Sarasvati River

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
Map of Ancient Rigvedic geography
Location of Sarasvati River

Sarasvati River (सरस्वती नदी) was one of the Rigvedic rivers mentioned in the Rig Veda and later Vedic and post-Vedic texts. The Sarasvati River played an important role in the Vedic religion, appearing in all but the fourth book of the Rigveda.

Variants

The controversy of identification

The controversy on the issue of identification of the word Sarasvati is not new. The word means, for some people a Vedic 'goddess' and for others, it is a river 'abounding in lakes'. Here an attempt is being made to identify all about 'Sarasvati' by taking up critical analysis of the exiting accessible sources.

India's 'miracle river'

Map of Ancient Jat habitations

For identification of Indian Sarasvati River, we must start with identification of Sapta Sindhu (सप्त सिंधु), Hapta Hindu in Avesta, i.e. "seven rivers". These seven rivers as mentioned in in Sanskrit mythology have been separately identified as Indian rivers. The Rig Veda often refers to the seven rivers. In RV 7.36.6, the Sarasvati is the seventh river, whose mother is the Sindhu. The Avesta's hapta həndu are generally equated with the Vedic Sapta Sindhavahá; in Vendidad 1.18 these are described to be the fifteenth of the sixteen good lands created by Mazda.

It is unclear how exactly the seven rivers were intended to be enumerated. They are often located in the Punjab region in northwestern India / northern Pakistan. If Sarasvati's membership is taken for granted, and the five major rivers of the Punjab are included (Sutudri, Parusni, Asikni, Vitasta, Vipas all tributaries of Sindhu)[4], one river is missing (or perhaps two, since the Sindhu is a special case, having feminine or masculine gender and in this case not being invoked as a goddess), perhaps Arjikiya or Sushoma compare also the list of ten in the Nadistuti sukta, RV 10.75. David Frawley extends the Sapta Sindhu region from the Punjab to the Gangetic plain, specifically suggesting Sindhu, Ashikni, Parushni, Sarasvati, Yamuna, Ganga and Sarayu. (Frawley 2000) In 6.61.10, Sarasvati is called "she with seven sisters" (saptasvasā) which would logically indicate a group of eight rivers, but which probably is just due to the number seven being more important than the individual members (see also saptarshi, haft keshvar), so that the list of the Sapta sindhu may not have been fixed or immutable. In RV 10.64.8 and RV 10.75.1, three groups of seven rivers are referred to (tríḥ saptá sasrâ nadíyaḥ "thrice seven wandering rivers"), as well as 99 rivers. [1]

Course of Sarasvati River

Scientists say new evidence could unearth the Saraswati. The legend of the mighty Saraswati river has lived on in India since time immemorial. Ancient Hindu scriptures called the Vedas, recorded thousands of years ago, are full of tantalizing hymns about it being the life-stream of the people.

In a new radio programme, Madhur Jaffrey recounts the legend of the Saraswati river - and explores startling new evidence that it may not have been a myth after all. Vast and awesome, the Saraswati's holy waters are supposed to have flowed from the Himalayas into the sea, nourishing the land along the way. But as the centuries passed and no one could find it, myth, belief and religion came together and the Saraswati passed into the realm of folklore.

Now most people in India think of it as a mythical river. Some even believe that it is an invisible river or that it still flows underground. Another commonly held perception is that the Saraswati once flowed through the north Indian city of Allahabad, meeting there with two other rivers, the Ganges and the Jamuna. The confluence of these three rivers - one of which is not visible to the eye - is considered one of India's holiest spots."[2]

Identification of the Saraswati River

C. Kunhan Raja has discussed the problem of identification in very detail. Referring to two Rigvedic verses [RV. X-17/8-9], he says that Sarasvati is "Essentially a goddess living in the other world along with departed fathers of the people."

He goes on to add: "Sarasvati is another river that has been described very prominently in the Rigveda. The River Sindhu is just mentioned in many places, and in the song about the rivers, there is a description of the river in a few verses. But in the case of the river Sarasvati, there are many songs, in the Rigveda. No one can deny that the Sarasvati is the most important river in the Rigveda. But my fear is that the river was known to the people only in tradition, as a past memory of glory. If the banks of the Sarasvati had been the real centre of Vedic culture, as is indicated by the prominence given to that river in the Rigveda, then one may wonder why the River Sindhu, far away to the west, has come next in importance after Sarasvati. Yamuna and Shutudri [Sutlej] should have been given that importance, being in the region nearest to the Sarasvati. If prominence in description is not a factor in deciding the relative importance of the regions, where the Vedic culture had been most strongly rooted, then Sarasvati cannot be accepted as the centre of Vedic culture just because of the prominence given to it in the descriptions."

Basing his argument on this line, he goes on to derive conclusion: "My own view is that prominence to the Sarsvati is due to its importance in tradition and that the prominence given to the Sindhu is due to the importance of the Sindhu region as the centre of culture at that time. Because the Sindhu was known to the people as a river, they sang bout the river as a phenomenon of Nature. Because the Sarasvati was known to the people only as a past memory and not as a fact of experience in their lif, that river was described as a goddess also, its feature as a phenomenon of Nature being retained." [3]


Here it would be pertinent to raise a question on this statement of the learned author, if the conclusion that Sarasvati was known to the people only as a past memory then with which region is this past memory connected.

Sarasvati in epic Mahabharata

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (I.90.25-26-28), (II.9.19), (II.29.9), (III.13.13), (III.80.79), (III.80.118), (III.82.5), (III.82.59), (III.88.2), (III.130.3-4-5), (III.174.21), (VI.10.13), (VI.10.35), (IX.36.1-2-3),(IX.36.8-16-20-28-35-37-41-47-57-59-63), (IX.44.12), (IX.44.18), (IX.48.20), (XII.29.41), (XII.122.25),


Adi Parva, Mahabharata/Book I Chapter 90 gives History and family tree of Puru, Bharatas and Pandavas commencing from Daksha. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (I.90.25-26-28). [4]..... And Riksha married Jwala, the daughter of Takshaka, and he begat upon her a son of the name of Matinara, who performed on the bank of Saraswati (I.90.25) the twelve years' sacrifice said to be so efficacious. On conclusion of the sacrifice, Saraswati appeared in person before the king and chose him for husband. And he begat upon her a son named Tansu. Here occurs a sloka descriptive of Tansu's descendants. Tansu was born of Saraswati by Matinara.


Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 9 mentions the Kings Oceans and the Rivers who attended Sabha of Varuna. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (II.9.19). [5].....the Vipasha, the Shatadru, the Chandrabhaga, the Saraswati; the Iravati, the Vitasta, the Sindhu, the Devanadi;


Sabha Parva, Mahabharata/Book II Chapter 29 mentions the Countries subjugated by Nakula in West. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata(II.29.9).[6].....and the Sudras (II.29.9) and the Abhiras (II.29.9) that dwelt on the banks of the Saraswati (II.29.9), and all those tribes that lived upon fisheries (Matsya), and those also that dwelt on the mountains Parvatavasina (II.29.9).


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 13 mentions Arjuna's recites to angry Krishna the feats achieved in his former lives. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.13.13).[7].....And leaving aside thy upper garment, with body emaciated and looking like a bundle of veins, thou hadst lived on the banks of the Saraswati, employed in thy sacrifice extending for twelve years!


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 80 Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.80.79). [8].....One must next go, O king, to that excellent tirtha called Prabhasa (प्रभास) (3.80.77). There Hutasana is always present in his own person. He, the friend of Pavana, O hero, is the mouth of all the gods.Proceeding next to the spot where the Saraswati (सरस्वती) (3.80.79) mingleth with the sea, one obtaineth the fruit of the gift of a thousand kine and heaven also besides,....


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 80 mentions the merit attached to tirthas. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.80.118)[9].....One should next proceed with subdued senses and regulated diet to Vinasana (विनशन) (3.80.118), where Saraswati (सरस्वती) (3.80.118) disappearing on the breast of Meru, re-appeareth at Chamasa (चमस) (3.80.118), Shivodbheda (शिवॊद्भेद) (3.80.119)....


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 82 mentions names Pilgrims.Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.82.5).[10]..... Then, O king, should one repair to the sacred goddess Saraswati (सरस्वती) (III.82.5), known there as the goddess Plaksha (पलक्षा) (III.82.5), that best of streams and foremost of rivers.


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 82 mentions names Pilgrims . Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.82.59).[11]..... Journeying to the Saraswati (सरस्वती) (III.82.59), one should offer oblations unto the gods and the Pitris. By this, one certainly enjoyeth bliss in the regions called Saraswata (सारस्वत).


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 88 mentions tirthas and sacred spots that lie to the north. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.88.2).[12]....In that region is the Saraswati (सरस्वती) (III.88.2) abounding in tirthas and with banks easy of descent. There also, O son of Pandu, is the ocean-going and impetuous Yamuna (यमुना)(III.88.2),


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 130 mentions tirthas where people come to die to get place in heaven. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.130.3-4-5).[13] ....Here is the beautiful and sacred river, Saraswati, full of water: and here, O lord of men, is the spot known as Vinasana, or the place where the Saraswati disappeared. Here is the gate of the kingdom of the Nishadas and it is from hatred for them that the Saraswati entered into the earth in order that the Nishadas might not see her. Here too is the sacred region of Chamasodbheda where the Saraswati once more became visible to them. And here she is joined by other sacred rivers running seawards.


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 174 describes Pandvas' journey in twelfth year of their sojourn in forests having arrived reach Saraswati River. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.174.21).[14]....they repaired cheerfully from that Chitraratha-like forest to the borders of the desert, and desirous of dwelling by the Saraswati (III.174.21) they went there, and from the banks of that river they reached the lake of Dvaitavana.....

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.174.23)[15]....The holy fig, the rudaraksha, the rohitaka, the cane and the jujube, the catechu, the sirisha, the bel and the inguda and the karira and pilu and sami trees grew on the banks of the Saraswati (III.174.21).

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (III.174.24) [16]....Wandering about with contentment in (the vicinity of) the Saraswati which was, as it were, the home of the celestials, and the favourite (resort) of Yakshas and Gandharvas and Maharshis, those sons of kings lived there in happiness.


Bhisma Parva, Mahabharata/Book VI Chapter 10 Describes geography and provinces of Bharatavarsha. Rivers are mentioned in Mahabharata (VI.10.13). [17]Kauravya, and many races, mixed of the two elements, drink the waters of the following rivers, viz., magnificent Ganga, Sindhu, and Saraswati; of Godavari, and Narmada, Bahuda, Mahanadi; (VI.10.13)


Bhisma Parva, Mahabharata/Book VI Chapter 10 describes geography and provinces of Bharatavarsha. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (VI.10.35).[18].....and Saraswati; and Mandakini (?), and Supunya, Sarva, Ganga, Marisha (VI.10.35)


Shalya Parva, Mahabharata/Book IX Chapter 36 describes Baladeva's journey along the bank of the Sarasvati river. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.1-2-3).[19]....Then Valadeva proceeded to Vinashana where the Sarasvati (IX.36.1) hath become invisible in consequence of her contempt for Shudras and Abhiras. And since the Sarasvati (IX.36.2), in consequence of such contempt, is lost at that spot, the Rishis, for that reason, always name the place as Vinashana. Having bathed in that tirtha of the Sarasvati (IX.36.3), the mighty Baladeva then proceeded to Subhumika, situated on the excellent bank of the same river.


Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.8)[20]..... And because, O king, that spot is the beautiful sporting ground of those Apsaras, therefore is that tirtha on the excellent bank of the Sarasvati called Subhumika.

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.16) [21].....There, in that sacred tirtha of the Sarasvati, the illustrious Garga of venerable years and soul cleansed by ascetic penances, Janamejaya, had acquired a knowledge of Time and its course....

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.20) [22]....There, on the bank of the Sarasvati, that mighty hero having the palmyra on his banner beheld a gigantic tree, called Mahasankha, tall as Meru, looking like the White-mountain, and resorted to by Rishis.

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.28) [23]....Bathing in its waters, he worshipped the Brahmanas. Having given away unto the Brahmanas diverse articles of enjoyment in profusion, Baladeva then, O king, proceeded along the southern bank of the Sarasvati (IX.36.28).

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.35) [24].....Baladeva once more set out, along the way that those ascetics pointed out to him, for reaching that spot where the Sarasvati turns in an eastward direction. The river took that course for beholding the high-souled Rishis dwelling in the forest of Naimisha.

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.37) [25]....Janamejaya said, "Why, O Brahmana, did the Sarasvati bend her course there in an easternly direction?

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.41) [26].....In consequence of the number of the Rishis, O king, the tirthas on the southern banks of the Sarasvati all looked like towns and cities.

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.47) [27]....vows, and those that forswore beds for the bare and hard earth, all came to that spot in the vicinity of the Sarasvati.

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.57) [28]....Worshipped by those regenerate ones, Vala, O king, then set out from that foremost of all tirthas on the Sarasvati (Sapta-Saraswat). Numerous feathery creatures have their home there.

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.59) [29]....and diverse other kinds of trees that grow on the banks of the Sarasvati. And it was adorned with forest of Karushakas, Vilwas, and Amratakas, ...

Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.36.63) [30].... Baladeva, having the plough for his weapon, arrived at that tirtha called Sapta-Saraswat, where the great ascetic Mankanaka had performed his penances and became crowned with success.


Shalya Parva, Mahabharata/Book IX Chapter 44 describes the Kings and clans who joined the ceremony for investing Kartikeya with the status of generalissimo. Sarasvati (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.44.12)[31], ....Aditi the mother of the gods, Hri, Sri, Swaha, Sarasvati, Uma, Sachi, Sinivali,.....(IX.44.18)[32]after pouring upon his head the sacred and excellent water of the Sarasvati from golden jars that contained other sacred articles needed for the purpose.


Shalya Parva, Mahabharata/Book IX Chapter 48 describes Balarama's journey to tirthas on Sarasvati River. Sarasvati River (सरस्वती) is mentioned in Mahabharata (IX.48.20). [33].....Indeed in that auspicious and sacred tirtha of the Sarasvati, Vishnu himself, having in days of yore slain the Asuras, Madhu and Kaitabha, had, O chief of the Bharatas, performed his ablutions.


Shanti Parva Mahabharata Book XII Chapter 29 mentions [[Sarasvati] in verse (XII.29.41)[34].....Devoting three hundred horses unto the gods on the banks of the Yamuna, twenty on the banks of the Saraswati (XII.29.41), and fourteen on the banks of Ganga, that king of great energy, in days of old, performed (in this order) a thousand Horse-sacrifices and a hundred Rajasuyas.


Shanti Parva Mahabharata Book XII Chapter 122 mentions [[Sarasvati] (सरस्वती) in verse (XII.122.25) [35]....From that form, having Righteousness for its legs, the goddess Saraswati created Danda-niti (Science of Chastisement) which very soon became celebrated over the world.


Vana Parva, Mahabharata/Book III Chapter 81 mentions names of Tirthas (Pilgrims). Saptasaraswata (Tirtha) (सप्त सारस्वत) is mentioned in Mahabharata (III.81.97).[36].....One should then, O best of men, proceed to the excellent tirtha called Soma (सॊम) (III.81.96). Bathing there, O king, one obtaineth the region of Soma. One should next proceed, O king, to the tirtha called Saptasaraswata (सप्त सारस्वत) (III.81.97), where the celebrated Rishi, Mankanaka (मङ्कणक), had obtained ascetic success.


Still another Sarasvati

There is another Saraswati (tributary of Brahmani in Orissa);

Brahmani is the second largest river in Orissa. The river originates as two rivers, Shankha and Koel, from Chota Nagpur Plateau in Jharkhand and later joins Saraswati at Vedvyas to form Brahmani. Vedvyas is a sacred place, located nine kilometers from Rourkela. The river has a total length of 799 km of which 541 km has traverses Orissa. It has a total catchment area of over 39,033 sq km in the state. Brahmani flows through the Eastern Ghats in the Sundargarh, Keonjhar, Dhenkanal, Cuttack and Jajpur districts before joining with the Mahanadi to form a combined mouth and merging with the Bay of Bengal. [37]

Sarasvati River - One more view

Saraswati is also the name of a holy river of Hindus. It is believed by some that on the banks of this river. Vedic and later Vedic literature was composed including many hymns of the Vedas.

It was a 'sada nira' in the yore and after crossing modern Haryana in Sirsa district, it used to pass through Rajasthan and thence to Gujrat; thus ultimately meeting its end point to merge its waters with the Arabian Sea. But due to some earth quack its source of water was blocked and it has now become a seasonal rivulet.

According to later Vedic literature, particularly according to one view of interpretation of the data of Puranas, "the Saraswati emerges from the Shivalik range of Himalyan mountains on the plains. Now it is claimed that it emerged in plains at Adi Badri in district Yamunanagar in Haryana."

The latest efforts to Identification

It was a joyous moment for the team working on reviving the Saraswati River in Yamunanagar district as they found strong water current on reaching a depth of seven-feet today. This has raised hopes for the entire project, which was receiving criticism from various planks who termed it an RSS ambition. Assembly Speaker Kanwar Pal Gurjar had inaugurated the excavation work of ‘Saraswati Revival Project’ at Rullaheri village in Yamunanagar district on April 21. After inauguration, the District Development and Panchayat Department had undertaken digging work in two-and-a-half-km area. Water struck at nine points when the creek of river was being dug at Mughalwali village on Tuesday. “The water is potable, fresh in taste and sweet,” said Deputy Commissioner SS Phulia, after a visit to the Mughalwali village. The delighted people of the village offered prayers to Goddess Saraswati and distributed sweets amongst themselves and workers involved in the digging work. District Development and Panchayat Officer Gagandeep Singh, who is coordinating the Saraswati Revival Project, said the river length in Yamunanagar district would be 55 km. Earlier, plan was to dig the river till seven feet deep. However, now, they were planning to dig it till 10 feet deep for good natural flow of water. The river would pass through 43 villages of the district. Chief Minister Manohar Lal Khattar has already announced Rs 50 crore for this project. The credit to bring the Saraswati River on ground goes to 88-year-old RSS veteran Darshan Lal Jain. He had formed Saraswati Nidi Sodh Sansthan in 1999 and since then, has been struggling for its revival. “Some people thought it to be a mythological fantasy but water found at 7-feet -deep in its creek has proved that the Saraswati River is flowing below the earth,” said Darshan Lal Jain. The river originates from Adi Badri in Yamunanagar. It is believed that the river passes underground through Kurukshetra, Jind, Hisar, Fatehabad and Sirsa districts before entering Rajasthan and Gujrat. The DC said the project would prove to be a milestone in the development of this area as it would promote eco-tourism, pilgrimage tourism, water conservation and improve ecological balance. [38]

The claim seems hollow

When you wake up to a dramatic newspaper headline saying "Saraswati river sprouts to life after 4,000 years" - it is natural to sit up and take notice of a development that promises to be of historical and religious significance. The Saraswati river, after all, has been described as the "greatest of mothers, greatest of rivers and greatest of goddesses" in our Vedas.

Yet, I read the article with an ennui of a journalist who has been a long distance runner - been there, seen that. The story says that the Haryana Assembly Speaker and Yamunanagar Deputy Commissioner rushed to the spot this week and tasted the water. The article in Mail Today on Saturday also says the Haryana government will try to revive the Saraswati river by diverting water from the Somb river too.

In 2003, I too went to Adi Badri, Yamunanagar with a team of Saraswati-seekers who pointed to a thin stream and a puddle and exclaimed it was the mighty Saraswati river that used to come from the Himalayas and flowed into the Arabian Sea. Now they are claiming that again.

A special national team - comprising of glaciologists, archaeologists, remote sensing experts, historians, - was set up by the Atal Behari Vajpayee government to hunt for the river that our ancient scriptures claimed had dried up and disappeared from thousands of years ago. Armed with NASA maps from the 1970s that showed signs of channels of water in northern and western India, the team began digging for the river. Everytime they found ancient clay artifacts along the NASA map route, the archaeologists told me this was indeed the Saraswati river, the site of ancient settlements. Our ancestors had written the Vedas sitting on the banks of this river, they said. What bolstered their claim was that in 1998, groundwater experts dug wells along this route and had found potable water, even in the desert.


It is easy to get swayed by this heady cocktail of faith, science, politics and history. [39]

Conclusion

The answer to the problem being discussed about the Rigvedic Saraswati identification, perhaps, lies in the fact that Sarasvati is connected with the Pitrs i.e. "the departed forefathers of the people as mentioned in the Rigvedic verses mentioned earlier (RV X.17.8-9), so our answer would be that this past memory of the Indian Aryans relates to the Sarasvati River in Iran which was called Harahavaiti and still flows as Arghandab. It seems probable that when one branch of the Ancient Aryans migrated from the banks of the Sarasvati/Harahvaiti in Iran and settled in India, they named the most important river of their new home after the name of the river of their former homeland.

It can be recalled that Harahvaiti figures in the Avesta as one of the 'good lands' [i.e. no. 10] also created by Ahura Mazda for the settlement of Aryans. Thus the lost Saraswati is being searched out now and then in Indian soil and the latest work of search by Haryana Government is going on at Adi Badri in district Yamunanagar in Haryana, the place from where it is believed by some that the river entered into plains leaving behind Shivalik range of Himalyas.

सरस्वती नदी

विजयेन्द्र कुमार माथुर [40] ने लेख किया है ....1. सरस्वती नदी (AS, p.939): प्राचीन भारत की प्रसिद्ध नदी। वैदिक काल में सरस्वती की बड़ी महिमा थी और इसे परम पवित्र नदी माना जाता था। ऋग्वेद के नदी सूक्त में सरस्वती का उल्लेख है, 'इमं में गंगे यमुने सरस्वती शुतुद्रि स्तोमं सचता परुष्ण्या असिक्न्या मरूद्वधे वितस्तयार्जीकीये श्रृणुह्या सुषोमया' ऋग्वेद 10,75,5.

सरस्वती ऋग्वेद में केवल 'नदी देवता' के रूप में वर्णित है (इसकी वंदना तीन सम्पूर्ण तथा अनेक प्रकीर्ण मन्त्रों में की गई है), किंतु ब्राह्मण ग्रथों में इसे वाणी की देवी या वाच् के रूप में देखा गया और उत्तर वैदिक काल में सरस्वती को मुख्यत:, वाणी के अतिरिक्त बुद्धि या विद्या की अधिष्ठात्री देवी भी माना गया है और ब्रह्मा की पत्नी के रूप में इसकी वंदना के गीत गाये गए है।

ऋग्वेद में सरस्वती को एक विशाल नदी के रूप में वर्णित किया गया है और इसीलिए राथ आदि मनीषियों का विचार था कि ऋग्वेद में सरस्वती वस्तुत: मूलरूप में सिंधु का ही अभिधान है। किंतु मेकडानेल्ड के अनुसार सरस्वती ऋग्वेद में कई स्थानों पर सतलज और यमुना के बीच की छोटी नदी ही के रूप में वर्णित है। सरस्वती और दृषद्वती परवर्ती काल में ब्रह्मावर्त की पूर्वी सीमा की नदियां कही गई हैं। यह छोटी-सी नदी अब राजस्थान के मरूस्थल में पहुंचकर शुष्क हो जाती है, किंतु पंजाब की नदियों के प्राचीन मार्ग के अध्ययन से कुछ भूगोलविदों का विचार है कि सरस्वती पूर्वकाल में सतलुज की सहायक नदी अवश्य रही होगी और इस प्रकार वैदिक काल में यह समुद्रगामिनी नदी थी। यह भी संभव है कि कालांतर में यह नदी दक्षिण की ओर प्रवाहित होने लगी और राजस्थान होती हुई कच्छ की खाड़ी में गिरने लगी। राजस्थान तथा गुजरात की यह नदी आज भी कई स्थानों पर दिखाई पड़ती है। सिद्धपुर इसके तट पर है। संभव है कि कुरुक्षेत्र का सन्निहित ताल और राजस्थान का प्रसिद्धताल पुष्कर इसी नदी के छोड़े हुए सरोवर हैं। यह नदी कई स्थानों पर लुप्त हो गई है।

हापकिंस का मत है कि ऋग्वेद का अधिकांश भाग सरस्वती के तटवर्ती प्रदेश में (अंबाला के दक्षिण का भूभाग) रचित हुआ था। शायद यही कारण है कि सरस्वती नदी वैदिक काल में इतनी पवित्र समझी जाती थी और परवर्ती काल में तो इसको विद्या, बृद्धि तथा वाणी की देवी के रूप में माना गया। मेकडानल्ड का मत है कि यजुर्वेद तथा उसके ब्राह्मण ग्रंथ सरस्वती और यमुना के बीच के प्रदेश में जिसे कुरुक्षेत्र भी कहते थे रचे गये थे। सामवेद

[p.940]:के पंचविंश ब्राह्मण (प्रौढ या तांड्य ब्राह्मण) में सरस्वती और दृषद्वती नदियों के तट पर किए गए यज्ञों का सविस्तार वर्णन है जिससे ब्राह्मण काल में सरस्वती के प्रदेश की पुण्यभूमि के रूप में मान्यता सिद्ध होती है। शतपथ ब्राह्मण में विदेघ (विदेह) के राजा माठव का मूल स्थान सरस्वती नदी के तट पर बताया गया है और कालांतर में वैदिक सभ्यता का पूर्व की ओर प्रसार होने के साथ ही माठव के विदेह (बिहार) में जाकर बसने का वर्णन है। इस कथा से भी सरस्वती का तटवर्ती प्रदेश वैदिक काल की सभ्यता का मूल केंद्र प्रमाणित होता है।

रामायण में सरस्वती: वाल्मीकि रामायण में भरत के केकय देश से अयोध्या आने के प्रसंग में सरस्वती और गंगा को पार करने का वर्णन है- 'सरस्वतीं च गंगा च युग्मेन प्रतिपद्य च, उत्तरान् वीरमत्स्यानां भारुण्डं प्राविशद्वनम्' (वाल्मीकि रामायण अयो. 71,5)

सरस्वती नदी के तटवर्ती सभी तीर्थों का वर्णन महाभारत में शल्यपर्व के 35 वें से 54 वें अध्याय तक सविस्तार दिया गया है। इन स्थानों की यात्रा बलराम ने की थी। जिस स्थान पर मरूभूमि में सरस्वती लुप्त हो गई थी, उसे विनशन कहते थे।--'ततो विनशनं राजन् जगामाथ हलायुध: शूद्राभीरानृ प्रतिद्वेषाद् यत्र नष्टा सरस्वती' महा. शल्य0 37,1. इस उल्लेख में सरस्वती के लुप्त होने के स्थान के पास आभीरों का उल्लेख है।

यूनानी लेखकों ने अलक्षेंद्र के समय इनका राज्य सक्खर रोरी (सिंध, पाकिस्तान) में लिखा है। इस स्थान पर प्राचीन ऐतिहासिक स्मृति के आधार पर सरस्वती को अंतर्हित भाव से बहती माना जाता था, 'ततो विनशनं गच्छेन्नियतो नियताशन: गच्छत्यन्तर्हिता यत्र मेरूपृष्ठे सरस्वती। (दे. विनशन) महाभारत काल में तत्कालीन विचारों के आधार पर यह किंवदंती प्रसिद्ध थी कि प्राचीन पवित्र नदी (सरस्वती) विनशन पहुंचकर निषाद नामक विजातियों के स्पर्श-दोष से बचने के लिए पृथ्वी में प्रवेश कर गई थी। 'एतद् विनशनं नाम सरस्वत्या विशाम्पते द्वारं निषादराष्ट्रस्य येषां दोषात् सरस्वती। प्रविष्टा पृथिवीं वीर मा निषादा हि माँ विदु:.

सिद्धपुर (गुजरात) सरस्वती नदी के तट पर बसा हुआ है। पास ही बिंदुसर नामक सरोवर है जो महाभारत का विनशन हो सकता है। यह सरस्वती मुख्य सरस्वती ही की धारा जान पड़ती है। यह कच्छ में गिरती है किंतु मार्ग में कई स्थानों पर लुप्त हो जाती है। 'सरस्वती' का अर्थ है सरोवरों वाली नदी जो इसके छोड़े हुए सरोवरों से सिद्ध होता है। महाभारत में अनेक स्थानों पर सरस्वती का उल्लेख है। श्रीमद् भागवत (5,19,18) में यमुना तथा दृषद्वती के साथ सरस्वती का उल्लेख है--मंदाकिनीयमुनासरस्वतीदृषद्वदी गोमतीसरयु. मेघदूत ( मेघदूत पूर्वमेघ) में कालिदास ने सरस्वती का ब्रह्मावर्त के अंतर्गत वर्णन किया है--'कृत्वा तासामभिगममपां सौम्य सारस्वतीनामन्त:शुद्धस्त्वमपि भविता वर्णमात्रेण

[p.942]: कृष्ण:' सरस्वती का नाम कालांतर में इतना प्रसिद्ध हुआ कि भारत की अनेक नदियों को इसी के नाम पर सरस्वती कहा जाने लगा। पारसियों के धर्मग्रंथ जेंदावेस्ता में सरस्वती का नाम हरहवती मिलता है।

2. सरस्वती नदी (AS, p.941): प्रयाग के निकट गंगा-यमुना संगम में मिलने वाली एक नदी जिसका रंग लाल माना जाता था। इस नदी का कोई उल्लेख मध्य काल के पूर्व नहीं मिलता और त्रिवेणी की कल्पना काफ़ी बाद की जान पड़ती है। जिस प्रकार पंजाब की प्रसिद्ध सरस्वती मरूभूमि में लुप्त हो गई थी उसी प्रकार प्रयाग की सरस्वती के विषय में भी कल्पना कर ली गई कि वह भी प्रयाग में अंतर्हित भाव से बहती है। गंगा-यमुना के संगम के संबंध में केवल इन्हीं दो नदियों के संगम का वृत्तांत रामायण, महाभारत, कालिदास तथा प्राचीन पुराणों में मिलता है। परवर्ती पुराणों तथा हिन्दी आदि भाषाओं के साहित्य में त्रिवेणी का उल्लेख है। 'भरत वचन सुनि भांझ त्रिवेनी, भई मृदुवानि सुमंगल देनी'-तुलसीदास. कुछ लोगों का मत है कि गंगा-यमुना की संयुक्त धारा का ही नाम सरस्वती है। अन्य लोगों को विचार है कि पहले प्रयाग में संगम स्थल पर एक छोटी-सी नदी आकर मिलती थी जो अब लुप्त हो गई है। 19 वीं शती में, इटली के निवासी मनूची ने प्रयाग के क़िले की चट्टान से नीले पानी की सरस्वती नदी को निकलते देखा था। यह नदी गंगा-यमुना के संगम में ही मिल जाती थी। (दे.मनूची, जिल्द 3,पृ0 75.)

3. सरस्वती नदी (AS, p.941): सौराष्ट्र में प्रभास पाटन के पूर्व की ओर बहने वाली छोटी नदी जो कपिला में मिलती है। कपिला हिरण्या की सहायक नदी है जो दोनों का जल लेती हुई प्राची सरस्वती में मिलकर समुद्र में गिरती है।

4. सरस्वती नदी (AS, p.941): महाराष्ट्र में कृष्णा की सहायक पंचगंगा की एक शाखा। कृष्णा पंचगंगा संगम पर अमरपुर नामक प्राचीन तीर्थ है।

5. सरस्वती नदी (AS, p.941): ज़िला गढ़वाल, उ.प्र. में एक छोटी पहाड़ी नदी जो बदरीनारायण में वसुधारा जाते समय मिलती है। सरस्वती और अलकनंदा (गंगा) के संगम पर केशवप्रयाग स्थित है।

6. सरस्वती नदी (AS, p.941): बिहार में राजगीर के समीप बहने वाली नदी जो प्राचीन काल में तपोदा कहलाती थी। इस सरिता में उष्ण जल के स्रोत थे। इसी कारण यह तपोदा नाम से प्रसिद्ध थी। तपोद तीर्थ का, जो इस नदी के तट पर था, महाभारत वनपर्व में उल्लेख है। गौतमबुद्ध के समय तपोदाराम नामक उद्यान इसी नदी के तट पर स्थित था। मगध-सम्राट बिंदुसार प्राय: इस नदी में स्नान करते थे। (दे. तपोदा)

7. सरस्वती नदी (AS, p.942): केरल की एक नदी जिसके तट पर होनावर स्थित है।

8. सरस्वती नदी (AS, p.942): प्राची सरस्वती,

9. सरस्वती नदी (AS, p.942): ज़िला परभणी, महाराष्ट्र में एक छोटी नदी जो पूर्णा की सहायक है। सरस्वती-पूर्णा संगम पर एक प्राचीन सुदंर मंदिर स्थित है।

सरस्वती नदी परिचय

सरस्वती नदी पौराणिक हिन्दू धर्म ग्रन्थों तथा ऋग्वेद में वर्णित मुख्य नदियों में से एक है। प्राचीन भारत की प्रसिद्ध नदी. वैदिक काल में सरस्वती की बड़ी महिमा थी और इसे परम पवित्र नदी माना जाता था। ऋग्वेद के नदी सूक्त में सरस्वती का उल्लेख है, 'इमं में गंगे यमुने सरस्वती शुतुद्रि स्तोमं सचता परुष्ण्या असिक्न्या मरूद्वधे वितस्तयार्जीकीये श्रृणुह्या सुषोमया' ऋग्वेद 10,75,5.

वेद पुराणों में गंगा और सिंधु से ज्यादा महत्त्व सरस्वती नदी को दिया गया है। इसका उद्गम बाला ज़िला के सीमावर्ती क्षेत्र सिरपुर की शिवालिक पहाड़ियों में माना जाता है। वहां से बहती हुई यह जलधारा पटियाला में विनशन नामक स्थान में बालू में लुप्त हो जाती है।

नामकरण: ‘सरस’ यानी जिसमें जल हो तथा ‘वती’ यानी वाली अर्थात जलवाली; इस अर्थ में इसका नामकरण हुआ है। इसका अंत अप्रकट होने के कारण इसे अंत:सलिला की संज्ञा दी गई है।

भौगोलिक संरचना: मैदानी क्षेत्र में इसका प्रवेश आदि बद्री के पास होता है। भवानीपुर और बलछापर से गुजरती हुई यह बालू में लुप्त हो जाती है, फिर थोड़ी दूर पर करनाल से बहती है। घाघरा नदी जिसका उद्-गम भी इसी क्षेत्र से है, 175 किमी की दूरी पर जाकर रसूला के निकट इससे मिल जाती है। यह बीकानेर के पहले हनुमानगढ़ के पास बालुकामय राशि में लुप्त हो जाती है। अब भी बीकानेर से क़रीब दस किमी दूर रेतीले इलाके को सरस्वती कहकर पुकारते हैं।

पौराणिक संदर्भ: वेद और पुराणों में सरस्वती का वर्णन नदी के रूप में नहीं, बल्कि वाणी तथा विद्या की देवी के रूप में हुआ है। स्कंदपुराण और महाभारत में इसका विवरण बड़ी श्रद्धा-भक्ति से किया गया है। इनके अनुसार सरस्वती नदी हिमालय से निकलकर कुरुक्षेत्र, विराट, पुष्कर, सिद्धपुर, प्रभास आदि इलाकों से होती हुई गुजरात के कच्छ के रास्ते से सागर में मिलती थी। प्रयाग में गंगा और यमुना से सरस्वती का संगम हुआ। कई भू-विज्ञानी मानते हैं, और ऋग्वेद में भी कहा गया है, कि हज़ारों साल पहले सतलुज (जो सिन्धु नदी की सहायक नदी है) और यमुना (जो गंगा की सहायक नदी है) के बीच एक विशाल नदी थी जो हिमालय से लेकर अरब सागर तक बहती थी। आज ये भूगर्भी बदलाव के कारण सूख गयी है। ऋग्वेद में, वैदिक काल में इस नदी सरस्वती को 'नदीतमा' की उपाधि दी गयी है। उस सभ्यता में सरस्वती ही सबसे बड़ी और मुख्य नदी थी, गंगा नहीं। सरस्वती नदी हरियाणा, पंजाब व राजस्थान से होकर बहती थी और कच्छ के रण में जाकर अरब सागर में मिलती थी। तब सरस्वती के किनारे बसा राजस्थान भी हराभरा था। उस समय यमुना, सतलुज व घग्घर इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ थीं। बाद में सतलुज व यमुना ने भूगर्भीय हलचलों के कारण अपना मार्ग बदल लिया और सरस्वती से दूर हो गईं। हिमालय की पहाड़ियों में प्राचीन काल से हीभूगर्भीय गतिविधियाँ चलती रही हैं।

संभवतः ऐसी ही किसी हलचल के कारण सरस्वती का प्राकृतिक मार्ग अवरुद्ध हुआ और वह मार्ग बदलकर बहने लगी। बदले मार्ग पर इसे हिमालय से जल नहीं मिला और यह वर्षा जल से बहने वाली नदी बनकर रह गई। धीरे-धीरे राजस्थान क्षेत्र में मौसम गर्म होता गया और वर्षा जल भी न मिलने के कारण सरस्वती नदी सूखकर विलुप्त हो गई। के एस वल्दिया की पुस्तक 'सरस्वती, द रिवर दैट डिसेपीयर्ड' और बी पी राधाकृष्णा व एस एस मेढ़ा की पुस्तक 'वैदिक सरस्वती' में कहा गया है कि मानसरोवर से निकलने वाली सरस्वती हिमालय को पार करते हुए हरियाणा, राजस्थान के रास्ते कच्छ पहुंचती थी।

वैज्ञानिक प्रमाण एवं पुरातात्विक तथ्य: 1996 में 'इन्डस-सरस्वती सिविलाइजेशन' नाम से जब एक पुस्तक प्रकाश में आयी तो वैदिक सभ्यता, हड़प्पा सभ्यता और आर्यों के बारे में एक नया दृष्टिकोण सामने आया। इस पुस्तक के लेखक सुप्रसिद्ध पुरातत्वविद् डॉ. स्वराज्य प्रकाश गुप्त ने पहली बार हड़प्पा सभ्यता को सिन्धु-सरस्वती सभ्यता नाम दिया और आर्यों को भारत का मूल निवासी सिद्ध किया। उनका यह शोध अब एक बड़ी परियोजना 'सिन्धु-सरस्वती परियोजना' के रूप में सामने आने वाला है। भारतीय पुरातत्व परिषद् के अध्यक्ष डा. स्वराज्य प्रकाश गुप्त 'एटलस आफ इंडस-सरस्वती सिविलाइजेशन' जैसे बड़े प्रकल्प पर कार्य कर रहे हैं। अपने इस प्रकल्प को पूर्णतया वैज्ञानिक और प्रामाणिक आधार पर दुनिया के सामने लाने के लिए उन्होंने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (बंगलौर), फिजिकल रिसर्च लेबोरेटरी (अहमदाबाद), भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग (भारत सरकार) सहित देश के अनेक अग्रणी संस्थानों और वैज्ञानिकों को इस प्रकल्प के साथ जोड़ा। इससे पूर्व डॉ. गुप्त की अनेक महत्त्वपूर्ण पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनमें प्रमुख हैं-'डिस्पोजल आफ द डेड एंड फिजिकल टाइप्स इन एंशियंट इंडिया', 'टूरिज्म,म्यूजियम्स एंड मोन्यूमेंट्स', 'द रूट्स आफ इंडियन आर्ट'। शीघ्र ही 'ऐलीमेंट्स आफ इंडियन आर्ट' और 'कल्चरल टूरिज्म इन इंडिया' शीर्षक से प्रकाशित होने वाली इनकी दो पुस्तकों में प्राचीन भारतीय कला और संस्कृति की विस्तृत जानकारी सप्रमाण शामिल है। (गुप्त, डा. स्वराज्य प्रकाश। वैज्ञानिक प्रमाण, पुरातात्विक तथ्य) सरस्वती एक विशाल नदी थी। पहाड़ों को तोड़ती हुई निकलती थी और मैदानों से होती हुई समुद्र में जाकर विलीन हो जाती थी। इसका वर्णन ऋग्वेद में बार-बार आता है। कई मंडलों में इसका वर्णन है। ऋग्वेद वैदिक काल में इसमें हमेशा जल रहता था। सरस्वती आज की गंगा की तरह उस समय की विशाल नदियों में से एक थी। उत्तर वैदिक काल और महाभारत काल में यह नदी बहुत कुछ सूख चुकी थी। ऋषि यहां तक कहते हैं कि अब तो उसमें मछली भी जीवित नहीं रह सकती। तब सरस्वती नदी में पानी बहुत कम था। लेकिन बरसात के मौसम में इसमें पानी आ जाता था। तो ऋग्वैदिक काल, उत्तर वैदिक काल और महाभारत काल में प्रमाण मिलते हैं कि एक नदी, जो सदानीरा थी, धीरे-धीरे विलुप्त हो गई। (गुप्त, डा. स्वराज्य प्रकाश। वैज्ञानिक प्रमाण, पुरातात्विक तथ्य)

सिन्धु-सरस्वती सभ्यता की खोज में जुटे विशेषज्ञ:

  • डॉ. के. कस्तूरी रंगन (अध्यक्ष, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, बंगलौर)
  • प्रो. यशपाल (पूर्व अध्यक्ष, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली)
  • डॉ. अशोक सिंघवी (फिजिकल रिसर्च लेबोरेटरी, अहमदाबाद)
  • डॉ. स्वराज्य प्रकाश गुप्त (भारतीय पुरातत्व परिषद्, नई दिल्ली)
  • डॉ. एस.के. टंडन (भूगर्भ विज्ञान विभाग, दिल्ली विश्वविद्यालय, नई दिल्ली)
  • डॉ. एस. कल्याण रमण (सरस्वती-सिन्धु शोध केन्द्र, चेन्नई)
  • विजय मोहन कुमार पुरी (हिमनद विशेषज्ञ, पूर्व निदेशक,भारतीय भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग, लखनऊ)
  • प्रो. के.एस. वाल्डिया (जवाहर लाल नेहरू एडवांस्ड सेंटर फार रिसर्च, बंगलौर)
  • डॉ. एस.एम.राव (भाभा परमाणु अनुसंधान केन्द्र, मुम्बई)
  • जे.आर. शर्मा, डा. ए.के. गुप्ता, श्री एस. श्रीनिवासन (दूर संवेदी सेवा केन्द्र, जोधपुर, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान) ( गुप्त, डा. स्वराज्य प्रकाश। वैज्ञानिक प्रमाण, पुरातात्विक तथ्य)

सरस्वती का उद्गम: यह उत्तरांचल में रूपण नाम के हिमनद (ग्लेशियर) से निकली। रूपण ग्लेशियर को अब सरस्वती ग्लेशियर भी कहा जाने लगा है। नैतवार में आकर यह हिमनद जल में परिवर्तित हो जाता था, फिर जलधार के रूप में आदि बद्री तक सरस्वती बहकर आती थी और आगे चली जाती थी। महाभारत में मिले वर्णन के अनुसार सरस्वती हरियाणा में यमुना नगर से थोड़ा ऊपर और शिवालिक पहाड़ियों से थोड़ा सा नीचे आदि बद्री नामक स्थान से निकलती थी। आज भी लोग इस स्थान को तीर्थस्थल के रूप में मानते हैं और वहां जाते हैं। किन्तु आज आदि बद्री नामक स्थान से बहने वाली नदी बहुत दूर तक नहीं जाती एक पतली धारा की तरह जगह-जगह दिखाई देने वाली इस नदी को लोग सरस्वती कह देते हैं। वैदिक और महाभारत कालीन वर्णन के अनुसार इसी नदी के किनारे ब्राह्मावर्त था, कुरुक्षेत्र था, लेकिन आज वहां जलाशय हैं। अब प्रश्न उठता है कि ये जलाशय क्या हैं, क्यों हैं? उन जलाशयों में भी पानी नहीं है। इस परिप्रेक्ष्य में देखा जाए तो किसी नदी के सूखने की प्रक्रिया एक दिन में तो होती नहीं, यह कोई घटना नहीं एक प्रक्रिया है, जिसमें सैकड़ों वर्ष लगते हैं। जब नदी सूखती है तो जहां-जहां पानी गहरा होता है, वहां-वहां तालाब या झीलें रह जाती हैं। ये तालाब और झीलें अर्द्ध-चन्द्राकार शक्ल में पायी जाती हैं। आज भी कुरुक्षेत्र में ब्रह्मसरोवर या पेहवा में इस प्रकार के अर्द्ध-चन्द्राकार सरोवर देखने को मिलते हैं, लेकिन ये भी सूख गए हैं। लेकिन ये सरोवर प्रमाण हैं कि उस स्थान पर कभी कोई विशाल नदी बहती थी और उसके सूखने के बाद वहां विशाल झीलें बन गयीं। यदि वहां से नदी नहीं बहती थी तो इतनी बड़ी झीलें वहां कैसे होतीं? इन झीलों की स्थिति यही दर्शाती है कि किसी समय यहां विशाल नदी बहती थी। ( गुप्त, डा. स्वराज्य प्रकाश। वैज्ञानिक प्रमाण, पुरातात्विक तथ्य)

सरस्वती के विलुप्त होने के कारण: तमाम वैज्ञानिक और भूगर्भीय खोजों से पता चला है कि किसी समय इस क्षेत्र में भीषण भूकम्प आए, जिसके कारण जमीन के नीचे के पहाड़ ऊपर उठ गए और सरस्वती नदी का जल पीछे की ओर चला गया। वैदिक काल में एक और नदी का ज़िक्र आता है, वह नदी थी दृषद्वती। यह सरस्वती की सहायक नदी थी। यह भी हरियाणा से होकर बहती थी। कालांतर में जब भीषण भूकम्प आए और हरियाणा तथा राजस्थान की धरती के नीचे पहाड़ ऊपर उठे, तो नदियों के बहाव की दिशा बदल गई और दृषद्वती नदी, जो सरस्वती नदी की सहायक नदी थी, उत्तर और पूर्व की ओर बहने लगी। इसी दृषद्वती को अब यमुना कहा जाता है, इसका इतिहास 4,000 वर्ष पूर्व माना जाता है। यमुना पहले चम्बल की सहायक नदी थी। बहुत बाद में यह इलाहाबाद में गंगा से जाकर मिली। यही वह काल था जब सरस्वती का जल भी यमुना में मिल गया। ऋग्वेद काल में सरस्वती समुद्र में गिरती थी। प्रयाग में सरस्वती कभी नहीं पहुंची। भूचाल आने के कारण जब जमीन ऊपर उठी तो सरस्वती का पानी यमुना में गिर गया। इसलिए यमुना में यमुना के साथ सरस्वती का जल भी प्रवाहित होने लगा। सिर्फ इसीलिए प्रयाग में तीन नदियों का संगम माना गया जबकि यथार्थ में वहां तीन नदियों का संगम नहीं है। वहां केवल दो नदियां हैं। सरस्वती कभी भी इलाहाबाद तक नहीं पहुंची।[5]

सरस्वती का महत्त्व: वैदिक काल में सरस्वती की बड़ी महिमा थी और इसे परम पवित्र नदी माना जाता था। ऋग्वेद के नदी सूक्त में सरस्वती का उल्लेख है, 'इमं में गंगे यमुने सरस्वती शुतुद्रि स्तोमं सचता परुष्ण्या असिक्न्या मरूद्वधे वितस्तयार्जीकीये श्रृणुह्या सुषोमया' (ऋग्वेद 10,75,5) सरस्वती ऋग्वेद में केवल 'नदी देवता' के रूप में वर्णित है (इसकी वंदना तीन सम्पूर्ण तथा अनेक प्रकीर्ण मन्त्रों में की गई है), किंतु ब्राह्मण ग्रथों में इसे वाणी की देवी या वाच् के रूप में देखा गया और उत्तर वैदिक काल में सरस्वती को मुख्यत:, वाणी के अतिरिक्त बुद्धि या विद्या की अधिष्ठात्री देवी भी माना गया है और ब्रह्मा की पत्नी के रूप में इसकी वंदना के गीत गाये गए है।

सरस्वती नदी और हड़प्पा सभ्यता में संबंध: यदि सरस्वती नदी के तट पर बसी सभ्यता, जिसे हड़प्पा सभ्यता या सिन्धु-सरस्वती सभ्यता कहा जाता है, को वैदिक ऋचाओं से हटाकर देखा जाए तो फिर सरस्वती नदी मात्र एक नदी रह जाएगी, सभ्यता खत्म हो जाएगी। सभ्यता का इतिहास बताते हैं सरस्वती नदी तट पर बसी बस्तियों से मिले अवशेष। और इन अवशेषों की कहानी केवल हड़प्पा सभ्यता से जुड़ती है। हड़प्पा सभ्यता और सरस्वती नदी, दोनों का अस्तित्व आपस में जुड़ता है। यदि हड़प्पा सभ्यता की 2600 बस्तियों को देखें तो पाते हैं कि वर्तमान पाकिस्तान में सिन्धु तट पर मात्र 265 बस्तियां थीं, जबकि शेष अधिकांश बस्तियां सरस्वती नदी के तट पर मिलती हैं। आज हमारे सामने जमीनी सच्चाई उभर कर आ गई है। अभी तक हड़प्पा सभ्यता को सिर्फ सिन्धु नदी की देन माना जा रहा था, लेकिन इन शोधों से सिद्ध हो गया है कि सरस्वती का इस सभ्यता में बहुत बड़ा योगदान है। पुस्तक 'एटलस आफ द इण्डस-सरस्वतीश् सिविलाइजेशन' में एक व्यापक शोध कार्य हुआ है। (और सरस्वती क्यों न बही अब तक? (हिंदी) (पी.एच.पी.) India Water Portal).

संदर्भ: भारतकोश-सरस्वती नदी

External links

Sarasvati/Recent Research on the Sarasvati River.htm

See also

References

  1. http://www.jatland.com/home/Sapta_Sindhu#Migration_from_Sapta-Sindhu
  2. Sarasvati/Recent Research on the Sarasvati River.htm
  3. C Kunhan Raja, The Quintessence of the Rigveda, p. 66; D.P. Sharma, Studies in the Proto-History, pp. 111-112.
  4. मतिनारः खलु सरस्वत्यां दवादश वार्षिकं सत्रम आजहार (I.90.25) निवृत्ते च सत्रे सरस्वत्य अभिगम्य तं भर्तारं वरयाम आस, तस्यां पुत्रम अजनयत तंसुं नाम (I.90.26) अत्रानुवंशॊ भवति (I.90.27) तंसुं सरस्वती पुत्रं मतिनाराद अजीजनत (I.90.28)
  5. विपाशा च शतद्रुश च चन्थ्र भागा सरस्वती, इरावती वितस्ता च सिन्धुर थेव नथस तदा (II.9.19)
  6. शूद्राभीर गणाश चैव ये चाश्रित्य सरस्वतीम, वर्तयन्ति च ये मत्स्यैर ये च पर्वतवासिनः (II.29.9)
  7. अपकृष्टॊत्तरासङ्गः कृशॊ धमनि संततः, आसीः कृष्ण सरस्वत्यां सत्रे दवादश वार्षिके (III.13.13)
  8. ततॊ गत्वा सरस्वत्याः सागरस्य च संगमे, गॊसहस्रफलं पराप्य सवर्गलॊके महीयते (III.80.79)
  9. 118 ततॊ विनशनं गच्छेन नियतॊ नियताशनः, गच्छत्य अन्तर्हिता यत्र मरु पृष्ठे सरस्वती
  10. ततॊ हि सा सरिच्छ्रेष्ठा नदीनाम उत्तमा नदी, पलक्षाद देवी सरुता राजन महापुण्या सरस्वती (III.82.5)
  11. सरस्वतीं समासाद्य तर्पयेत पितृदेवताः, सारस्वतेषु लॊकेषु मॊदते नात्र संशयः (III.82.59)
  12. सरस्वती पुण्यवहा हरदिनी वनमालिनी, समुद्रगा महावेगा यमुना यत्र पाण्डव (III.88.2)
  13. एषा सरॊ वती पुण्या दिव्या चॊघवती नदी, एतद विनशनं नाम सरॊ वत्या विशां पते (III.130.3); दवारं निषादराष्ट्रस्य येषां दवेषात सरॊ वती, परविष्टा पृथिवीं वीर मा निषादा हि मां विदुः (III.130.4); एष वै चमसॊद्भेदॊ यत्र दृश्या सरॊ वती, यत्रैनाम अभ्यवर्तन्त दिव्याः पुण्याः समुद्रगाः (III.130.5)
  14. ततश च यात्वा मरुधन्व पार्श्वं; सथा धनुर्वेथ रतिप्रधानाः, सरस्वतीम एत्य निवासकामाः; सरस ततॊ दवैतवनं परतीयुः (III.174.21)
  15. पलक्षाक्ष रौहीतक वेतसाश च; सनुहा बथर्यः खथिराः शिरीषाः, बिल्वेङ्गुथाः पीलु शमी करीराः; सरस्वती तीररुहा बभूवुः (III.174.23)
  16. तां यक्षगन्धर्वमहर्षिकान्ताम; आयाग भूताम इव देवतानाम, सरस्वतीं परीतियुताश चरन्तः; सुखं विजह्रुर नरदेव पुत्राः (III.174.24)
  17. नदीः पिबन्ति बहुला गङ्गां सिन्धुं सरस्वतीम, गॊदावरीं नर्मदां च बाहुदां च महानदीम (VI.10.13)
  18. सरस्वतीः सुपुण्याश च सर्वा गङ्गाश च मारिष, विश्वस्य मातरः सर्वाः सर्वाश चैव महाबलाः (VI.10.35)
  19. ततॊ विनशनं राजन्न आजगाम हलायुधः, शूथ्राभीरान परति थवेषाथ यत्र नष्टा सरस्वती (IX.36.1); यस्मात सा भरतश्रेष्ठ थवेषान नष्टा सरस्वती, तस्मात तथ ऋषयॊ नित्यं पराहुर विनशनेति ह (IX.36.2); तच चाप्य उपस्पृश्य बलः सरस्वत्यां महाबलः, सुभूमिकं ततॊ ऽगच्छत सरस्वत्यास तटे वरे (IX.36.3)
  20. आक्रीडभूमिः सा राजंस तासाम अप्सरसां शुभा, सुभूमिकेति विख्याता सरस्वत्यास तटे वरे (IX.36.8)
  21. उत्पाता थारुणाश चैव शुभाश च जनमेजय, सरस्वत्याः शुभे तीर्दे विहिता वै महात्मना (IX.36.16)
  22. तत्रापश्यन महाशङ्खं महामेरुम इवॊच्छ्रितम, शवेतपर्वत संकाशम ऋषिसंघैर निषेवितम, सरस्वत्यास तटे जातं नगं तालध्वजॊ बली (IX.36.20)
  23. तदैव थत्त्वा विप्रेभ्यः परॊभॊगान सुपुष्कलान, ततः परायाथ बलॊ राजन थक्षिणेन सरस्वतीम (IX.36.28)
  24. यत्र भूयॊ निववृते पराङ्मुखा वै सरस्वती, ऋषीणां नैमिषेयाणाम अवेक्षार्दं महात्मनाम (IX.36.35)
  25. कस्मात सारस्वती बरह्मन निवृत्ता पराङ्मुखी ततः, वयाख्यातुम एतथ इच्छामि सर्वम अध्वर्यु सत्तम (IX.36.37)
  26. ऋषीणां बहुलात्वात तु सरस्वत्या विशां पते, तीर्दानि नगरायन्ते कूले वै थक्षिणे तथा (IX.36.41)
  27. आसन वै मुनयस तत्र सरस्वत्याः समीपतः, शॊभयन्तः सरिच्छ्रेष्ठां गङ्गाम इव थिवौकसः (IX.36.47)
  28. ततः परायाथ बलॊ राजन पूज्यमानॊ थविजातिभिः, सरस्वती तीर्दवरं नानाथ्विज गणायुतम (IX.36.57)
  29. सरस्वती तीररुहैर बन्धनैः सयन्थनैस तदा, परूषक वनैश चैव बिल्वैर आम्रातकैस तदा
  30. सप्त सारस्वतं तीर्दम आजगाम हलायुधः, यत्र मङ्कणकः सिथ्धस तपस तेपे महामुनिः (IX.36.63)
  31. अदितिर देव माता च हरीः शरीः सवाहा सरस्वती (IX.44.12)
  32. 18 दिव्यसंभार संयुक्तैः कलशैः काञ्चनैर नृप, सरस्वतीभिः पुण्याभिर दिव्यतॊयभिर एव तु (IX.44.18)
  33. एते चान्ये च बहवॊ यॊगसिद्धाः सहस्रशः, तस्मिंस तीर्थे सरस्वत्याः शिवे पुण्ये परंतप (IX.48.20)
  34. यॊ बथ्ध्वा तरिंशतॊ हय अश्वान थेवैभ्यॊ यमुनाम अनु, सरस्वतीं विंशतिं च गङ्गाम अनु चतुर्थश (XII.29.41)
  35. तस्माच च धर्मचरणां नीतिं देवीं सरस्वतीम, असृजद दण्डनीतिः सा तरिषु लॊकेषु विश्रुता (XII.122.25)
  36. सप्त सारस्वतं तीर्थं ततॊ गच्छेन नराधिप, यत्र मङ्कणकः सिद्धॊ महर्षिर लॊकविश्रुतः (III.81.97)
  37. http://travel.sulekha.com/orissa_rivers.htm
  38. http://www.tribuneindia.com/news/haryana/community/saraswati-no-more-a-myth-water-strikes-at-7-feet-depth/76786.html
  39. http://www.dailyo.in/politics/saraswati-river-haryana-yamuna-atal-behari-vajpayee-nasa-indus-valley/story/1/3630.html
  40. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.939

Back to Rivers