Hanumana Ram Isran

From Jatland Wiki
Jump to navigation Jump to search
H R Isran

Prof. H R Isran (born:25.1.1956) (हनुमाना राम ईसराण) is retired Professor from Department of College Education, Rajasthan. He retired as a Principal (P.G. College) on 31.1.2016. He is from village Meghsar in Churu tahsil of Churu district in Rajasthan. His full name is Hanumana Ram Isran.

Contact Mob: 9414527293, Email: Permanent & Residential Address :- Near Electricity Board Office, Jaipur Road, Churu(Raj.) Pin- 331001

Career

  • He was Former Syndicate Member at University of Rajasthan, Jaipur.
  • Worked at Govt. Lohia College, Churu.
  • Former Principal at R. N. Ruia Govt College, Ramgarh - Shekhawati.
  • Former Principal at S K Govt College, Sikar.
  • Former Principal at Govt Bangur College, Didwana.

Personal Profile

  • An enthusiastic, active, dynamic, particularly punctual person. Reliable, hardworking, sincere and competent to work as a part of a team as well as independently using initiative. Capable of dealing with administrative and professional exigencies.
  • Reputation as an able administrator discharging duties with a sense of deep devotion. Well- conversant with Govt procedures. Well-equipped with leadership skills.
  • Willing to perform challenging tasks in an organization/institution that requires highly motivated and creative people.

Education qualification :-

  • 1978 : M.A. in English from University of Rajasthan, Jaipur (1st Division securing VI position in the Merit List)
  • 1988 : M.Phil in English Language Teaching from University of Rajasthan, Jaipur (Under Teacher Fellowship Scheme of UGC)

Experience :-

  • Teaching Experience: 37 years.
  • Administrative Experience: 7 years as Vice Principal & Principal of different Govt. colleges.

Govt. Service Tenure :-

  • As Lecturer in English from Dec 4, 1978 to Oct. 14,2009 at Govt. Colleges locatd at Karauli, Didwana, Ramgarh Shekhawati, Sardarshahar , Taranangar & Churu.
  • As Vice-Principal from Oct.15, 2009 to Dec.7,2010 at Govt. College, Sardarshahar & Govt. College, Churu.
  • As Principal from Dec.8,2010 to January 31,2016 at Govt. College, Nokha, Govt. Girls’ College, Ratangarh, Govt. College, Didwana, S.K. Govt. College, Sikar & Govt. Ruia College, Ramgarh Shekhawati
  • Designation at the time of retirement: - Principal (P.G. College)

Positions in Governing Bodies of State Universities :-

  • Hon’ble Governor’s nominee as an eminent educationist in Board of Management, Swami Keshwanand Rajasthan Agriculture University, Bikaner (From 10-4-15 to 09-4-16)
  • Member of Syndicate, University of Rajasthan, Jaipur(From 22-12-14 to 13-01-16)
  • Member of Board of Management, Pt. Deendayal Upadhyaya Shekhawati University, Sikar (From 16-09-15 to 31-01-16)
  • Dean, Faculty of Arts, Pt. Deendayal Upadhyaya Shekhawati University, Sikar (19-06-15 to 31-01-16)
  • Member, Academic Council of MDS University, Ajmer (From 02-02-14 to 01-03-14)
  • Member, Board of Management , MGS University, Bikaner (from 14-07-10 to 03-11-12)
  • Dean, Faculty of Arts, MGS University, Bikaner(from 04-11-09 to 03-11-12)

Experience as Trainer & Resource Person:-

  • Master Trainer for conducting skill development courses on ‘ Communication Skills in English’ organized under Global Skill Enhancement Program sponsored by Govt of Rajasthan & Infosys BPO(from 2004 to 2008)
  • Trainer for Teaching English Communicatively.
  • Resource Person for English Teachers’ Training Courses conducted by English Teaching Institute, IASE, Bikaner.
  • Resource Person for delivering motivational lectures on Youth Skill Development.
  • Trained as Students’ Counsellor of Centres for Excellence and acted as In-charge of Student Advisory Bureau & Counselling Cell at Govt. Lohia College, Churu( from 2005 to 2009)

Publication :-

  • Articles and reports on literary, social and educational issues published in magazines & Souvenirs and on the platform of social media. Edited college magazines. Articles regularly posted on the platform of social media are highly appreciated.
  • Papers presented in Seminars, conferences & Workshops.
  • Participated in Seminars, Conferences & Workshops

Skills & Strengths :-

  • Leadership skills
  • Thinking skills
  • Linguistic competence both in Hindi and English
  • An acclaimed motivational speaker for Youth Development Centres.

Achievements :-

  • As member of governing bodies of five different universities played creditable role in different committees constituted at the university level.
  • Creditable performance in organizing Blood Donation Camp at Govt. Ruia College, Ramgarh Shekhawati on Sept. 25, 2015 .Crossed the given target and achievement was 120%
  • Played a pivotal part in making ‘ Cleanliness Drive’ and ‘ Clean India, Clean College Campaign’ a superb success at Didwana, Sikar & Ramgarh Shekhawati where acted as Principal of the Govt. Colleges.
  • During tenure (01-03-2014 to 20-06-2015) as Principal of S.K. Govt. College, Sikar ensured smooth and efficient administration of the biggest College of Rajasthan where total number of regular students was about thirteen thousand.
  • Won the good will and cooperation of the staff and the students through empathy with them. Employed innovative and healthy practices in maintaining academic ambience in the College.
  • Displayed decision-making skill and positive attitude towards work as the Principal of the colleges. Created congenial academic ambience in the colleges and gave impetus to co-curricular and extra-curricular activities.

Social Service

• Acting as a guide and mentor of 'Aapni Pathshala, Churu' launched in 2016 solely for providing informal education and mid-day meal to the educationally deprived children of slums, especially those engaged in rag-picking and in begging.

• Played a pivotal part in promoting the concept of community coaching for needy and talented students under the aegis of Teja Foundation, Jaipur.

• As an acknowledged educationist rendered superb services for over two years as honorary Co-ordinator of the free community coaching for the talented and needy students conducted under the aegis of Teja Foundation .

• Acting as a mentor for students engaged in academic and skill upgradation pursuits.

• Offering liberal assistance to the needy people and diligent students from rural areas.

  • Donated dresses and sweaters to the needy students of the schools located at the native village Meghsar ( Churu). Acting as a catalyst to augment infrastructure in the schools.

The trust ( registered at Churu ) is engaged in conducting activities in the spheres of education, counseling, promotion of social harmony, eradication of social evils etc.

  • Widening the scope of the activities of the trust, organized commemorative functions to pay homage to philanthropists, social reformers, freedom fighters and those who pioneered social awakening in the erstwhile princely state of Bikaner.

व्यक्तिक सूचना: प्रोफेसर हनुमाना राम ईसराण


प्रो. हनुमाना राम ईसराण पूर्व प्राचार्य, कॉलेज शिक्षा, राजस्थान बिजली बोर्ड के पास, जयपुर रोड, चूरू (राजस्थान ) ई-मेल: hrisran@gmail.com संपर्क: 9414527293


पारिवारिक पृष्ठभूमि


प्रोफ़ेसर हनुमानाराम ईसराण का जन्म ग्राम मेघसर ( तहसील व जिला - चूरू ) , जो कि रतननगर का पड़ोसी गांव है, में एक अति सामान्य किसान परिवार में हुआ। रिकॉर्ड में दर्ज़ जन्म तिथि: 25 जनवरी 1956 ग्रामीण परिवेश की विषम परिस्थितियों से संघर्ष करते हुए सधे कदमों से शिक्षा के पथ पर अग्रसर रहे।

शिक्षा


  • प्राथमिक शिक्षा गांव मेघसर में स्थित सरकारी प्राइमरी स्कूल से प्राप्त।
  • सेकेंडरी स्कूल परीक्षा सन 1972 में राजकीय सेकेंडरी स्कूल, रतननगर से प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण।
  • हायर सेकेंडरी परीक्षा सन 1973 में राजकीय बागला हायर सेकेंडरी स्कूल, चूरू से उत्तीर्ण।
  • स्नातक डिग्री राजकीय लोहिया कॉलेज, चूरू में अध्ययनरत रहते हुए सन 1976 में अर्जित ।
  • एम. ए. (अंग्रेजी साहित्य ) की डिग्री राजकीय डूंगर कॉलेज, बीकानेर से सन 1978 में राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर की मेरिट लिस्ट में हाई पोजीशन के साथ अर्जित।
  • एम. फिल. ( अंग्रेजी भाषा ) डिग्री राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर से यू. जी. सी. की फ़ेलोशिप स्कीम के तहत अर्जित।

राजकीय सेवा


राजकीय कॉलेज, करौली में व्याख्याता- अंग्रेजी के पद पर 4 दिसंबर 1978 को प्रथम नियुक्ति पर कार्यभार ग्रहण किया। तत्पश्चात डीडवाना, रामगढ़- शेखावटी, तारानगर स्थित राजकीय महाविद्यालयों के अलावा दीर्घावधि तक राजकीय लोहिया कॉलेज, चूरू में कार्यरत रहते हुए श्रेष्ठ शिक्षक का सम्मान प्राप्त किया।

सन 2009 में उप-प्राचार्य पद पर पदोन्नति के बाद राजकीय कॉलेज, सरदारशहर एवं लोहिया कॉलेज, चूरू में उप-प्राचार्य पद पर आसीन रहे।

सन 2010 में प्राचार्य पद पर प्रमोशन होने पर राजकीय कॉलेज, नोखा, गर्ल्स कॉलेज,रतनगढ़, राजकीय बांगड़ पी. जी. कॉलेज, डीडवाना, राजकीय पी. जी. कॉलेज, रामगढ़- शेखावाटी तथा तत्समय राजस्थान की सबसे बड़ी कॉलेज श्री कल्याण राजकीय पी. जी. कॉलेज, सीकर में प्राचार्य पद पर पदासीन रहे।

प्रत्येक कर्तव्य- स्थल पर कर्मठता और कुशलता से प्रशासनिक दायित्व का निर्वहन किरने के फलस्वरूप विद्यार्थी व समस्त स्टाफ आपकी शालीनता, सौम्यता, सरलता, सादगी, निष्पक्षता, समय की पाबंदी आदि गुणों से अभिभूत रहे। तत्समय लगभग तेरह हजार विद्यार्थी संख्या वाले राज्य के सबसे बड़े और अशांत कॉलेज श्री कल्याण कॉलेज, सीकर के प्राचार्य पद का दायित्व कुशलता पूर्वक संभाला। प्रवेश- प्रक्रिया, छात्रसंघ चुनाव और परीक्षा संचालन में निष्पक्षता, शुचिता और पारदर्शिता के उच्च आयाम स्थापित कर सर्वत्र प्रशंसा प्राप्त की।

विभिन्न महाविद्यालयों में प्राचार्य पद पर कार्यरत रहते हुए आपने कई लंबित पेचीदा प्रकरणों का निस्तारण करवाया। विभिन्न प्रकरणों की प्रक्रियागत बारीकियों एवं सेवा नियमों की समुचित समझ से सुसंपन्न होने से आप विभिन्न कॉलेजों में पदस्थापित अपने परिचित प्राचार्यों के विश्वसनीय सलाहकार रहे।

विशिष्ट उपलब्धियां


◆ सन 1982 में आयोजित एशियाई खेलों की जयपुर में आयोजित नौकायन प्रतियोगिता में भाग लेने वाली विदेशी टीमों के लिए लियजन ऑफिसर ( संपर्क अधिकारी ) एवं दुभाषिए के रूप में कार्य करने के लिए राज्य सरकार तथा केंद्रीय खेल मंत्रालय द्वारा चयन।

◆ राज्य सरकार तथा इंफोसिस कंपनी द्वारा प्रायोजित ग्लोबल स्किल एनहैंसमेंट प्रोग्राम के संचालन के लिए सन 2004 से 2008 तक लोहिया कॉलेज, चूरू में मास्टर ट्रेनर रहते हुए जॉब ओरिएंटेड स्किल डेवलपमेंट कोर्सेज का सफलतापूर्वक संचालन।

◆ युवा कौशल विकास तथा परामर्श हेतु निदेशालय, कॉलेज शिक्षा, राजस्थान द्वारा सन 2007 में प्रशिक्षण के लिए चयन।

◆ आयुक्तालय, कॉलेज शिक्षा, राज. एवं संयुक्त राज्य अमेरिका के English Language Fellow Program के संयुक्त सौजन्य से संचालित Project High-TEC के अंतर्गत सन 2009 में आयोजित प्रोग्राम Teaching English Communicatively में ट्रेनिंग प्राप्त मास्टर ट्रेनर।

◆ सरकारी कॉलेजों में युवा विकास केंद्रों के तत्वावधान में आयोजित व्याख्यानमाला में विभिन्न कॉलेजों में मुख्य वक्ता के रूप में प्रति वर्ष आमंत्रित।

◆ शिक्षण-प्रशिक्षण कॉलेज, बीकानेर द्वारा सन 2011 एवं 2012 में शिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए आयोजित रिफ्रेशर / ट्रेनिंग कोर्स में रिसोर्स पर्सन के रूप में चयन।

◆ राष्ट्रीय स्तर की सेमिनार व कांफ्रेंसस में भाग लेकर शोध पत्र प्रस्तुत।

विश्वविद्यालयों में प्रमुख भूमिका


◆ सन 2009 से 2012 तक लगातार तीन वर्षों तक महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय, बीकानेर के कला संकाय के डीन तथा बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट के सदस्य की हैसियत से विश्वविद्यालय स्तर पर गठित उच्च अधिकार प्राप्त समितियों के कार्य संपादन में प्रमुख भूमिका।

◆ राजकीय बांगड़ कॉलेज, डीडवाना के प्राचार्य पद पर रहते हुए महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय, अजमेर की एकेडमिक काउंसिल का सन 2014 के प्रारम्भ में सदस्य नामित।

◆ राज्य के सबसे बड़े कॉलेज श्री कल्याण राजकीय कॉलेज, सीकर के प्राचार्य पद के दायित्व का निर्वहन कुशलतापूर्वक करने पर राज्य सरकार द्वारा दिसंबर 2014 से राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर के सिंडीकेट का सदस्य नामित किया गया।

◆ श्री कल्याण कॉलेज, सीकर में प्राचार्य पद पर कार्यरत रहते हुए विश्वविद्यालय परीक्षाओं में नकल के मामलों से सख़्ती से निपटने एवं अनुचित साधनों का प्रयोग करने पर पकड़े गए सभी मुख्य छात्र संगठनों के नेताओं के विरुद्ध निडरता से नकल का केस बनाने से प्रभावित होकर माननीय राज्यपाल ने प्रमुख शिक्षाविद के रूप में स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय, बीकानेर के बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट का सदस्य सन 2015 में एक वर्ष के लिए नामित किया।

◆ पंडित दीनदयाल उपाध्याय शेखावाटी विश्वविद्यालय, सीकर में सन 2015 से बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट के सदस्य तथा कला संकाय के डीन की हैसियत से विश्वविद्यालय की सभी प्रमुख समितियों के कार्य-संपादन में अहम भूमिका रही। इस नवगठित विश्वविद्यालय की पहली बार आयोजित होने वाली परीक्षाओं के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरवाने एवं परीक्षा आयोजन संबंधी समस्त प्रक्रियाओं में प्रमुख योगदान।

◆ प्राचार्य पद पर रहते हुए राज्य के पाँच विश्वविद्यालयों की गवर्निंग काउंसिल के सदस्य के रूप में कार्य करने का गौरव अर्जित करने वाले कॉलेज शिक्षा के पहले प्राचार्य होने का गौरव प्राप्त।

लगभग 38 वर्ष की गौरवशाली राजकीय सेवा के उपरांत 31 जनवरी 2016 को प्राचार्य पद से सेवानिवृत्त।

सामाजिक सरोकार


◆ सेवानिवृत्ति के बाद समाज सेवा में सक्रिय सहभागिता। चूरू में स्थित झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले एवं बालश्रम में लिप्त शिक्षा से वंचित बच्चों को अनौपचारिक शिक्षा प्रदान करने एवं उन्हें दोपहर का भोजन उपलब्ध करवाने की उद्देश्य से मुस्कान संस्था के अंतर्गत जनवरी 2016 से संचालित 'आपणी पाठशाला, चूरू' के मार्गदर्शक व संरक्षक के रूप में अहम भूमिका।

◆ मूल गांव मेघसर में स्थित दोनों राजकीय स्कूलों के जरूरतमंद छात्र-छात्राओं के लिए ड्रेस व स्वेटर आदि के वितरण की पहल।

◆ समाज के होनहार एवं जरूरतमंद युवाओं को उच्च पदों की सरकारी नौकरियों की भर्ती हेतु आयोजित प्रतियोगी परीक्षाओं की समुचित तैयारी करवाने के उद्देश्य से तेजा फाउंडेशन, जयपुर के सौजन्य से दो वर्ष तक संचालित निःशुल्क कोचिंग के कोऑर्डिनेटर व शिक्षाविद के रूप में अवैतनिक सेवाएं प्रदत्त।


External links

Gallery

References



Back to The Administrators