memoires des Jats also supports the inference that can be drawn from the above analysis. According to it, Suraj Mal came back when Bhau first thought (c. 17th August 1760)91 of proceeding northward (apparently to Kunjpura).92 All that the Bakhar and persistent tradition suggest is not correct but both these also agree with Suraj Mal still being with Bhau at that time. Thus, varied, weighty and overwhelming evidence leads us to place Suraj Mal's withdrawal from the Maratha camp sometime in the middle of August, 1760 rather than under the alleged date of the Delhi Chronicle. xx


90. Shah Alam Nama, 173.

91. The First clear mention of Bhau's resolve to go to Kunjpura is found in a letter of 2nd September, 1760. See Rajwade, I, 237. It is implied that the plan had been maturing in his mind for some time. Significantly we find him ordering Govind Ballal as early as 17th August, 1760, to send immediately 500 bullocks, which were needed for dragging the baggage, See Rajwade, I, 231. This would show that Bhau began to toy with Kunjpura project right from this time.

92. Memoires des Jats, 53; Tawarika-i-Hunud silently sidetracks the Panipat days.

XX. Rajpal Singh puts 20th August, 1760 for withdrawal on the evidence of Scindhias of Gwalior, II, letter no. 297 dated 20th August 1760, p, 217; also see Gupta, Panipat, 161-162 and Mirat-A-Ahmadi, 908, cited in Rise of the Jat Power, 127, 151, fn. 209.-Editor.

Third Battle of Panipat

In January 1760, news reached the prime minister Nanasaheb Peshwa that Ahmad Shah Durrani had invaded and captured the Punjab region.

Abdali had formed an alliance against the Marathas with other Rohilla chieftains principally Najib-ud-Daula, the Nawab of Awadh, Shuja-ud-Daula. All the Muslims in north India including Shuja-ud-Daula (Nawab of Awadh) were persuaded by Abdali and Najib to join the Afghans in the name of religion and to save Islam. Abdali recruited Afghans displaced by the war. Prince Vijay Singh of Jodhpur and Kachawa Prince Madho Singh of Amber also formed an alliance with Abdali but did not join him with their forces.

Unlike Malharrao Holkar and Raghunathrao, both of whom had deep knowledge of northern India, Sadashivrao Bhau was unfamiliar with the personages and politics of the region. This was to prove costly, as he mishandled the regional kings and failed to form alliances with them. The main reason for the failure of the Marathas was that they went to war without good allies.

An army of between 45,000–60,000 was gathered and started its northward journey from Patdur on 14 March 1760, It was accompanied by roughly 200,000 non-combatants including family members and a large number of pilgrims desirous of making pilgrimages to Hindu holy sites in northern India as they felt safe in the presence of the army. The Maratha forces of Holkar and Scindia joined the army on the way.

Holkar and Scindia tried to persuade Bhausaheb to strike diplomatic ties with Maharaja Suraj Mal of [[Bharatpur and the Rajputs, Sikhs, Shuja-ud-Daula and Muslim leaders in north India. However, the Rajputs refused to support the Marathas and instead, supported Abdali as the Marathas used to collect unjust tribute from Rajputana and had interfered a lot in the internal and political matters of Rajputana. Therefore, the Rajputs wanted to keep the Marathas away from at least the Rajputana. In 1748, the Marathas had interfered in succession of Jaipur kingdom trying to install the younger son as the king in place of the eldest son but the Maratha army under Malharrao Holkar had been checked by Maharaja Suraj Mal in 1749.

Therefore, both Holkar and Scindia knew Suraj Mal's strength and realised that an alliance with him was essential to win the coming war with Abdali. Despite the fact that Suraj Mal had killed Holkar's son in a battle,Scindia requested Suraj Mal to come to Agra to meet Sadashivrao Bhau for a greater cause though Suraj Mal did not trust Bhau. Both Holkar and Scindia gave their word of honour to Suraj Mal for his personal safety while persuading him to come to the Bhau's camp. Suraj Mal agreed to join the Maratha forces to defeat the foreign invader from Afghanistan.

Bhau's traits led to defeat in Panipat

Previous victories with artillery had made Bhau overconfident. Bhau was a man of strong, rather overconfident and overbearing, character. He did not seek cooperation of the Jat and Rajput kings while planning for the war with Abdali but rather planned to punish them later to try to subjugate them. This led to their non-cooperation and an acute shortage of supplies. He did not heed the sound advice of Maharaja Suraj Mal, who held power around Delhi and Agra, to leave the civilians at Agra and Bharatpur and take only soldiers to the battlefield, though there was a severe shortage of food and other supplies. This proved fatal on the fateful day of the final battle as the food finished and the starved soldiers and horses could not fight properly and a desperate Bhau had to order an attack. Bhau conspired to arrest Suraj Mal, who, after knowing this fact, secretly left Panipat.

By November 1760, Durrani, managed to have 45,000 soldiers to block Maratha passage to the south towards Delhi. Durrani thereafter gradually isolated the Marathas financially and cut off their meagre supplies from their base in Delhi. This eventually turned into a two-month-long siege led by Abdali against the Marathas in the town of Panipat. During the siege both sides tried to cut off the other's supplies. At this the Afghans were considerably more effective, so that by the end of November 1760 they had cut off almost all food supplies into the besieged Maratha camp (which had about 250,000 to 300,000, most of whom were non-combatants). According to all the chronicles of the time, food in the Maratha camp ran out by late December or early January and cattle died by the thousands. Reports of soldiers dying of starvation began to be heard in early January. Durrani had noted the huge number of non-combatants following Bhau's army, and ordered an attack on their camp, slaughtering large numbers of civilians and soldiers' families. In January 1761, Bhausaheb faced famine and was blocked reinforcement due to Durrani's control of key transportation routes.

On 13 January 1761, the Maratha chiefs begged their commander, Sadashiv Rao Bhau, to be allowed to die in battle than perish by starvation. The next day the Marathas left their camp before dawn and marched south towards the Afghan camp in a desperate attempt to break the siege. The two armies came face-to-face around 8:00 a.m. on 14 January 1761, the Makar Sankranti day, and the battle raged until evening.

Finally the Marathas, who were on the verge of starvation, made a bold effort to break the blockade and issued forth to battle. The attack on Durrani was fierce and his wazir was found sitting on the ground eating mud and telling his fleeing soldiers that Kabul is far off. The battle was in the favour of Marathas till about 2 pm in the afternoon, when a stray bullet hit Vishwasrao and Durrani managed to throw in ten thousand troops who had fled the battlefield along with fresh 500 slave troops that guarded him. Bhausaheb was surrounded along with Jankoji Scindia and Ibrahim Gardi, while Malhar Rao Holkar managed to slip away.[3]

Most historians believe that Bhau perished in the battle but since his dead body was never found, a news had spread all over north India that Bhau perhaps survived and led his secret life elsewhere.

Thakur Deshraj writes

एक ओर तो महाराज सूरजमल थे कि अपने कट्टर शत्रु मराठों को इसलिए मदद दे रहे थे कि वे स्वदेशवासी और स्वधर्मी हैं। दूसरी ओर आमेर के माधौसिंह और मारवाड़ के विजयसिंह आदि राजपूत राजा थे, जो विदेशी और विधर्मी अब्दाली की विजय का स्वागत कर रहे थे।

2 फरवरी सन् 1760 को अहमदशाह अब्दाली ने महाराज सूरजमल के विरुद्ध भरतपुर की ओर प्रस्थान किया और तारीख 7 फरवरी को उसने डीग को घेर लिया। इस समय महाराज सूरजमल ने एक चाल चली। मराठा सेना की एक टुकड़ी उन्होंने रेवाड़ी की ओर, दूसरी बहादुरगढ़ की ओर भेज दी और जाट-सेना का तीसरा दल अलीगढ़ की तरफ भेज दिया। 17 मार्च को जाट-सेना ने अलीगढ़ को लूट लिया और वहां के किले को नष्ट कर दिया। अब्दाली को डीग का घेरा उठा लेना पड़ा। उसने मेवात में मराठों का पीछा किया। होल्कर भी इस समय महाराज सूरजमल का मित्र बन गया था। सिकन्दरा नामक स्थान पर अब्दाली ने जनरल साहबपसन्दखां से पराजित होने पर उसने भी भरतपुर में शरण ले रखी थी।

सन् 1760 ई. के पूरे साल, महाराज सूरजमल को केवल शस्त्रों से ही लड़ाइयां नहीं लड़नी पड़ीं, बल्कि राजनैतिक चालों से भी अब्दाली का सामना करना पड़ा।

आखिर सन् 1761 ई. में उस युद्ध के आसार प्रकट होने लगे जो भारतवर्ष के इतिहास में पानीपत के दूसरे युद्ध के नाम से पुकारा जाता है। पेशवा बालाजी बाजीराव ने अपने भाई सदाशिव और लड़के विश्वासराव को एक बड़ी सेना देकर भारतवर्ष के भाग्य के अन्तिम निपटारे के लिए रवाना किया। पेशवा ने राजपूताने के समस्त राजाओं के पास हिन्दू-धर्म की रक्षा के नाते युद्ध में सम्मिलित होने का निमन्त्रण दिया। किन्तु किसी भी राजपूत राजा ने पेशवा के इस आह्वान को स्वीकार नहीं किया। चम्बल के किनारे पहुंचकर जब भाऊ ने महाराजा सूरजमल को, एक लंबा पत्र लिखकर, धर्म के नाम पर सहायता करने के लिए भेजा, तब महाराजा ने एक सच्चे हिन्दू की भांति मराठों के निमन्त्रण को स्वीकार किया और वह 20,000 जाट सैनिकों के साथ मराठों के कैम्प में पहुंच गए।


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-644


मराठा कमाण्डर-इन-चीफ ने आगरे में एक सभा की और उसमें युद्ध-विषयक परामर्श किया गया। उस समय महाराज ने मराठों को बड़ी उत्तम राय दीं और कहा कि हमें लड़ाई किसी छोटे-मोटे सरदार से नहीं लड़नी है । यह युद्ध तमाम मुसलमानों से है और बड़ा भंयकर युद्ध है। इसलिए इसके पूर्व स्त्रियों को किसी सुरक्षित दुर्ग में भेज देना चाहिए। हमारे साथ पैदल सेना, तोपें अत्यधिक हैं और मैदान में हैं। रसद तक का यथोचित प्रबन्ध नहीं है। इसलिए मेरी समझ से अगर कोई दूसरा स्थान न हो सके, तो मेरे यहां किले में पैदल सेना के साथ स्त्रियों, बालबच्चों और सामान को रखना चाहिए। नहीं तो शत्रु सेना कभी भी नष्ट करने में सफल हो सकती है।1 यद्यपि होल्कर वगैरह ने इस बात का समर्थन किया, परन्तु भाऊ ने इसे उचित सलाह न बताकर ऊट-पटांग बातें कीं, जिससे महाराज सूरजमल ने दूसरी बार भी विवेचनापूर्ण एक-एक पहलू को समझाने की कोशिश की, परन्तु सब बेकार हुई। ठीक कहते हैं ‘विनाशकाले विपरीत बुद्धिः’। अर्थात् नाश होने का वक्त आ जाने पर बुद्धि विपरीत हो जाती है।

एक दूसरी बात सूरजमल के रुष्ट होने की यह और हुई कि भाऊ ने लालकिला देहली के आमखास की चांदी की छत को उनकी इच्छा के विरुद्ध तुड़वा दिया। महाराज उस छत के एवज में पांच लाख रुपया देने को तैयार थे। पर लालची भाऊ को कहीं उससे भी अधिक का माल उसमें दिखाई दे रहा था। वह अपने हठी और लालची स्वभाव होने के कारण महाराज सूरजमल से बिगाड़ बैठा। छत तुड़वा देने पर भी उसे जब 3 लाख रुपये का ही माल मिला तो महाराज सूरजमल ने फिर कहा कि

“आप इस छत को फिर बनवा दीजिए जिससे देहली की प्रजा और आपके प्रति सरदारों का बढ़ा हुआ असन्तोष दूर हो जाए। सहयोगियों की सलाह से राज्य-कार्य कीजिए जिससे शासन के प्रति प्रेम उत्पन्न हो और मैं अब भी कहता हूं कि स्त्रियों को मेरे यहां के किले में भेज दीजिए। क्योंकि भरतपुर के आस-पास में जमींदार खुशहाल हैं इसलिए वहां रसद भी इकट्ठी हो जाएगी। आपको रसद और सैनिकों से मैं पूरी सहायता देता रहूंगा।”

महाराज सूरजमल ने यह बात मार्मिक शब्दों में कही थी, परन्तु भाऊ के पत्थर-हृदय पर कुछ भी असर न हुआ। महाराज ने देख लिया कि इस समय इसके सिर पर दुर्भाग्य सवार है और वह बिना कुछ कहे अपने शिविर को लौट आया।

भाऊ इतने ही से सन्तुष्ट नहीं हुआ, किन्तु उसने निश्चय किया कि सूरजमल


1. महाराज ने एक परामर्श यह भी दिया था कि लम्बी मार की तोपों को मैदान में न ले जाया जाये और अब्दाली का सामना मैदान में जमकर नहीं, छापामार लड़ाई से किया जाय - संपादक

जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-645


के डेरों को लूट लिया जाय और उसे गिरफ्तार कर लिया जाय। किन्तु महाराज सूरजमल को होल्कर के द्वारा सूचित किए जाने पर षड्यंत्र का पता लग गया और वह उसी रात अपने लश्करे समेत भरतपुर की ओर रवाना हो गये। भाऊ के सैनिकों ने सुरक्षित उनका पीछा किया, लेकिन वह बल्लभगढ़ के किले में पहुंच चुके थे।

पानीपत के मैदान में वही हुआ, जिसकी कि आशंका की जा रही थी। मराठों को बुरी तरह से परास्त होना पड़ा, क्योंकि इस्लाम के नाम पर मुसलमान सब संगठित हो चुके थे। शुजाउद्दौला भी उनकी सेना में मिल गया था। इस लड़ाई में मराठों को भारी हानि उठानी पड़ी। उनके बड़े योद्धा इस युद्ध में मारे गए। शेष जो बचे वे बड़ी बुरी दशा में पड़ते-गिरते भरतपुर पहुंचे। महाराज सूरजमल ने मराठों की पुरानी बातों को भूल करके उनकी बड़ी आवभगत की। ब्राह्मण सैनिकों को दूध और पेड़ा खिलाया जाता था। घायल सैनिकों की सेवा-सुश्रूषा और इलाज किया गया। महारानी किशोरी ने स्वयं उनकी आवभगत में बड़ी दिलचस्पी ली। उस समय महाराज ने प्रजा में मुनादी करवा दी थी कि जो कोई दुखी सैनिक जिसके यहां पहुंचे उसकी यथोचित सहायता की जाये। इस आवभगत में महाराज का दस लाख रुपया खर्च हुआ। बाजीराव पेशवा की मुसलमान स्त्री से जंग बहादुर नाम का एक लड़का था। महाराज ने उसके उपचार का पूरा प्रबन्ध किया, किन्तु वह बच न सका । उस समय महाराज के यहां बड़े-बड़े सरदारों ने आश्रय लिया था। सदाशिव भाऊ की स्त्री पार्वती बाई भी दुर्दिनों के फेर से वहां पहुंच गई थी। महाराज ने उन सबका उचित सम्मान योग्य प्रबन्ध किया और पार्वती बाई और सरदारों को एक-एक लाख रुपया देकर अपनी अधिरक्षता में दक्षिण की ओर भिजवा दिया। अन्य सभी महाराष्ट्रीय ब्राह्मणों को महारानी किशोरी ने पांच-पांच रुपया और वस्त्र वगैरह देकर विदा किया।

नाना फड़नवीस ने महाराजा सूरजमल के इस सद्व्यवहार के सम्बन्ध में इस प्रकार लिखा था -

“अब हम ग्वालियर में होल्कर के साथ ठहरे हुए हैं। भरतपुर में हमें सूरजमल ने आराम देने में कोई कसर नहीं रखी। हम 15-20 दिन तक वहां रहे, उन्होंने हमारा बड़ा आदर सम्मान किया और हाथ जोड़कर कहा-मैं तुम्हारे ही घर का हूं, मैं तुम्हारा एक सेवक हूं तथा ऐसे ही शिष्टाचार के अन्य शब्द भी कहे। उन्होंने हमें ग्वालियर तक बड़ी हिफाजत के साथ पहुंचा दिया है। अफसोस है कि उस जैसे बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं।”

पेशवा यह पत्र पढकर सूरजमल के लिए बड़ा प्रसन्न हुआ।

जब पानीपत की लड़ाई के पश्चात् अब्दाली देहली आया तो वह मराठों को शरण देने के कारण सूरजमल पर चढ़ाई करने की सोचने लगा। नागरमल


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-646


नाम के व्यक्ति को सूरजमल के पास इसलिए भेजा कि यदि सूरजमल कुछ भेंट दे दे तो लड़ाई स्थगित कर दी जाए। महाराज खूब जानते थे कि पठान अभी जल्दी कोई नई लड़ाई नहीं लड़ सकते हैं। इसलिए मार्च सन् 1761 ई. तक सन्धि के भुलावे में ही अब्दाली को डाले रहे और इसी बीच में आगरे पर अधिकार जमा लिया। शहर और किले की लूट से उन्हें 5,00000 रुपये मिले। ऐसे मौके पर एक लाख रुपया शाह को दे दिया। 21 मई सन् 1761 ई. को अब्दाली अपने देश के लिए प्रस्थान कर गया। अब महाराज सूरजमल को अपने राज्य को बढ़ाने का पूरा अवसर मिल गया।[4]

Dalip Singh Ahlawat writes

पेशवा बालाजी बाजीराव द्वितीय ने अब्दाली के आक्रमण से उत्पन्न संकट का सामना करने और उत्तर भारत में मराठा सत्ता की पुनः स्थापना के उद्देश्य से सदाशिवराव भाऊ के नेतृत्व में एक शक्तिशाली सेना भेजने का निश्चय किया। उसने अपने ज्येष्ठ पुत्र 19 वर्षीय युवा विश्वासराव को नाममात्र का सेनापति बनाकर उसके साथ रवाना किया। 14 मार्च, 1760 ई० को भाऊ लगभग 30,000 सेना के साथ पट्टूर (जालना से 27 मील द० पू०) से रवाना हुआ। यह सेना ऐसी शानदार थी कि वैसी मराठों ने इससे पहले कभी किसी युद्ध में नहीं भेजी थी। (दी कैम्ब्रिज हिस्ट्री ऑफ इण्डिया, खण्ड 4, पृ० 417)।

वह सेना शानदार थी, परन्तु वह युद्ध लड़ने या लड़ाइयां जीतने का बढ़िया साधन नहीं थी। भाऊ साहब भारी साज-सामान और हजारों दासों के साथ चल रहा था। उनके पीछे कई हाथी चलते थे जिन पर ऊँचे रेशमी तंबू लदे हुए थे। प्रमुख सामन्तों की पत्नियां उनके साथ थीं और उनके काफी नौकर-चाकर साथ थे। अफ़सर लोग जरीदार कपड़ों में जगमगा रहे थे। इस सेना को चम्बल नदी तक पहुंचने में 78 दिन लगे थे। (दी कैम्ब्रिज हिस्ट्री ऑफ इण्डिया, खण्ड 4, पृ० 417)।

पेशवा ने राजपूताना के प्रमुख शासक के पास सहायता प्राप्ति के लिए अपने दूत भेजे, परन्तु सभी राजपूत राजाओं ने टालमटोल के उत्तर दिये। फिर भी मित्र सेनायें भाऊ सेना में शामिल होती गईं, जिससे पानीपत के मैदान तक पहुंचते-पहुंचते इसकी संख्या लगभग एक लाख हो गई थी।


1, 2. महाराजा सूरजमल, , पृ० 86-106, लेखक कुं० नटवरसिंह; जाट इतिहास, पृ० 53-65, लेखक कालिकारंजन कानूनगो; महाराजा सूरजमल, पृ० 132-166, लेखक डा० प्रकाशचन्द्र चान्दावत; महाराजा सूरजमल, पृ० 39-51, लेखक बलबीरसिंह।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-685


8 जून 1760 ई० को भाऊ ने धौलपुर के निकट चम्बल नदी पार की और जाट प्रदेश में दाखिल हो गया। मराठा सेना ने चम्बल के उत्तरी तट पर पहुंचकर आगरा से 20 मील दक्षिण की ओर गम्भीरी नदी के निकट कैम्प लगाया, जहां 13 जुलाई तक उनका पड़ाव रहा। 28 जून को मल्हार आकर भाऊ से मिला। सरकार, “पतन, 11, पृ० 153-54)

भाऊ ने मल्हार को एक पत्र देकर महाराजा सूरजमल के पास भेजा जिसमें लिखा कि “कृपया आप मेरी सहायता करें और शीघ्र ही मुझ से मेरे कैम्प में मिलें।” (इमाद, 78)

मल्हार जब कुम्हेर पहुंचा तो सूरजमल ने अपनी मैत्री एवं सहायता का पूरा विश्वास दिलाया।

सूरजमल 30 जून को होल्कर के साथ भाऊ के पास पहुंचा। भाऊ ने दो मील आगे बढ़कर अपने महत्त्वपूर्ण सहयोगी राजा का सम्मान किया। मल्हारराव होल्कर और जनकोजी सिन्धिया ने इस अवसर पर शपथ लेकर सूरजमल को उसकी सुरक्षा का पक्का आश्वासन दिया और फिर भाऊ से परिचय कराया। बाद में इमाद-उल-मुल्क भी सूरजमल के माध्यम से भाऊ से मिला। (सियार 111, पृ० 382-83; भाऊ बखर, पृ० 114; इलियट VIII, पृ० 204)। सूरजमल अपने 8000 जाट वीर सैनिकों के साथ मराठा सेना में सम्मिलित हो गया।

आगरा की युद्ध परिषद् में मतभेद

14 जुलाई, 1760 ई० को आगरा पहुंचकर भाऊ ने अब्दाली के विरुद्ध सैनिक रणनीति तय करने के लिए, मराठा सरदारों की युद्ध परिषद् की बैठक बुलाई, जिसमें जाट महाराजा सूरजमल को भी आमन्त्रित किया गया। स्वभाव एवं विचारों की भिन्नता के कारण भाऊ व सूरजमल में मतभेद होना अनिवार्य था। जहां दम्भी तथा हठी भाऊ सूरजमल को एक साधारण जमींदार समझता था और होल्कर के साथ उसकी मित्रता को सन्देह एवं ईर्ष्या की दृष्टि से देखता था, वहीं सूरजमल और होल्कर उत्तर के सैनिक युद्धों की रणनीतियों में अधिक कुशल एवं अनुभवी थे, तथा भाऊ इस मामले में नया था, अतः युद्ध संचालन की बागडोर उन्हें सौंप दी जानी चाहिए थी। भाऊ कैफियत का लेखक लिखता है कि - होल्कर की उपस्थिति में सूरजमल ने भाऊ के समक्ष यह विचार रखा, “दिल्ली शहर का नियन्त्रण मुझे सौंप दें, गाजिउद्दीन को वजारत प्रदान करें और होल्कर, सिन्धिया तथा मैं मिलकर शत्रु पर आक्रमण करेंगे, आवश्यकतानुसार आप हमें कुमुक भेजिएगा।” परन्तु भाऊ ने इस सुझाव को ठुकराते हुए कहा, “इस विषय में मुझे राजश्री नानासाहब का आदेश चाहिए। वर्तमान में हम और तुम हस्तिनापुर जायेंगे।” (काशीनाथ नारायण साने द्वारा सम्पादित भाऊ साहब यांची कैफियत, पृ० 8-9)।

इमाद, कानूनगो, काशीराज, इलियट आदि लेखकों के अनुसार - युद्ध परिषद् की बैठक में जब भाऊ ने सूरजमल से अपनी सम्मति प्रकट करने को कहा, तो सूरजमल ने अपना मत दिया कि -

“यह एक महान् शासक के विरुद्ध युद्ध है, जिसका समर्थन इस्लाम के सभी मुखिया कर रहे हैं। अगर आप चतुर हैं तो शत्रु चतुरतम है। निस्सन्देह यह उचित होगा कि आप इस युद्ध का संचालन बड़ी सावधानी से करें। युद्ध अवसरों का खेल है जिसके दोनों पहलू होते हैं। उचित यह होगा कि आप अपने स्त्री-बच्चों, बड़ी तोपें तथा जरूरत से अधिक सामान चम्बल के पार झांसी या ग्वालियर के किलों में भेज दें। यदि आप इन्हें इतनी दूर नहीं भेजना चाहते तो मैं अपने चार अजेय दुर्गों में

जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-686


से कोई भी एक खाली करने को तैयार हूं, जहां आप अपनी स्त्रियों एवं सामान को सुरक्षित छोड़ दें और सारी सुविधायें जुटा सकें। आप हल्के अस्त्र-शस्त्रों से सुसज्जित होकर शाह का मुकाबला करें। शाह के विरुद्ध राजाओं की भांति आमने-सामने युद्ध (जंग-ए-सुलतानी) लड़ने की अपेक्षा हल्की घुड़सवार सेना के साथ गुरिल्ला युद्ध (जंग-ए-क़्ज्ज़ाकुना) किया जाय। वर्षा ऋतु आने पर दोनों पक्ष अपने-अपने स्थानों से हट नहीं सकेंगे और अन्त में शाह, जो हमारी तुलना में अलाभदायक स्थिति में होगा, निराश होकर अपने देश को लौट जायेगा। इस प्रकार निराश अफ़गान आपको समर्पण कर देंगे।
एक डिवीजन लाहौर की तरफ और दूसरा डिवीजन पूर्व की ओर भेजा जाय, जो इन प्रदेशों पर आक्रमण करके दुर्रानी सेना को भेजी जाने वाली अनाज की रसद को काट दे*। मेरी सेना के साथ आपके निर्देश का मैं इन्तजार करूंगा और चूंकि मेरा प्रदेश शत्रु की लूटमार से मुक्त होगा, इसलिए वहां से रसद आसानी से प्राप्त हो सकेगी।” (इमाद, पृ० 179-180; कानूनगो, जाट, पृ० 67-68; काशीराज का वृत्तान्त देखें एच० जी० रालिन्सन कृत अंग्रेजी अनुवाद ‘एन एकाउण्ट ऑफ दि लास्ट बेटल ऑफ पानीपत’ पृ० 5-7; तारीख इब्राहीम खान (इलियट, VIII, पृ० 204; कुंवर नटवरसिंह, पृ० 111-113)।

काशीराज लिखता है कि मल्हारराव सहित सभी मराठा सरदारों ने सूरजमल की इस सलाह से सहमति व्यक्त करते हुए कहा, “हम स्वयं छापामार योद्धा हैं, इसलिए इस प्रकार की लड़ाई से हमारे ऊपर कोई कलंक नहीं आता। हमारा कौशल तो शत्रु पर छापा मारकर भाग जाने में ही है। यदि शत्रु को कौशल से जीता जा सकता हो, तो विकट स्थिति में फंसना और स्वयं विनाश के मुंह में कूदना कोई बुद्धिमत्ता नहीं है। अतः सूरजमल की सलाह सर्वश्रेष्ठ है और उसके द्वारा सुझाई गई योजना निश्चित रूप से शत्रु को पीछे हटने के लिए मजबूर करेगी।” (काशीराज, पृ० 7-8; इमाद, पृ० 180-181)।

सारे मराठा सरदारों की सर्वसम्मति के बावजूद भाऊ ने, जिसे अपने सैनिक शक्ति एवं निजी योग्यता पर अत्यधिक विश्वास था, इस सलाह को ठुकरा दिया। उसने अपने जैसे महान् राजकुमार के लिए जो पेशवा का भाई था, गुरिल्ला युद्ध प्रतिष्ठा के विरुद्ध समझा। भाऊ ने जवाब दिया कि “उससे निम्न लोगों ने इस देश प्रतिष्ठा अर्जित की थी, और उसके लिए, जो कि उच्च था, यह शिकायत कभी नहीं रहनी चाहिए कि रक्षात्मक युद्ध करते हुए उसने अपयश के अलावा कुछ नहीं पाया।”

भाऊ ने होल्कर को निम्न कुल का बतलाकर अपमान किया और सूरजमल को एक किसान एवं मूर्ख कहकर उसका अपमान किया और अपने घमण्ड एवं हठ में उनकी सलाह की उपेक्षा की। भाऊ के हठ और अहंकार को देखकर मराठा सरदारों को खेद व आश्चर्य हुआ। उसके अनुचित


नोट - * कानूनगो के अनुसार सूरजमल और मराठों ने पंजाब में अब्दाली के प्रमुख शत्रु सिक्खों और अब्दाली का साथी अवध का नवाब शुजाउद्दौला के शत्रु बनारस का राजा बलवन्तसिंह से सम्पर्क किया था, ताकि पंजाब व अवध से अब्दाली के शिविर में पहुंचने वाली रसद को काटा जा सके, और शत्रु सेना के पिछले और बायें भाग पर दबाव डाला जा सके।, कानूनगो, जाट, पृ० 69।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-687


व्यवहार से सूरजमल को अत्यधिक ठेस पहुंची और वह उससे सम्बन्ध तोड़ने को उतारू हो गया किन्तु होल्कर व सिन्धिया ने उसे शान्त किया। दूसरी ओर इन मराठा सरदारों ने भाऊ को भी जाट समर्थन के महत्त्व एवं प्राथमिकता से अवगत कराते हुए धैर्य अपनाने की सलाह दी। इस पर भाऊ ने सूरजमल के सामने यमुना जल लेकर भविष्य में उसके उचित परामर्श पर ध्यान देने का आश्वासन दिया। इस प्रकार होल्कर व सिन्धिया के आग्रह पर सूरजमल उसकी सफलता के लिए कार्य करने लगा। (काशीराज, पृ० 8; इमाद, पृ० 180-181; ए हिस्ट्री ऑफ दि मराठा पीपुल, जि० 111, पृ० 337; वाक्या-ए-होल्कर, पृ० 10-ब; भाऊ बखर, पृ० 117; , कानूनगो, जाट, पृ० 69)।

दिल्ली पर मराठा अधिकार

16 जुलाई, 1760 ई० को भाऊ की सेना आगरा से रवाना होकर मथुरा पहुंच गई। मथुरा से भाऊ ने सूरजमल, इमाद, होल्कर, सिन्धिया और बलवन्त गणेश मेहेनउले के नेतृत्व में अग्रिम सेना दिल्ली पर अधिकार करने के लिए भेजी। 23 जुलाई को इस सेना ने राजधानी पर अधिकार कर लिया। किले के स्वामी याकूब अली खान की सहायतार्थ अब्दाली ने अनेक सैनिक दल भेजे, किन्तु सभी विफल रहे। 29 जुलाई को भाऊ भी दिल्ली पहुंच गया। निराश याकूब अली ने सन्धि की याचना की। भाऊ ने उसे अपने स्वामी अब्दाली के पास यमुना पार जाने की अनुमति दे दी। इस प्रकार 2 अगस्त, 1760 ई० को दिल्ली के किले पर मराठा सेना का अधिकार हो गया। मराठों और इमाद ने दिल्ली को खूब लूटा। उनके हाथ लूट का माल इतना लगा कि उनमें कोई भी गरीब न रहा।

इमाद गाजीउद्दीन को फिर वजीर बना दिया गया और उसने मुही-उल-मिल्लत को शाहजहां तृतीय की उपाधि देकर राजसिंहासन पर बिठा दिया। भाऊ ने ऐलान कर दिया कि वह इमाद को नया वजीर नहीं मानेगा। उसने नारोशंकर को वजीर बना दिया। यह बात सूरजमल को सहन न थी, वह इमाद को वजीर पद पर रखना चाहता था। इसके लिए भाऊ को सूरजमल, होल्कर व सिन्धिया ने बहुत समझाया, परन्तु वह नहीं माना। कहावत है कि विनाशकाले विपरीतबुद्धिः यह भाऊ पर पूरी तरह सही बैठती थी। (सियार 111, पृ० 384; काशिराज, पृ० 9; भाऊ बखर, पृ० 114; कुंवर नटवरसिंह, पृ० 113-114; , कानूनगो, जाट, पृ० 69-70)।

दीवाने आम की छत

दुर्ग पर अधिकार हो जाने के बाद भाऊ ने शाही महलों की लूट के समय दीवाने आम की चांदी की छत तुड़वाने का विचार होल्कर, सिन्धिया व सूरजमल के सामने रखा। इसका कारण यह था कि भाऊ दक्षिण से दो करोड़ रुपये लेकर आया था, जो समाप्त हो चुके थे और सेना का वेतन चुकाने के लिए उसे धन की अत्यन्त आवश्यकता थी। किन्तु सूरजमल ने शाही प्रतिष्ठा की इस अन्तिम निशानी को बचाने के लिए भाऊ से प्रार्थना की, “भाऊ साहब, दीवाने-आम बादशाह के दरबार करने का स्थान है, इसकी बड़ी इज्जत है, नादिरशाहअहमदशाह ने भी इस छत को हाथ नहीं लगाया। हम अपनी आंखों से इस वस्तु को मिटते हुए नहीं देख सकते। इससे हमारी प्रतिष्ठा नहीं बढ़ेगी, बल्कि विश्वासघात का लांछन ही लगेगा। कृपया मेरी इस विनम्र प्रार्थना पर उचित ध्यान दें।


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-688


यदि आपके पास धन की कमी है तो मैं आपको पांच लाख रुपये देने को तैयार हूं।” (भाऊ बखर, पृ० 116-17)।

भाऊ ने इस परामर्श पर कोई ध्यान न देते हुए 6 अगस्त को चांदी की यह छत तुड़वा डाली, जिसको गलाने से उसे 9-10 लाख रुपये मिले। (यदुनाथ सरकार, पतन 11, पृ० 165; मीरात-ए-अहमदी, पृ० 908; इलियट, VIII, पृ० 205। परन्तु कुंवर नटवरसिंह, पृ० 115 और कानूनगो, जाट, पृ० 71 पर केवल तीन लाख रुपए लिखते हैं)।

सूरजमल ने भाऊ के पास जाकर कहा, “भाऊ साहब, आपने मेरी उपस्थिति में शाही तख्त की पवित्रता को नष्ट किया है, जिससे मेरे चरित्र पर भी लांछन लगा है। जब भी मैं किसी विषय पर प्रार्थना करता हूँ, तो आप उससे असहमति प्रकट करके उसे ठुकरा देते हैं। हम अपने दिल में आपको हिन्दू मानते हैं, क्या आप यमुना जल का इतना ही आदर करते हो, जिसे आपने अपने हाथ में लेकर मेरे परामर्श पर उचित विचार करने का वचन दिया था?” (भाऊ बखर, पृ० 116-117)।

सूरजमल द्वारा मराठा पक्ष का त्याग

सूरजमल ने जोरदार शब्दों में भाऊ से कहा कि “वजारत पर इमाद का अधिकार है और अनुचित तरीकों से नारोशंकर को वजीर बनाना इमाद का ही नहीं, मेरा भी अपमान है। होल्कर और सिन्धिया ने भी उसका समर्थन किया। किन्तु भाऊ पर इस विरोध का कोई प्रभाव नहीं हुआ।” दूसरी बात भाऊ ने कुंजपुरा (दिल्ली से 78 मील उत्तर में) के नवाब पर आक्रमण करने के विचार के लिए युद्ध परिषद् की बैठक बुलाई, जिसमें सूरजमल ने कहा कि “मेरी सलाह है कि इस समय आप कुंजपुरा के मामले में न उलझें। आपको दिल्ली छोड़कर नहीं जाना चाहिए तथा अपनी योजनाओं को यहीं रहकर पक्का कीजिए।”

अभिमान एवं तिरस्कार के स्वर में भाऊ ने तैस में आकर सूरजमल को कहा, “क्या! दक्षिण से मैं तुम्हारे बल-बूते पर आया हूँ? मेरी मर्जी होगी, करूंगा। तुम चाहो तो यहां रहो, या चाहो तो अपने घर लौट जाओ। अब्दाली को परास्त करके मैं तुम्हें भी देख लूंगा।” (भाऊ बखर, पृ० 117; कुंवर नटवरसिंह, पृ० 115-116; कानूनगो, जाट, पृ० 71-72; सूरजमल, पृ० 177-178, लेखक डा० प्रकाशचन्द्र चान्दावत)।

अब अपमानित सूरजमल सभा भवन से उठकर चला गया। इसके बाद मराठा डेरे में सूरजमल की स्थिति बहुत संकटप्रद हो गई थी। अप्रत्यक्ष रूप से वह बन्दी हो चुका था और उसकी सुरक्षा होल्कर व सिन्धिया की निष्ठा पर निर्भर थी। भाऊ ने 15,000 घुड़सवार सूरजमल के कैम्प के चारों ओर घेरे की तरह नियुक्त कर दिए। भाऊ ने सूरजमल को बन्दी बनाने और उसके डेरे को लूटने की गुप्त योजना बना ली थी, जिसका भेद होल्कर व सिन्धिया को था। इन दोनों मराठा सरदारों ने सूरजमल की सुरक्षा की पवित्र शपथ ली थी। अतः उन्होंने अपनी प्रतिज्ञा निभाने हेतु जाट वकील रूपराम कटारिया को बुलाकर सारी स्थिति समझाकर सूरजमल को उसी रात्रि चुपचाप मराठा डेरे से निकल जाने की सलाह दी। रूपराम की सलाह से भाऊ बखर के अनुसार रात्रि के तीन पहर बीत जाने पर जाटों ने चुपचाप अपने तम्बुओं को उखाड़ा, सामान बांधा और होल्कर व सिन्धिया की सहायता से सूरजमल अपनी जाट सेना के साथ बदरपुर अपने डेरे से रवाना होकर शीघ्रता


जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-689


से कूच करते हुए प्रातःकाल होते-होते सुरक्षित बल्लभगढ़ के अपने शक्तिशाली दुर्ग में पहुंच गया। भाऊ बखर, पृ० 118-119; मीरात ए अहमदी, पृ० 908; काशीराज, पृ० 16; तारीखे इब्राहीम खान, (इलियट viii, पृ० 206; सियार 111, पृ० 385; पेशवा दफ्तर, xxvi, पत्र, 258; लेखक डा० प्रकाशचन्द्र चान्दावत, सूरजमल; पृ० 178-181; , कानूनगो, जाट, पृ० 71-73; कुंवर नटवरसिंह, महाराजा सूरजमल, पृ० 115-117)।

पानीपत का युद्ध और उसके परिणाम

महाराजा सूरजमल अपनी सेना सहित बल्लभगढ़ से चलकर भरतपुर के दुर्ग में चला गया और वहां बैठकर अब्दाली और मराठों के बीच युद्ध एवं युद्ध के परिणामों की उत्सुकता से प्रतीक्षा करने लगा। अब्दाली को रसद रुहेला प्रदेश से प्राप्त हो रही थी और भाऊ की सेना के लिए भोजन सामग्री सूरजमल देता रहा था। भाऊ की नासमझी और विश्वासघात के कारण यह अक्षयस्रोत अब सूख गया। अतः कोई आश्चर्य नहीं कि मराठों को पानीपत में खाली पेट लड़ना पड़ा।

अब्दाली तथा भाऊ की सेनाएं पानीपत के युद्धक्षेत्र में आमने-सामने आ डटीं। अब्दाली की बड़ी सेना के साथ नजीब खान व नवाब शुजाउद्दौला की पठान सेना और भारतवर्ष के अनेक मुसलमान जागीरदार शामिल थे। भाऊ के पक्ष में एक भी गैर-मराठा हिन्दू राजा या जागीरदार नहीं था। केवल 20,000 हरयाणा सर्वखाप पंचायत के वीर सैनिक उसकी ओर थे। सदाशिव भाऊ ने इस युद्ध के लिए हरयाणा सर्वखाप पंचायत को एक पत्र भेजा था। सर्वखाप पंचायत ने चौ० श्योलाल जाट के नेतृत्व में अपने 20,000 वीर सैनिक भाऊ की सहायता के लिए भेजे, जो अधिकतर, शत्रु से लड़ते हुए, वीरगति को प्राप्त कर गए। (देखो, सप्तम अध्याय, मराठा सेनापति सदाशिवराव भाऊ और जाट प्रकरण)।

दोनों ओर की सेनाओं में भयंकर युद्ध हुआ और भारी मारकाट हुई। 14 जनवरी, 1761 ई० को भाऊ की सेना हारकर मैदान छोड़ गई और अब्दाली विजयी रहा। सदाशिवराव भाऊ इस युद्ध में मारा गया। उसके सैनिक तथा नौकर-चाकर व स्त्रियां भागकर सूरजमल के राज्य में प्रवेश कर गये। सामान एवं माल-असबाब से लदे हुए पशु जहां-तहां भागकर चले गये। हरयाणा के अनेक गांवों के लोगों को यह सामान हाथ लगा। एक अशर्फियां लदी हुई खच्चर मेरे गांव डीघल (जि० रोहतक) के एक जाट के अनाज के खलिहान में रात्रि के समय आ गई थी1। उसने यह सारा धन उतार लिया। उसी दिन उसके यहां एक पुत्र ने जन्म लिया जिसका नाम मायाराम रखा गया (लेखक)। उसी समय से हरयाणा में एक यह कहावत चालू है कि “मांच री भाऊ जिसी लूट”। सूरजमल ने भाऊ के सामने अपने जो सुझाव रखे थे वे इतने लाभदायक थे कि अगर भाऊ उन पर अमल करके अब्दाली का मुकाबला करता तो जीत अवश्य मराठों की होती। भारत का नक्शा फिर और ही तरह का होता।[5]

Related topics on Jatland Articles

For detailed inputs regarding Sadashiv Rao Bhau and the Third battle of Panipat, the following pages from jatland.com are worth reading:

External Links

References