Devi Lal Ji.jpg

25 September
is the birthday of Chaudhary Devi Lal

Flowers.png

Netram Singh Maan

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (R), Jaipur

Kunwar Netram Singh Gaurir

Kunwar Netram Singh Gaurir (Maan) (कुंवर नेतराम सिंह गौरीर) (b.25 September 1892-d.8 February 1981) was freedom fighter from village Gaurir in Jhunjhunu district in Rajasthan, who took part in Shekhawati farmers movement. He is father of Kamala Beniwal, the Ex.Governor of Gujarat.

Birth of Net Ram

Net Ram was born in the maan Gotra Jat family of Jita Ram and Tulsa Devi in village Gaurir on 25 September 1892. His grand father Sukh Ram was the hero of Mewara Modi war. Tara Chand was elder brother of Net Ram. Net Ram was married to Bakhtawari Devi, daughter of Ch. Lok Ram of Chandgothi in Rajgarh (Churu) in year 1903.

Education

Net Ram got his primary education from village pandit. He took admission in fourth class in year 1912 in Bhupendra High School Narnaul. He passed two classes in the same year. In 1914 when he was in boarding house he was penalized by the in-charge of the boarding house for misconduct. This period was of the first World War. An incidence of bomb blast took place at Narnaul in which he was alleged to be involved and he was sent back from the School. This incidence turned his life and he became a freedom fighter.

Condition of farmers in Sekhawati

The condition of farmers in Sekhawati area was poor and destitute. The reason for this was the existence of the Rajput feudal Thakurs (Bikaner and Shekhawati). In this vast spread out region, there was not a single primary school. The Jats could not put Singh to their names. They could not wear a colored Pagri or turban. They could not sit on a charpoy in front of the Rajput Thakur. They were treated as untouchables. At the local Piyau or water fountain they were given water from separate pipes, the same as untouchables. The Jat ladies were made to wear clothes similar to those worn by lower classes. They were not allowed to wear gold ornaments. On his wedding day the Jat bridegroom was not allow to ride a horse. Fifty one kinds of taxes called ‘lagh’ were imposed on the Jats. For example if a son was born in the household of a Jat, the father had to give one Rupee as a gift to the local Thakur. If a son was born to the Thakur, each household had to give a Rupee to the Thakur as ‘Nazar’ or tribute. On a marriage ceremony there was an additional tax. There were additional taxes on Camels, Bullocks, Sheep, Goats and other animals. Taxes were imposed on all aspects of life. There was no Law or Court. The only law was that of the Thakur. The Jats and other communities had totally suppressed by the continual atrocities committed by the feudal arrogant Rajput intoxicated with his power.

Farmers of the Shekhawati, mainly the Jats, united againt oppression of Jagirdars by forming ‘Sikar Jat-Kisan-Panchayat’ and stopped giving "lags" or cesses to the Jagirdards. The ‘Jaipur Praja-Mandal’ also supported the Shekhawati farmers’ movement against abolition of Jagirdari system. The leaders of ‘Bijoria-Kisan-Movement’ of 1922, 1931, and 1932 supported the movement of Shekhawati farmers. The Jagirdars tried to suppress the movement in many ways. Many farmers were killed and a large number were sent to jail. A Jat farmer was beaten to death in the market of Sikar town; his dead body was thrown and insulted.

Gaurir farmers agitation against Jagirdar

The farmers of Gaurir never gave importance to the thikanedars of Bissau. Jagirdars raised the land-tax but they did not pay it. In year 1929 jagirdar forcefully wanted to get the levy from Gaurir village. At this time Net Ram Singh had returned to his village after loss in his business. He motivated the villagers not to pay any tax. They left land uncultivated. Jagirdars tried to cultivate the land by farmers brought from other areas. When Jagirdar of Bissau failed to get any tax or cultivate the land he was forced to revoke his orders. [1]

Meanwhile the influence of Arya Samaj was spreading in this area of Shekhawati. Jat Mahasabha Organisation of Delhi had become popular here. Net Ram from village Gaurir also attended Jat Mahasabha function of samvat 1988. This function was attended by famous Jat personalities like Maharaja Bharatpur, Thakur Deshraj, Kunwar Ratan Singh, Thakur Jhumman Singh] etc. The freedom fighters from Shekhawati to attend this function were Net Ram Gaurir along with Panne Singh Devrod, Ladu Ram, Ram Singh Bakhtawarpura, Ladu Ram Jakhar Mahawar, Ch. Ladu Ram Govardhanpura etc. The representatives of Shekhawati decided here in this function about the formation of Jat Mahasabha Rajasthan and to hold next meeting in Shekhawati region. [2]

The Jagirdars of Shekhawati became alarmed of this news of formation of Jat Sabha in their region. They increased terror operations and also the land taxes. Bissau thikana terminated agreement with Gaurir people and increased taxes. Bissau thakur sent his representative to Net Ram not to cooperate with the villagers in this matter. Net Ram rejected the proposal of thakur of Bissau and warned him that, as earlier, the Gaurir villagers would not cultivate land in this season also. In spite of all threats from thakur not an inch of Gaurir was cultivated. Net Ram sent message to Jat Sabha Delhi for help. A delegation of Jat Maha Sabha visited Gaurir. The Jat Mahasabha delegation included Ch. Hari Ram Kurma, Thakur Jhumman Singh of Aligarh, Thakur Bhop Singh Ajnik, and Thakur Guru Singh Parihar. Jat Mahasabha people motivated villagers of Gaurir for struggle against jagirdars. [3]

Jhunjhunu adhiveshan 1932

There was a grand gathering of farmers under the banner of Jat Mahasabha in Jhunjhunu on 11-13 February 1932. 60000 Jat farmers attended it. Thakur Deshraj camped at Jhunjhunu for 15 days to make it a success. The farmers from all parts of India attended it. It was presided by Rao Sahib Chaudhary Rishal Singh Rayees, who was escorted from station to the place of meeting on elephant accompanied by a carvan of camels. This program was of Jats but all the communities cooperated and welcomed. Kunwar Panne Singh Deorod welcomed this rally where as Vidyadhar Singh Sangasi did the welcome of ‘Jaipur Prantiya Jat Kshatriya Sabha’ rallies. Though the Jagirdars did all attempts to make it a failure, but it proved a success. On the appeal of fund collection the participant farmers donated their gold ornaments, which they were wearing. This was the first opportunity of awakening the Shekhawati farmers and proved a grand success. Sardar Harlal Singh and Chaudhary Ghasi Ram had traveled a lot for its publicity and spread its message. Some of the competent people were awarded Kshatriya titles. For example Chaudhary Har Lal Singh was awarded as ‘Sardar’, Net Ram Singh Gaurir, Panne Singh Deorod and Ratan Singh of Bharatpur as ‘Kunwar’ and Chaudhary Ram Singh as ‘Thakur’. Thus the Rajput monopoly over these titles vanished.

As the tenth guru of Sikhs Govind Singh made Sikhs as ‘Singh’, Thakur Deshraj made the farmers of Shekhawati as ‘Singh’. Thakur Deshraj floated three slogans in this function namely,

  1. Keep your aims high
  2. Leave the social evils
  3. Change your dress and put Singh after your name.

The Jhunjhunu adhivesahan brought wonderful changes in the life and culture of the farmers of Shekhawati. Their morals were boosted up and other classes accepted the Jats as noble Aryans and Khsatriyas. The success of Jhunjhunu adhiveshan not only changed the life of Shekhawati farmers but those of Jaipur and Bikaner princely states also. After this there were programmes started to improve the social life of the Jat community.

Jat Prajapati Mahayagya Sikar

After successful Jhunjhunu adhiveshan in 1932, a deputation of Jats from Sikar district, under the leadership of Prithvi Singh Gothra met Thakur Deshraj and requested him to do a similar adhiveshan in Sikar also. After long discussions Thakur Deshraj proposed to have a yagya at Sikar. A meeting for discussing this issue was called in Palthana village in October 1933. This was attended by all activists from Shekhawati and one member was invited from each family in Sikar district. About 5000 people gathered in the meeting. The Sikar thikana wanted to make this meeting a failure. For this, the thikanedar sent hundreds of handcuffs loaded on camels along with the police force to terrorize the people taking part in the meeting. [4] Thakur Deshraj addressed the people that

"these handcuffs would get you independence. If you are afraid of these you would never get freed. We have gathered here for a religious purpose and we will complete". [5]


These words of Thakur Deshraj played a lightening effect amongst the people and they all were energized for further struggle with the Jagirdars. People listened the leaders very calmly and meeting was a great success. Police could do nothing. The leaders who attended the meeting were Sardar Harlal Singh, Chaudhary Ram Singh Kunwarpura, Chaudhary Ghasi Ram, Kunwar Net Ram Singh Gaurir, Panne Singh Deorod's elder brother Bhoor Singh etc. There was a speech by Master Ratan Singh Pilani. A resolution was passed in this meeting to conduct a seven day "Jat Prajapat Mahayagya" (Prayer ceremony for the Lord of Universe) in Sikar on next basant in 1934, to spread the principles of Arya Samaj and create awakening in Shekhawati. It was decided for this purpose to collect ghee and money from each household. A yagya committee was formed consisting of Chaudhary Hari Singh Burdak of Palthana village as its president, Master Chandrabhan Singh as minister. Deva Singh Bochalya, Thakur Hukum Sing and Bhola Singh were made incharge of publicity. [6] The office of managing committee was earlier in Palthana. In December 1933 this office was transferred to Sikar.


The Jat Prajapati Maha-Yagya took place at Sikar from 20 - 29 January 1934. Kunwar Hukam Singh Rahees Angai (Mathura) was made Yagyapati or Chairman of the Yagya. Chaudhary Kaluram Sunda of village Kudan was the Yagyaman. Acharya Shri Jagdev Sidhanthi received an invitation for this Yagya at his Gurukul at Kirthal, In that invitation was he requested to attend the Yagya and bring twenty Bhramcharis and disciples with him. Volunteers went to all the households in all the villages in the region and collected material that would be needed. They collected Ghee, Flour, Gur, and invited all the householders to participate. Hundreds of cans of Ghee and hundreds of sacks of flour were collected.


During the Yagya 3000 men and women adopted the Yogyopavit, which was a symbol Kisan sangathan. Sheetal Kumari daughter of Kunwar Netram Singh adopted yagyopavit. Chaudhary Chimana Ram of Sangasi brought his wife wearing salwar-kurta. The unity of Jat farmers in this Yagya had terrified the Jagirdars of Sikar. The role played by Sardar Har Lal Singh and Thakur Deshraj was unparallel which made this yagya a grand success.

Social reformer

Net Ram suffered a regular a loss in his business. He decided to sell his shop at Ukada (Montgumari) Punjab to a British citizen named B.C.G. and came to Gaurir in 1931-32. He decided to live a simple life, help the suppressed people of this region and work for the freedom of India. He first time implemented his social reform in marriage of his elder son Bansidhar whose marriage was fixed in a reputed family of Ranasar village. He decided not to take any dowry in this marriage and would not host a big feast to villagers. The bratis would not be more than 50. He would not accept more than Rs. 51/- in the paharawani ceremony. There was a great opposition to this reformist move from both sides but he did not change his mind. Kunwar Panne Singh Deorod gave him a moral support in this reformist activity. This action of Net Ram established him as a reformist leader of the area. Many National leaders congratulated him for this reform. [7]

Jailed several times

Kunwar Netram Singh Gaurir was jailed many times for taking leading part in the Shekhawati farmers movement against the jagirdars. He was first time imprisoned when he opposed laganbandi adhisuchana of the riyasar sarkar. There was a tradition in the Jaipur princely state that every prisoner was supposed to salute the Maharaja and wish his victory after his release. Net Ram was released from Jail and had to follow this tradition of the state. He not only refused to salute and wish the victory but raised slogans "Maharaja Murdabad". He was thus punished with jail for not saluting Maharaja of Jaipur. Later he was arrested with reference to "Quit India Movement". This was the period of Second World War. The prisoners were supposed to prey for the victory of Crown . Here also Net Ram opposed this and said that we want the British Govt down and not its victory. He was awarded very hard punishment on this incidence. He spent about 10 years in various Jails for his nationalist activities.[8]

Death

He died on 8 February 1981 at Gaurir.

जीवन परिचय

कुंवर नेतराम सिंह गौरीर पर पुस्तक

भिवानी जाने वाले शेखावाटी के जत्थे - शेखावाटी में किसान आन्दोलन और जनजागरण के बीज गांधीजी ने सन 1921 में बोये. सन् 1921 में गांधीजी का आगमन भिवानी हुआ. इसका समाचार सेठ देवीबक्स सर्राफ को आ चुका था. सेठ देवीबक्स सर्राफ शेखावाटी जनजागरण के अग्रदूत थे. आप शेखावाटी के वैश्यों में प्रथम व्यक्ति थे जिन्होंने ठिकानेदारों के विरुद्ध आवाज उठाई. देवीबक्स सर्राफ ने शेखावाटी के अग्रणी किसान नेताओं को भिवानी जाने के लिए तैयार किया. भिवानी जाने वाले शेखावाटी के जत्थे में आप भी प्रमुख व्यक्ति थे. [9]

नेत राम सिंह का जन्म वि.सं. 1949 भाद्रपद शुक्ल द्वितीय तदनुसार 25 सितम्बर 1892 ई. को गौरीर गाँव में हुआ. इनके पिता का नाम चौधरी जीत राम मान और माता का नाम तुलसां देवी था. इनके एक बड़े भी ताराचंद और पांच छोटे भाई यथा बुद्ध राम, मनी राम, नारायण सिंह, इन्द्र राज, हीरा लाल और दो बहनें श्योबाई और अमृता बाई उर्फ़ नानी बाई थी. [10]


ठाकुर देशराज[11] ने लिखा है ....कुंवर नेतराम सिंह गौरीर (जयपुर वालों) को अपनी बड़ी पुत्री के लिए लड़के की आवश्यकता थी। कुंवर हुकमसिंह रईस आंगई ने उन्होंने अलवर में सरदार बहादुर नत्थासिंह के यहां कोई लड़का बताया। बात सन 1932-33 की है मैं और नेतराम सिंह अलवर गए। यह पहला अवसर था जब मैंने कप्तान राम सिंह और उनके बूढ़े पिता सरदार बहादुर नत्थीसिंह के दर्शन किए। शादी का मामला तो नहीं पटा किंतु मैंने देखा राजस्थान में सैनिक दृष्टि से इतनी बड़ी तरक्की करने वाला यह पहला खानदान है।

जाट जन सेवक

ठाकुर देशराज[12] ने लिखा है ....कुंवर नेतराम सिंह जी -[पृ.386]: पटियाला राज्य की सरहद पर शेखावाटी का प्रसिद्ध गांव है गोरीर। यहीं मान गोत्र के जाटों ने अब से 800 से 900 वर्ष पहले अपनी-2 अधिष्ठात्री देवी गोरी के नाम पर जो गांव बसाया वही आज तक गोरीर के नाम से मशहूर है। मान जाटों की जब स्वतंत्रता नष्ट हो गई और शेखावतों का आगमन हुआ तब भी गौरीर के मान जाटों ने अपने स्वाभिमान को कायम रखा। चौधरी जीतराम जी इनही मान जाटों के विक्रमी बीसवीं शताब्दी के प्रतिनिधि थे। उनके सात पुत्र हुए- 1 तारा सिंह, 2 नेतराम सिंह, 3 बुधराम, 4 मनीराम, 5 नारायण सिंह 6 इंदराज और 7 हीरालाल

यहां हमें कुंवर नेतराम सिंह जी के लोकोपकारी जीवन पर प्रकाश डालना है क्योंकि न केवल आपसे इस इलाके के मान जाटों का ही सिर ऊंचा हुआ है अपितु समस्त किसानों को आप पर अभिमान है। आप शेखावाटी के सर्वोपरि तपस्वी नेता हैं। आप की इमानदारी और नेक नीयत पर कोई संदेह नहीं करता।


[पृ.387]: आपका जन्म संवत 1947 विक्रम (1890 ई.) भादो में हुआ था। अंग्रेजी के नवी क्लास से आप ने पढ़ाई छोड़ दी।

आपकी व्यवसाय में रूचि है। इसलिए आपने कासगंज, डिढवारा गंज, डकाडा, खानीवाल, और नारनौल में दुकानें खोली। किंतु इस काम में आप को प्रसंशनीय सफलता नहीं मिली। वैसे तो आपने बहुत कमाया और गमाया।

देवरोड के चौधरी जालूराम जी के यहां आप का नाता रिश्ता होने के कारण कुंवर पन्ने सिंह जी के साथ मिलने जुलने से आपके जीवन का परिवार कौम की सेवा की ओर हुआ। सन 1931 में आपने कुंवर पन्ने सिंह, ठाकुर रामसिंह कुंवरपुरा और चौधरी लादूराम किसारी के साथ मिलकर अखिल भारतीय जाट महासभा को उसका सालाना जलसा झुंझुनू में करने के लिए निमंत्रण दिया।

1931 से 1934 तक शेखावाटी, सीकरवाटी, और खंडेलावाटी में ठाकुर देशराज देवताओं की तरह पूजे जाते थे। क्योंकि उन्होंने इस प्रांत को जगाने के लिए दिन रात एक किए हुए थे। इन इलाकों के जाट उस समय देशराज जी को अपने लिए ईश्वर का भेजा हुआ दूत समझते थे। उनके दर्शनों के लिए स्त्री पुरुषों की भीड़ लग जाती थी। सन् 1932 तक इस इलाके में ठाकुर देशराज जी के तीन अनन्य साथी थे, कुँवर पन्ने सिंह, सरदार हरलाल सिंह और चौधरी लादूराम रानीगंज। सन् 1933 के आरंभ में जबकि सीकर में कुछ कर गुजरने की योजना ठाकुर देशराज बना रहे थे तभी कुंवर पन्नेसिंह जी का निमोनिया से देहांत हो गया। देवरोड में जाकर ठाकुर देशराज पछाड़ खाकर गिर पड़े। तब उनको धीरज बंधाते हुए कुंवर नेतराम सिंह जी और कुंवर भूर सिंह


[पृ.388]: जी ने परमात्मा को साक्षी करके जाट कौम की सेवा करने का व्रत लिया था। तबसे कुंवर नेतराम सिंह जी बराबर सार्वजनिक जीवन की चक्की में पिसते आ रहे हैं। सिवाय इस बात के लोग यह कहे की कुंवर नेतराम सिंह जी की सीमाएं अनुपम हैं उनके हाथ लीडरी, धन और श्रेय कुछ भी नहीं लगा है।

अब तक तीन बार जेल जा चुके हैं। सन् 1935 में किसान आंदोलन के संबंध में आपको नजरबंद किया गया 1938 में सेठ जमुनालाल द्वारा छोड़े गए सत्याग्रह के प्रमुख कार्यकर्ता की हैसियत से जेल के सीकचोन में रहे। सन 1941 में भारत रक्षा कानून में पकड़े गए। सजाएं आपने लंबी काटी हैं। शेखावाटी जाट पंचायत, किसान पंचायत और प्रजामंडल के आप प्राण रहे हैं। जाट बोर्डिंग हाउस की आपने आनरेरी सेवा की है।

आप की धर्मपत्नी बख्तावरी देवी बीकानेर राज्य के चांदगोठी के चौधरी लोकराम की सुपुत्री हैं। वह एक साहसी और पति भक्त महिला हैं। आपके 8 संतान हैं जिनमें 5 लड़के और 3 लड़कियां हैं। जिनके नाम 1. बंसीधर जिन्होंने ला पास किया है, 2. बीरबल सिंह 3. रामचंद्र सिंह 4. अमर सिंह 5. ईश्वर सिंह पुत्री 1. शीतल कुमारी घरडाना के कुंवर मोहर सिंह जी को ब्याही गई है जो मेस्मेरिज्म साहित्य के अच्छे ज्ञाता है। 2. कमला देवी बनस्थली विद्यापीठ की स्नातक है। 3. शांति देवी झुंझुनू में शिक्षा पा रही हैं।

आपके परिचय से सभी शिक्षित हैं राष्ट्रवादी हैं और संभव है विश्ववादी ख्याल के बन जवेन। किंतु कुंवर नेतराम सिंह


[पृ.389]: अपनी सेवाओं के कारण इलाके के जाटों में सम्माननीय समझे जाते हैं। आपने अपनी आंखों स्वराज्य देख लिया है। अब रियासत में उत्तरदाई शासन भी देख लेंगे। आपकी जीवन की साध जो पिछले 7 साल से उत्कृष्ट भी पूरी हो जाएगी किंतु इस परमात्मा से प्रार्थना करते हैं कि वह देश भर में किसान राज्य देखने तक जीवित रहे।

कुं. नेतरामसिंह के पूर्वज

कुं. नेतरामसिंह के पूर्वजों के सम्बन्ध में ठाकुर देशराज लिखते हैं कि ये भाटी जाटों की मान गोत्र से निकले हैं. मान भाटी जाटों की एक शाखा है, ऐसा भाट-ग्रन्थ मानते हैं। इनकी वंशावली जो जाटों की लिखी हुई है, उसमें भाटियों को सूर्यवंशी लिखा है। साथ ही यह भी लिखा है कि भक्त पूरनमल के पिता शंखपति का विवाह इन्हीं लोगों में हुआ था। लगभग पन्द्रह सौ वर्ष पहले इनका एक समूह देहली के पास बलवांसा नामक स्थान में गजनी से आकर आबाद हुआ था। मानसिंह जिसके नाम पर इस वंश की प्रसिद्धि बताई जाती है, उसका पुत्र बीजलसिंह ढोसी ग्राम में आकर अवस्थित हुआ। ढोसी नारनौल के पास पहाड़ों में घिरा हुआ नगर था। इस स्थान पर अब भी दूर-दूर के यात्री आते हैं, मेला लगता है। कई मन्दिर और कुंड यहां पर उस समय के बने हुए हैं। पहले यहां गंडास गोत्र के जाटों का अधिकार था। इसने नागल की पुत्री गौरादेवी से सम्बन्ध किया और फिर ढोसी से 3 मील हटकर


जाट इतिहास:ठाकुर देशराज,पृष्ठान्त-605


गौरादेवी के नाम पर गोरीर नाम का गांव बसाया। आगे उनसे जितना भी हो सका, अपना राज्य बढ़ाया। वीजलसिंह से 20 पीढ़ी पीछे सरदार रूपरामसिंहजी हुए। उस समय इस प्रदेश पर शेखावत आ चुके थे। खेतड़ी के शेखावतों से रूपरामसिंहजी का 10, 12 वर्ष तक संघर्ष रहा, किन्तु इन्होंने अधीनता स्वीकार न की। मान लागों के अनेक दल थे और वे अनेक प्रदेशों में बसे हुए हैं। खेतड़ी के शेखावतों से रूपरामसिंह का युद्ध अब से लगभग 80-90 वर्ष पहले हुआ था, क्योंकि कुं. नेतरामसिंहजी गोरीर वालों से रूपरामसिंहजी चार पीढ़ी पहले हुए थे। उस समय सुखरामसिंहजी के पास कितना इलाका था, भाट लोगों की पोथियों से इतना पता नहीं लगता है।

मास्टर चंद्रभानसिंह गिरफ्तार

मास्टर चंद्रभानसिंह गिरफ्तार - ठिकानेदार और रावराजा ने जाट प्रजापति महायज्ञ सीकर सन 1934 के नाम पर जो एकता देखी, इससे वे अपमानित महसूस करने लगे और प्रतिशोध की आग में जलने लगे. जागीरदार किसान के नाम से ही चिढ़ने लगे. एक दिन किसान पंचायत के मंत्री देवी सिंह बोचल्या और उपमंत्री गोरु सिंह को गिरफ्तार कर कारिंदों ने अपमानित किया. लेकिन दोनों ने धैर्य का परिचय दिया. मास्टर चंद्रभान उन दिनों सीकर के निकट स्थित गाँव पलथाना में पढ़ा रहे थे. स्कूल के नाम से ठिकानेदारों को चिड़ होती थी. यह स्कूल हरीसिंह बुरड़क जन सहयोग से चला रहे थे. बिना अनुमति के स्कूल चलाने का अभियोग लगाकर रावराजा की पुलिस और कर्मचारी हथियारबंद होकर पलथाना गाँव में जा धमके. मास्टर चंद्रभान को विद्रोह भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया और हथकड़ी लगाकर ले गये. [13]

किसान नेता घरों में पहुँच कर शांति से साँस भी नहीं ले पाए थे कि सीकर खबर मिली कि मास्टर चंद्रभान सिंह को 24 घंटे के भीतर सीकर इलाका छोड़ने का आदेश दिया है और जब वह इस अवधि में नहीं गए तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. ठिकाने वाले यज्ञ में भाग लेने वाले लोगों को भांति-भांति से तंग करने लगे. मास्टर चंद्रभान सिंह यज्ञ कमेटी के सेक्रेटरी थे और पलथाना में अध्यापक थे. सीकर ठिकाने के किसानों के लिए यह चुनौती थी. मास्टर चंद्रभानसिंह को 10 फ़रवरी 1934 को गिरफ्तार करने के बाद उन पर 177 जे.पी.सी. के अधीन मुक़दमा शुरू कर दिया था. [14]

यह चर्चा जोरों से फ़ैल गयी की मास्टर चन्द्रभान को जयपुर दरबार के इशारे पर गिरफ्तार किया गया है. तत्पश्चात ठिकानेदारों ने किसानों को बेदखल करने, नई लाग-बाग़ लगाने एवं बढ़ा हुआ लगान लेने का अभियान छेड़ा. (राजेन्द्र कसवा: p. 122-23)

बधाला की ढाणी में विशाल आमसभा

पीड़ित किसानों ने बधाला की ढाणी में विशाल आमसभा आयोजित की, जिसमें हजारों व्यक्ति सम्मिलित हुए. इनमें चौधरी घासीराम, पंडित ताड़केश्वर शर्मा, ख्यालीराम भामरवासी, नेतराम सिंह, ताराचंद झारोड़ा, इन्द्राजसिंह घरडाना, हरीसिंह पलथाना, पन्ने सिंह बाटड, लादूराम बिजारनिया, व्यंगटेश पारिक, रूड़ा राम पालडी सहित शेखावाटी के सभी जाने-माने कार्यकर्ता आये. मंच पर बिजोलिया किसान नेता विजय सिंह पथिक, ठाकुर देशराज, चौधरी रतन सिंह, सरदार हरलाल सिंह आदि थे. छोटी सी ढाणी में पूरा शेखावाटी अंचल समा गया. सभी वक्ताओं ने सीकर रावराजा और छोटे ठिकानेदारों द्वारा फैलाये जा रहे आतंक की आलोचना की. एक प्रस्ताव पारित किया गया कि दो सौ किसान जत्थे में जयपुर पैदल यात्रा करेंगे और जयपुर दरबार को ज्ञापन पेश करेंगे. तदानुसार जयपुर कौंसिल के प्रेसिडेंट सर जॉन बीचम को किसानों ने ज्ञापन पेश किया. (राजेन्द्र कसवा: p. 123)

इस बैठक में यह तय हुआ कि जागीरदारों की ज्यादतियां रोकने के लिए संघर्ष किया जय. इस हेतु जाट पंचायतें स्थापित की जावें. किसानों के बच्चों को पढ़ाने के लिए स्कूल खोले जावें. इसी उद्देश्य से 1931 में शेखावाटी किसान जाट पंचायत झुंझुनू में कायम हुई जिसका उद्देश्य किसानों की आर्थिक, सामाजिक, बौद्धिक उन्नति करना और किसानों की जमीन का बंदोबस्त करवा कर उनकी खतौनी पर्चे दिलवाना था. [15]

गढ़वालों की ढाणी में जलसा 1933

कुंवर नेतराम सिंह शेखावाटी की हर गतिविधि में भाग लेने लगे थे. इस समय एक छोटा सा जलसा 1933 में खंडेला वाटी की गढ़वालों की ढाणी में चौधरी लादूराम रानीगंज के सभापतित्व में हुआ. यह जलसा बड़ी धूम -धाम से मनाया गया. सभी प्रमुख व्यक्ति जिसमें नेत राम सिंह शामिल हुए थे, वहां पहुंचे और जलसा शान के साथ ख़त्म हुआ. यह खंडेला वाटी के लिए बहुत हितकर सिद्ध हुआ जिससे काफी जागृति आई.[16]

नेतराम सिंह को सजा

ताराचंद झरोड़ा को 7 फरवरी 1940 को साढ़े नौ वर्ष की सजा सुनाकर जयपुर जेल भेज दिया. चौधरी घासी राम फरार थे. क्रुद्ध पुलिस ने उनके घर का सामान कुर्क कर दिया. अंत में चौधरी घासी राम, पंडित ताड़केश्वर शर्मा और नेतराम सिंह ने प्रजामंडल के अधिवेशन से पूर्व ही कोर्ट में उपस्थित हो गिरफ़्तारी दे दी. 15 नवम्बर 1940 को इन तीनों को सजा सुनाई गयी. प्रत्येक को 2 वर्ष 3 माह की कठोर कारावास की सजा सुनाई तथा सजा भुगतने जयपुर सेन्ट्रल जेल भेज दिया गया. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि सजा काट रहे किसान नेताओं को राजनैतिक कैदी नहीं समझा गया बल्कि इनके साथ जयरामपेशा अपराधियों की भांति व्यवहार किया गया. घासी राम से चक्की पिसवाई जाती. गुस्से में आकर एक दिन उन्होंने चक्की का पाट ही तोड़ दिया. तब उन्हें छः माह के लिए काल कोठरी में डाल दिया. (राजेन्द्र कसवा: p. 178-79)

चनाणा गोलीकांड

चनाणा गोलीकांड - सन 1946 में झुंझुनू जिले के चनाणा गाँव में किसान सम्मलेन का आयोजन किया गया था. सम्मलेन के अध्यक्ष नरोत्तम लाल जोशी व मुख्य अतिथि पंडित टिकाराम पालीवाल थे. किसान नेता सरदार हरलाल सिंह, नेतराम सिंह, ठाकुर राम सिंह, ख्याली राम, बूंटी राम और स्वामी मिस्रानंद आदि उपस्थित थे. सम्मलेन आरंभ हुआ ही था कि घुड़सवार, ऊँटसवार व पैदल भौमिया तलवारें, बंदूकें, भाले व लाठियां लेकर आये. सीधे स्टेज पर हमला किया जिसमें टिकाराम पालीवाल के हाथ चोट आई. दोनों ओर से 15 मिनट तक लाठियां बरसती रहीं. भौमियों के बहुत से आदमी घायल होकर गिर पड़े तो उन्होने बंदूकों से गोलियां चलाई जिससे कई किसान घायल हो गए और सीथल का हनुमान सिंह जाट मारा गया. किसानों ने हथियार छीनकर जो मुकाबला किया उसमें एक भौमिया तेज सिंह तेतरागाँव मारा गया और 10 -12 भौमियां घायल हुए. सभा में भगदड़ मच गयी और दोनों तरफ से क़त्ल के मुकदमे दर्ज हुए. आगे चलकर समझौता हुआ और दोनों ओर से मुकदमे उठा लिए गए. (डॉ. ज्ञानप्रकाश पिलानिया: पृ. 42-43)

गढ़वालों की ढाणी में जलसा 1933

कुंवर नेतराम सिंह शेखावाटी की हर गतिविधि में भाग लेने लगे थे. इस समय एक छोटा सा जलसा 1933 में खंडेला वाटी की गढ़वालों की ढाणी में चौधरी लादूराम रानीगंज के सभापतित्व में हुआ. यह जलसा बड़ी धूम -धाम से मनाया गया. सभी प्रमुख व्यक्ति जिसमें नेत राम सिंह शामिल हुए थे, वहां पहुंचे और जलसा शान के साथ ख़त्म हुआ. यह खंडेला वाटी के लिए बहुत हितकर सिद्ध हुआ जिससे काफी जागृति आई.[17]

सीकर यज्ञ में योगदान

ठाकुर देशराज[18] ने लिखा है .... जनवरी 1934 के बसंती दिनों में सीकर के आर्य महाविद्यालय के कर्मचारियों द्वारा सीकर यज्ञ आरंभ हुआ। उन दिनों यज्ञ भूमि एक ऋषि उपनिवेश सी जांच रही थी। बाहर से आने वालों के 100 तम्बू और और छोलदारियाँ थी और स्थानीय लोगों के लिए फूस की झोपड़ियों की छावनी बनाई।

20000 आदमी के बैठने के लिए पंडाल बनाया गया था जिसकी रचना चातुरी में श्रेय नेतराम सिंह जी गोरीर और चौधरी पन्ने सिंह जी बाटड़, बाटड़ नाऊ को है। यज्ञ स्थल 100 गज चौड़ी और 100 गज लंबी भूमि में बनाया गया था जिसमें चार यज्ञ कुंड चारों कोनों पर और एक बीच में था। चारों यज्ञ कुंड ऊपर यज्ञोपवीत संस्कार होते थे और बीच के यज्ञ कुंड पर कभी भी न बंद होने वाला यज्ञ।


[पृ.227]: 25 मन घी और 100 मन हवन सामग्री खर्च हुई। 3000 स्त्री पुरुष यज्ञोपवीत धारण किए हुये थे।

यज्ञ पति थे आंगई के राजर्षि कुंवर हुकुम सिंह जी और यज्ञमान थे कूदन के देवतास्वरुप चौधरी कालूराम जी। ब्रह्मा का कृत्य आर्य जाति के प्रसिद्ध पंडित श्री जगदेव जी शास्त्री द्वारा संपन्न हुआ था। यह यज्ञ 10 दिन तक चला था। एक लाख के करीब आदमी इसमें शामिल हुए थे। इस बीसवीं सदी में जाटों का यह सर्वोपरि यज्ञ था। यज्ञ का कार्य 7 दिन में समाप्त हो जाने वाला था। परंतु सीकर के राव राजा साहब द्वारा जिद करने पर कि जाट लोग हाथी पर बैठकर मेरे घर में होकर जलूस नहीं निकाल सकेंगे।

3 दिन तक लाखों लोगों को और ठहरना पड़ा। जुलूस के लिए हाथी जयपुर से राजपूत सरदार का लाया गया था, वह भी षड्यंत्र करके सीकर के अधिकारियों ने रातों-रात भगवा दिया। किंतु लाखों आदमियों की धार्मिक जिद के सामने राव राजा साहब को झुकना पड़ा और दशवें दिन हाथी पर जुलूस वैदिक धर्म की जय, जाट जाति की जय के तुमुलघोषों के साथ निकाला गया और इस प्रकार सीकर का यह महान धार्मिक जाट उत्सव समाप्त हो गया।

सम्मान

कुंवर नेतराम सिंह गौरीर का जीवन परिचय देने वाली पुस्तक का अभाव था. यह कार्य पूर्ण किया है लेखक हरिनारायण शर्मा ने वर्ष 2005 में. राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर ने 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा' पुस्तक माला में अमर स्वाधीनता सेनानी कुंवर नेतराम सिंह गौरीर के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला गया है. [19]

आपकी सेवाएँ किसानों के हितों के लिए सदैव स्वर्णाक्षरों में लिखी जाएगी और शेखावाटी में आगे आने वाली पीढियां सदैव आपकी आभारी रहेंगी.

पाठ्यपुस्तकों में स्थान

शेखावाटी किसान आंदोलन ने पाठ्यपुस्तकों में स्थान बनाया है। (भारत का इतिहास, कक्षा-12, रा.बोर्ड, 2017)। विवरण इस प्रकार है: .... सीकर किसान आंदोलन में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही। सीहोट के ठाकुर मानसिंह द्वारा सोतिया का बास नामक गांव में किसान महिलाओं के साथ किए गए दुर्व्यवहार के विरोध में 25 अप्रैल 1934 को कटराथल नामक स्थान पर श्रीमती किशोरी देवी की अध्यक्षता में एक विशाल महिला सम्मेलन का आयोजन किया गया। सीकर ठिकाने ने उक्त सम्मेलन को रोकने के लिए धारा-144 लगा दी। इसके बावजूद कानून तोड़कर महिलाओं का यह सम्मेलन हुआ। इस सम्मेलन में लगभग 10,000 महिलाओं ने भाग लिया। जिनमें श्रीमती दुर्गादेवी शर्मा, श्रीमती फूलांदेवी, श्रीमती रमा देवी जोशी, श्रीमती उत्तमादेवी आदि प्रमुख थी। 25 अप्रैल 1935 को राजस्व अधिकारियों का दल लगान वसूल करने के लिए कूदन गांव पहुंचा तो एक वृद्ध महिला धापी दादी द्वारा उत्साहित किए जाने पर किसानों ने संगठित होकर लगान देने से इनकार कर दिया। पुलिस द्वारा किसानों के विरोध का दमन करने के लिए गोलियां चलाई गई जिसमें 4 किसान चेतराम, टीकूराम, तुलसाराम तथा आसाराम शहीद हुए और 175 को गिरफ्तार किया गया। हत्याकांड के बाद सीकर किसान आंदोलन की गूंज ब्रिटिश संसद में भी सुनाई दी। जून 1935 में हाउस ऑफ कॉमंस में प्रश्न पूछा गया तो जयपुर के महाराजा पर मध्यस्थता के लिए दवा बढ़ा और जागीरदार को समझौते के लिए विवश होना पड़ा। 1935 ई के अंत तक किसानों के अधिकांश मांगें स्वीकार कर ली गई। आंदोलन नेत्रत्व करने वाले प्रमुख नेताओं में थे- सरदार हरलाल सिंह, नेतराम सिंह गौरीर, पृथ्वी सिंह गोठड़ा, पन्ने सिंह बाटड़ानाउ, हरु सिंह पलथाना, गौरू सिंह कटराथल, ईश्वर सिंह भैरूपुरा, लेख राम कसवाली आदि शामिल थे। [20]

External links

Gallery

References

  1. Hari Narayan Sharma:Rajasthan men Swatantrata Sangram ke Amar Purodha-Kunwar Net Ram Singh Gaurir, Rajasthan Swarn Jayanti Prakashan Samiti, Jaipur, 2005, p. 24
  2. Hari Narayan Sharma:Rajasthan men Swatantrata Sangram ke Amar Purodha-Kunwar Net Ram Singh Gaurir, Rajasthan Swarn Jayanti Prakashan Samiti, Jaipur, 2005, p. 26
  3. Hari Narayan Sharma:Rajasthan men Swatantrata Sangram ke Amar Purodha-Kunwar Net Ram Singh Gaurir, Rajasthan Swarn Jayanti Prakashan Samiti, Jaipur, 2005, p. 27
  4. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary, Jaton ki Gauravgatha (जाटों की गौरवगाथा), 2004, Publisher - Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p. 145
  5. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary, Jaton ki Gauravgatha (जाटों की गौरवगाथा), 2004, Publisher - Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p. 146
  6. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary, Jaton ki Gauravgatha (जाटों की गौरवगाथा), 2004, Publisher - Rajasthani Granthagar, Jodhpur, p. 146
  7. Hari Narayan Sharma:Rajasthan men Swatantrata Sangram ke Amar Purodha-Kunwar Net Ram Singh Gaurir, Rajasthan Swarn Jayanti Prakashan Samiti, Jaipur, 2005, p. 34
  8. Hari Narayan Sharma:Rajasthan men Swatantrata Sangram ke Amar Purodha-Kunwar Net Ram Singh Gaurir, Rajasthan Swarn Jayanti Prakashan Samiti, Jaipur, 2005, p. 84-85
  9. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 70
  10. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, 2008, p.285
  11. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.85-86
  12. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.386-389
  13. राजेन्द्र कसवा: मेरा गाँव मेरा देश (वाया शेखावाटी), जयपुर, 2012, ISBN 978-81-89681-21-0, P. 122
  14. डॉ पेमाराम: शेखावाटी किसान आन्दोलन का इतिहास, 1990, p.91
  15. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, 2008, p.288
  16. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, 2008, p.292
  17. Dr Pema Ram & Dr Vikramaditya Chaudhary: Jaton ki Gauravgatha, Rajasthani Granthagar, Jodhpur, 2008, p.292
  18. Thakur Deshraj: Jat Jan Sewak, 1949, p.226-227
  19. हरिनारायण शर्मा: राजस्थान स्वर्ण जयंती प्रकाशन समिति जयपुर के लिए राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी जयपुर द्वारा प्रकाशित 'राजस्थान में स्वतंत्रता संग्राम के अमर पुरोधा - कुं. नेतरामसिंह गौरीर' , 2005
  20. भारत का इतिहास कक्षा 12, माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान, 2017, लेखक गण: शिवकुमार मिश्रा, बलवीर चौधरी, अनूप कुमार माथुर, संजय श्रीवास्तव, अरविंद भास्कर, p.155

Back to The Leaders/ The Freedom Fighters/Jat Jan Sewak