Kangar Ratangarh

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
The Heroes of Kangad movement of farmers,Standing: Mauji Ram, Gangadatt Ranga, Rupram Maan; Sitting on Chair:Swami Sachchidanand, Prof Kedarnath; Sitting on ground: Deep Chand Arya, Hans Raj Arya

Kangar (कांगड़) or Kangad (कांगड़) is a village in Ratangarh tehsil in Churu district in Rajasthan.

Location

The geographical coordinates are 28° 13' 9" North, 74° 38' 29" East and its original name (with diacritics) is Kāngar.PIN:331504

Jat Gotras

History

In 1943 the freedom movement got strengthened in Bikaner state under Praja Parishad Bikaner, founded by Raghuvar Dayal Goyal, who organized the farmers against oppressions by the Jagirdars. The prominent people of the region who were associated with this organization were:

मेघसर के चाहर गोत्र का इतिहास

चाहरों की वंश वृक्षावली एवं पलायन: संवत 2001 (सन 1944) की बीकानेर स्टेट की मिसल बंदोबस्त में दर्ज़ चाहर गोत्र की वंश वृक्षावली के अनुसार गाँव के संस्थापक श्री मेघा चाहर के कई पीढ़ियों के बाद के वंशज तेजा चाहर (संवत 2001 में ) के दो बेटे थे, जिनके नाम खेता और नानग थे। नानग के पांच पुत्रों के नाम थे: बुद्धर, मुकना, लिखमा, डूंगर एवं लाला। डूंगर के दो पुत्र चेतन व पन्ना थे जो बाद में बीकानेर जाकर बस गए। चाहर गोत्र के बहुत से परिवार इस गाँव में आबाद थे, जिनमें से कुछ परिवार कालांतर में यह गाँव छोड़कर नैयासर (सरदारशहर), महरी (सरदारशहर), कांगड़ (रतनगढ़), छाजूसर (चूरू), निराधना/निराधनू आदि गाँवों में जाकर बस गए। वर्तमान में सिर्फ स्व. लालाराम के पुत्र स्व. आशाराम चाहर के बेटे-पोते इस गाँव में आबाद हैं। स्व. आशाराम चाहर की औलाद को छोड़कर बाकी सभी चाहर अन्यत्र जाकर बस गए। (देखें: मेघसर- अतीत और वर्तमान)

Efforts to impart education

Chaudhari Rupram Maan and Swami Chetnanand started the education program of Jat farmers in rural areas of Ratangarh tehsil by opening private schools. They appointed Swami Nityanand and Chaudhari Chandgi Ram for this purpose. Swami Chetnanand was born in the family of a Dhaka Jat farmer and could feel the effect of oppression by Jagirdars. These people remained under ground and collected money to start the private education of Jat boys. Chaudhari Buddhram Katewa of Bharatia ki Dhani, Ratangarh, Chaudhari Buddhram Dudi village Sitsar and Chaudhari Surta Ram Sewda, Ratangarh helped a lot in this campaign. Chaudhari Surta Ram Sewda gave his own land for starting a school and Chaudhari Buddhram Dudi got made a shade on this land to start a school.

At that time there were about 40-50 Jat boys getting education in Ratangarh town who were mainly from Sihag, Dudi, and Tetarwal Jats of Ratangarh town and rest were from nearby villages like Sangasar, Loonchh, Loha, Chhabri, Kadia, Tidiyasar, Thathawata etc. Most of these boys were from poor families and could not afford education on their own. The only means of funding the private education was through collection of contribution (chanda) or subscription from the farmers. Jats of Ratangarh and Churu either could not afford or did not give subscription out of fear of the Jagirdars. But the Jats of Ganganagar district were well off and they were not much effected by Jagirdars. They gave handsome amounts for education.

Chaudhari Hari Ram Dhaka went to Sangariya to get financial help from Swami Keshwanand. Swami Keshwanand appointed him the Manager of Industries Department of Jat High School Sangariya. Megh Singh Sewda also joined this school. Chaudhari Hari Ram Dhaka collected about Rs. 2000/- from the teachers of Jat High School and called Chaudhari Rupram Maan, Vidyarthi Bhawan Ratangarh, to hand over this amount. He then sent Chaudhari Rupram Maan to Advocate Harishchandra Nain at Ganganagar. There was a good subscription at Ganganagar and with this financial assistance Chaudhari Rupram Maan and Swami Chetnanand organized a grand sabha of farmers at Ratangarh in Podaron ka Nohra. Swami Keshwanand and Chaudhari Hari Ram Dhaka also joined this sabha. A number of decisions were taken in this sabha about awakening of the farmers of this area. As decided in this sabha Swami Keshwanand sent Chaudhari Hari Ram Dhaka to Ratangarh to enhance the movement of education and freedom.

Sabha at Loha village against Jagirdari system

Hari Ram Dhaka and Megh Singh Sewda went from village to village in Churu district and gave momentum to this movement. Tiku Ram Budania, Rupram Maan and Hari Ram Dhaka organized a meeting at village Loha in Ratangarh tehsil. The urban people also came in their support. Mohan Lal Saraswat and Rameswar Pareek from Ratangarh were of great help in the sabha. Jagirdars did their best to disturb the sabha but it continued. It was decided unanimously not to pay the taxes to the Jagirdars and not to obey their orders.

The Kangar movement of farmers

The Jagirdars had tried to prevent the farmers from taking part in Loha Sabha. This sabha at Loha village was quite successful. The Jagirdars were frightened about the decisions taken in this sabha. They approached Maharaja Bikaner from whom they obtained the permission to recover the land and other taxes forcefully. The Jagirdars assembled at village Kangar in Ratangarh tehsil in the fort of Gop Singh Jagirdar. They took the Kaimkhanis of Ratangarh also with them. They were all equipped with swords, guns, barchhis, bhalas etc. Here the Jagirdars decided to recover 20 times taxes forcefully. Looking to these preparations of the Jagirdars, the Jat farmers approached Hari Ram Dhaka and Rupram Maan at Ratangarh.

Hari Ram Dhaka sent Megh Singh Arya, Rupram Maan, Sisram Bhaktopdeshak with the farmers of Kangar to assess the situation at Kangar. They found that the Jagirdars were enjoying drinks and goat meat. They had forcefully snatched goats, sheep, milk, curd etc. from villagers of Kangar. They started doing rape with the village women. Jagirdars dragged the villagers to the fort, beaten them and demanded 20 times taxes. The message spread to nearby villages and Jats also assembled in thousands of number for the counter action. They were also equipped with barchhi, bhala, jeli etc. The situation was very tense. Jats assessed the situation and decided not to have a direct confrontation as it may lead to hundreds of lives on both sides. All farmers consented that they should approach the Bikaner Maharaja to let him know the actual situation. A deputation of 35 agitating farmers was sent to Bikaner under the leadership of Rupram Maan and Megh Singh Arya.

Hari Ram Dhaka along with seven persons reached Kangar. Chaudhari Surja Ram Saran, Jaisangsar and Ganpat Ram Nai had also come to Kangar the same day. Both were in white khadi clothes and were wearing Gandhi topi. The Syanan Jagirdar, Kishan Singh, attacked them with lathi which broke the head of Surja Ram and one hand of Ganpat Ram. They fell on the ground. Kishan Singh was shouting "kill them". This attack led the revolutionaries to start demonstration against the Jagirdars, shouting slogans for freedom. This was the first demonstration against Jagirdars under leadership of Hari Ram Dhaka at Kangar village. On 30 October 1946 at 10 am, Hari Ram Dhaka along with his associates were arrested and imprisoned in the fort. They were beating them very badly and putting them in a shade full of pala. Mukna Ram Achra from village Gorisar, Ganpat Ram Nyol, Satra from tehsil Churu and Hari Ram Dhaka along with others were put in pala after they fainted out of severe beating. At about 4 am in the morning they heard voices that thousands of Jats had gathered at village Barjangsar and started attacking Jagirdars and that they were reaching Kangar also. This sent ripples of pain amongst the Jagirdars who decided to release the freedom fighters. The revolutionaries were brought before Gop Singh, who was ADC of Bikaner Maharaja. The village Kangar was in Jagir of Gop Singh. Most of the Jagirdars had left the fort on hearing the news of coming of group of revolutionaries. The Kaimkhani of Ratangarh also left the fort of Kangar. The only persons left in the fort were Gop Singh himself along with Ram Singh DSP and his police party. All the revolutionaries had decided not to accept the directions of Gop Singh. At last they put the revolutionaries in a Jeep like cattle and through them away at Ratangarh. Here when they came to senses they found that a group of revolutionaries including Master Deep Chand, Moji Ram Chaudhari Chandgothi, Hans Raj Arya, Bhadra, Gangadatta and Prof Kedar from Ganganagar were approaching them. They were apprised of the incidence of Kangar.

कांगड़ का किसान आन्दोलन

भूमिका - रतनगढ़ तहसील जिला चूरू में रतनगढ़ से उत्तर की तरफ(मेगा हाईवे पर गोगासर के पूर्व में 5 किमी) 20 किमी दूरी पर स्थित काँगड़ नाम का गाँव है जिसमें 135 घरों की बस्ती थी, जिसमें 90 घर जाटों के थे। यह गाँव खालसा में था। जब बीकानेर रियासत में आजादी के लिए किसानों का आन्दोलन शुरू हुआ तो, बीकानेर महाराजा सार्दुल सिंह ने अपने ए.डी.सी. ठाकुर गोपसिंह को काँगड़ का पट्टा देकर इसे जागीरदार के अधीन कर दिया। खालसा के समय यह गाँव सीधा बीकानेर रियासत के अधीन था। गाँव में एक चौधरी नियुक्त था जो लगान लेकर सीधे बीकानेर राजकोष में जमा करवा देता था। राजा का आगमन नहीं था और कोई ज्यादा लाग-बाग भी नहीं थी। भूमि का लगान भी ठीक-ठाक था, जिसे किसान आसानी से चुका देते थे। खेत की प्राकृतिक फसल जैसे लूँग, ल्हासू, पाला आदि काटकर किसान स्वयं अपने पशुओं को चराता था। ज्योही यह गाँव पट्टे में आया किसान की यह स्वतंत्रता ख़त्म हो गयी थी। ठाकुर गोपसिंह बीकानेर में रहता था वह कभी कभी आता था। ठाकुर के कारिंदे आते और लगान वसूल कर उसे ले जाकर बीकानेर देते थे।

लोहा गाँव में किसान सम्मलेन - 10 अक्टूबर 1946 में मेघसिंह आर्य, लोहा के चौधरी टीकूराम बुडानिया, सीतसर के चौधरी बुद्धाराम डूडी ने लोहा गाँव में किसान सम्मलेन आयोजित किया था जो बहुत सफल रहा। इस सम्मलेन में जागीरदारों को लाग-बाग़ न देने का निर्णय लिया था और यही निर्णय जागीरदारों के प्रतिशोध का कारण बना।

जागीरदारों का प्रतिशोध - ठाकुर गोपालसिंह को ज्यों ही इस निर्णय का पता लगा उसने लोगों को गढ़ में घसीट कर लाने का हुक्म दिया। ठाकुर के गुण्डे घरों में घुस गए और लूट पाट शुरू करदी। घी, दूध, दही, अनाज, कपडा व बर्तन भांडे आदि सब उठा ले गए। किसानों, विशेषकर जाटों को घसीट-घसीट कर गढ़ में लाये तथा औरतों के सामने ही नंगा करके पिटाई शुरू करदी। यह खबर विद्यार्थी भवन पहुंची तो हरी राम ढाका और भजोपदेशक शीश राम आदि काँगड़ पहुंचे। इन्होने विरोध किया तो इन्हें भी पकड़कर गढ़ में लाये और पिटाई शुरू कर दी। बेहोश होने पर पाले के सफे में डाल देते थे। जब होश आता तो फिर से पिटाई शुरू कर देते। औरतों की इज्जत पर बन आई। बच्चे, बूढ़े तथा घर पर आये मेहमान घबरा गए, कोहराम मच गया। डर के मारे बच्चे-बूढ़े सब खेतों में भाग गए। गाँव खाली हो गया। धन पशुओं की चिंता छुट गयी, अपनी जान बचाने का भय सताने लगा। ऐसा विभत्स काण्ड हुआ और दरिंदो को दया नहीं आई।

प्रजामंडल की भूमिका - न्याय न मिलने की उम्मीद में मेघसिंह आर्य के नेतृत्व में प्रतिनिधि मण्डल प्रजामंडल (प्रजा परिषद्) पहुंचा। प्रजामंडल ने एक जाँच दल काँगड़ गाँव भेजने का निर्णय लिया जिसमें हंसराज आर्य (भादरा) , दीप चंद (राजगढ़) , पं गंगाधर रंगा , प्रो केदारनाथ शर्मा, मौजीराम चांदगोठी , चौधरी रूपाराम मान, स्वामी सच्चिदानंद आदि थे। प्रतिनिधि मंडल रेवल से उतर कर पैदल ही काँगड़ के लिए रवाना हुआ। गौशाला के पास हरी राम ढाका और भजनोपदेशक शीशराम लहूलुहान पड़े कराहते हुए मिले। उन्होंने सारी कहानी प्रतिनिधि मंडल को बताई और काँगड़ जाने से मना किया। मेघ सिंह आर्य को बताया गया कि तुम्हें तो जाते ही जान से मार देंगे, कह रहे थे कि मेघला खोतला मिल गया तो जान से मारेंगे। मेघ सिंह उनके साथ नहीं गए। प्रतिनिधियों को रस्ते में लोग मिले जो डरे हुए थे, सबने आप बीती बताई। प्रतिनिधि गाँव पहुंचे तो केवल ठाकुर के गुंडे सामंती लोग तथा पुलिस वाले थे। घर सूने पड़े थे। वे वापिस स्थिति का मुआयना कर 4 मील पैदल रतनगढ़ की तरफ आ गए तो पीछे से ठाकुर के गुंडे ऊँटों पर चढ़कर आ धमके तथा घेरकर पकड़ लिए गए तथा उन्हें वापस गढ़ में ले आये, जहाँ उनकी खूब पिटाई की।

नंगे करके उलटे लटका कर जूतों सहित ऊपर चढ़ गए। हाथों पर अलग, पैरों पर अलग तीन-तीन ,चार-चार आदमी चढ़ गए, खूब पिटाई की, बेहोश होने पर छोड़ दिया जाता और होश आने पर फिर पिटाई शुरू कर दी जाती। इस प्रकार 30 अक्टूबर 1946 से 1 नवम्बर 1946 तक पिटाई होती रही। छ: जनों की गुदा में मिर्ची के घोटे चला दिए। रूपाराम मान को कुएं पर जहाँ औरतें पानी भर रही थी, वहां नंगा करके पीटा तथा घोटे की जगह बांस गुदा में चढ़ा दिया, जिससे आंत फट गयी, बड़ी मुश्किल से चलकर रतनगढ़ आये वहां से बीकानेर आये, कोई इलाज नहीं होने दिया, ना ही रिपोर्ट पुलिस में लिखने दी। इनके पास 231 रुपये नगद थे तथा पेन्सिल, बटुआ आदि थे जो ठाकुर गोपसिंह ने खोस लिए। फिर इनका इलाज हिसार करवाया गया। ठाकुर के गुंडों ने पं. गंगाधर की जनेऊ तोड़ दी व चौटी उखाड ली तथा मूंह पर कुत्ते की बिष्ठ बाँध दी, यही हाल प्रो. केदारनाथ शर्मा का हुआ।

प्रजामंडल ने देश के अखबारों में खबर दी, जनता का दिल खोल उठा। राजा ने कोई सुनवाई नहीं की थी। जब पहले जत्थे की पिटाई हो रही थी तो जासासर के ठाकुर ने खबर दी कि पंजाब, हरयाणा व अन्य गाँवों से 10 हजार जाट हमला करने के लिए आ रहे हैं तो जागीरदारों और ठाकुर गोपसिंह में घबराहट बढ़ गयी। रतनगढ़ के कायमखानी वहां से खिसक लिए। ठाकुर के अन्य लोग भी भयभीत हो गए और भाग छूटे । गढ़ में केवल पुलिस के जवान व गिने-चुने जागीरदार बचे थे, गढ़ खाली हो गया था। ऐसी दुर्दशा किसानों और प्रतिनिधि मंडल की हुई थी। चौधरी रूपाराम मान आंत फटने का सही इलाज नहीं होने के कारण आखिर वे शहीद हो गए

चौधरी कुंभाराम आर्य आजादी के बाद जब गृह-मंत्री बने तो पहले-पहल काँगड़ गढ़ का दौरा किया। कहते हैं ठाकुर गोपसिंह इतने विचलित हो गए की स्वयं को गोली से उड़ा लिया। आज कोई उसका नाम लेने वाला नहीं है। उसी गढ़ में उच्च माध्यमिक विद्यालय चल रहा है।

काँगड़ में शहीद स्मारक की मांग - चौधरी कुंभाराम आर्य की अंतिम इच्छा थी कि काँगड़ में एक शहीद स्मारक बने। जाट कीर्ति संस्थान चूरू इसके लिए प्रयासरत है।

काँगड़ किसान आन्दोलन के क्रांतिकारियों की सूची

गाँव जयसंगसार (सरदारशहर) से काँगड़ काण्ड में भाग लेने वाले जाट सदस्य :

  • मुकनाराम सारण पुत्र जीराम,
  • घडसीराम सारण पुत्र भैराराम ,
  • आँसूराम सारण पुत्र श्योजी राम,
  • सुरजाराम सारण पुत्र लिछमन राम- स्यानण के ठाकुर बिशन सिंह ने इनका सर फोड़ दिया था,
  • नानू राम सारण पुत्र हुकमा राम ,
  • चुना राम सारण पुत्र गोरु राम,
  • भूराराम सारण पुत्र हुक्मा राम,
  • बक्साराम सारण पुत्र गुलाराम,
  • मानाराम जाट,
  • दानाराम जाट,
  • पुरणाराम सारण पुत्र गंगाजल,
  • श्योला राम सारण पुत्र न्योला राम,
  • बेगाराम सारण पुत्र देवी सिंह,
  • आसूराम सारण पुत्र खुमाराम,
  • मामराज सारण पुत्र मुकना राम,
  • चंद्राराम सारण पुत्र खुमानाराम,

गाँव जयसंगसार (सरदारशहर) से भाग लेने वाले गैर-जाट सदस्य :

  • गनपतराम नाई - स्यानण के ठाकुर बिशन सिंह ने इनका हाथ तोड़ दिया था,
  • हनुमान राम सैनी,
  • जस्सूराम मेघवाल,
  • हरजी सुथार,
  • मंगलाराम सैनी पुत्र सुरजाराम,
  • माधोराम शर्मा (पुजारी),
  • गंगा जल नायक,

सन्दर्भ: उद्देश्य: जाट कीर्ति संस्थान चूरू द्वारा आयोजित सर्व समाज बौधिक एवं प्रतिभा सम्मान समारोह, चूरू, जनवरी 2013, पृ.20-23 पर आधारित

Notable persons

External links

Reference


  • Dr Mahendra Singh Arya, Dharmpal Singh Dudee, Kishan Singh Faujdar & Vijendra Singh Narwar: Ādhunik Jat Itihasa (The modern history of Jats), Agra 1998, Section 9 pp.1-12



Back to Jat Villages