Bundelkhand

From Jatland Wiki
(Redirected from Jejakabhukti)
Jump to navigation Jump to search
Author:Laxman Burdak, IFS (Retd.)

Bundelkhand (बुन्देलखण्ड) is a geographic region of central India, divided between the states of Uttar Pradesh and Madhya Pradesh. The region was the site of the ancient Chedi Kingdom. Historian KP Jayaswal has identified Atavi with Bundelkhand and eastern Baghelkhand. [1]

Variants of name

  • Jahahuti (जहाहूति) (बुंदेलखंड) (AS, p.362)
  • Yajurhoti यजुर्होती = Jujhauti जुझौती, बुंदेलखंड (AS, p.768)
  • Jejabhukti (जेजाभुक्ति) ("Jeja's province")
  • Kalinjara (कालिंजर प्रदेश)
  • Vajra वज्र (p.829) = Bundelkhand (बुन्देलखण्ड) - वज्र बुन्देलखण्ड का एक प्राचीन नाम था। [2]

Origin

Bundelkhand means "Bundela domain".[3] The region was earlier known as Jejabhukti or Jejakabhukti ("Jeja's province"). According to the inscriptions of the Chandela dynasty, this name derived from Jeja, the nickname of their ruler Jayashakti. However, it is possible that this name derives from an even earlier name of the region: "Jajhauti" or "Jijhoti" (khangar's capital). After the Bundelas replaced the Chandelas around 14th century, the region came to be known as Bundelkhand after them.[4]

Geography of the Region

The area of Bundelkhand is very vast and covers about 2 lakhs square kilometers. At present this region is fragmented into two states of India i.e. Madhya Pradesh and Uttar Pradesh. Sixteen districts are in M.P. namely Datia, Morena, Gwalior, Jabalpur, Vidisha, Raisen, Satna, Rewa, Panna, Guna, Chhatarpur, Sagar, Tikamgarh, Damoh, Narsinghpur and Bhind.

The seven districts are in U.P. namely Jhansi, Lalitpur, Banda, Mahoba, Chitrakoot, Hamirpur and Jalaun.

These twenty three districts of M.P. and U.P. broadly comprise of the Bundelkhand region. Geographically, the region is not uniform but contains varied features. This consists of high mountains, small hills, pathar, rivers, extensive forests and various kinds of soils. Major part of the region is covered with patthars (Stone rocks). It contains the mountains range of Satpura, Swarngiri and Hans.

Bundelkhand is fortunate enough it contain ten rivers namely, Yamuna, Betwa, Dhasan, Ken, Chambal, Bagi, Tons, Mahanadi, Narmada and the Mandakini.

The river Yamuna which flows through the districts of Jalaun, Hamirpur, Banda, Kalpi and then turns towards the northwest of Gawalior and Bhind, irrigates the northern part of Bundelkhand. Then the river Ken falls in the Yamuna near Chillaghat and from here it travels to Allahabad where it meets the river Ganga.

The river Betwa originates in the mountains located near Bhopal and covers almost 400 miles. This passes through Malwa and Bundelkhand and falls in the Yamuna. Bhopal, Sagar, Gwalior, Lalitpur, Jhansi, Orchha, Jalaun and Hamirpur are covered by the Betwa river and irrigates large areas in the districts.

The Chambal originates from the Janap mountains near Mau Cantt. of Indore. Then it travels through Indore, Gwalior, Moraina and Dholpur and falls in the Yamuna 25 miles south-east of Etawah.

The river Tons originates from the mountains near the estate of Mehar. The river Narmada runs from the hills of the Amarkantak and reaches Jabalpur through Mandla. Damoh and Sagar on the northern Ghat and Narsinghpur and Hoshangabad are located on the southern ghat of the rivers. Besides these, other rivers too play very important role in different parts of Bundelkhand.

Ref - Ch.1 Nomenclature of Bundelkhand

Places of interest

The major towns of Bundelkhand are Chanderi,

Ancient History

The ancient name of Bharhut was Vardavati. Ptolemy in his 'Geography' has mentioned a city named 'Bardaotis' situated on the route from Ujjain to Pataliputra, which according to Alexander Cunningham is related with Bharhut. According to Tibetan 'Dhulva' a Shakya monk named Samyak was expelled from Kapilavastu and came to Bagud and built a stupa here. Alexander Cunningham tells us that Bagud is Bharhut. It has been mentioned to be within the Ātavī province of the ancient literature. Samudragupta has mentioned Atavi in the list of places won by him. KP Jayaswal has identified Atavi with Bundelkhand and eastern Baghelkhand. [5]

History

Bundelkhand's most well known place may be is Khajuraho, which has numerous 10th-century sculptures devoted to fine-living and eroticism. The mines of Panna have at times been famous for magnificent diamonds; and a very large one dug from the last active mine was kept for a time in the fort of Kalinjar.

The Chandela clan ruled Bundelkhand from the 10th to the 16th centuries. In the early 10th century they were feudatories of the Pratiharas of Kannauj, and ruled from the fortress-city of Kalinjar. A dynastic struggle among the Pratiharas from 912 to 914 allowed the Chandelas and other feudatories to assert their independence. The Chandelas captured the strategic fortress of Gwalior c. 950. Dhanga (c. 950–1008) left many inscriptions, and endowed a large number of Jain and Hindu temples. Dhanga's grandson Vidyadhara (1017–29) expanded the Chandela kingdom to its greatest extent, extending the Chandela dominions to the Chambal river in the northwest and south to the Narmada River.

The Afghan king Mahmud of Ghazni attacked the Chandela dominions during Vidydhara's reign, but did not retain any Chandela territory. The Chandelas built the famous temple-city of Khajuraho between the mid-10th and mid-11th centuries. During the Chandela period, Bundelkhand was home to a flourishing Jain community and numerous Jain temples were built in that period.

In the 12th century, the Rajput Chauhan rulers of Ajmer challenged the Chandelas. The Muslim conquests of the early 13th century reduced the Chandela domains, although they survived until the 16th century as minor chieftains. Bundela Rajputs grew to prominence starting in the 16th century. Orchha was founded in the 16th century by the Bundeli chief Rudra Pratap, who became the first Raja of Orchha. In 1545 Sher Shah Suri, the only Indian king to defeat Mughals and sit on Delhi throne, was killed while attempting to capture Kalinjar from the local Bundeli kings.

The region came under nominal Mughal rule from the 16th to 18th centuries, although the hilly, forested terrain of the sparsely populated region made it difficult to control. Akbar's governors at Kalpi maintained a nominal authority over the surrounding district, and the Bundela chiefs were in a state of chronic revolt, which culminated in the war of independence under Chhatrasal. On the outbreak of his rebellion in 1671 he occupied a large province to the south of the Yamuna. Setting out from this base, and assisted by the Marathas, he conquered the whole of Bundelkhand. On his death in 1732 he bequathed one-third of his dominions, including Jalaun and Jhansi, to his Maratha allies, who before long succeeded in controlling the whole of Bundelkhand, with the local rulers as tributaries to the Marathas.

Under Maratha rule the country was a prey to constant anarchy and strife. By the end of the 18th century, the Bundelas had freed themselves to some extent from Maratha power. A grandson of the Maratha Peshwa, sought to restore Maratha control of Bundelkhand from his base at Banda. Ali Bahadur warred with the Bundelas from 1790 until 1802, when he died while attempting to capture Kalinjar.


Samudragupta is reported to have conquered a Vyaghraraja of Mahākāntāra and he is identified with the Vyaghradeva of Bundelkhand.[6][7]


James Tod[8] writes that The warriors assembled under Visaladeva Chauhan against the Islam invader included the Chandels, who contended with Pirthi Raj, who deprived them of Mahoba and Kalinjar, and all modern Bundelkhand.

Bagwar clan

Bagwar (बगवार) or Baghwar (बघवार) is a Muslim Jat clan found in Pakistan.

Bagwar, a Bira Kshatriya was Baghwa - Tiger rider in Madhya Desha called Baghroha from Banpur to the dense forest of Jamdhar river long back before Samvat 1201 (1144 A.D.) as engraved footnote found below the idol of Nandi Mahadev. His descendants are Baghwar also pronounced as Bagwar. Kundeshwar is a village situated in Tikamgarh District, 5 km south of Tikamgarh, Madhya Pradesh, India. It is known for Kundadev Mahadev an ancient temple on the bank of the Jamdhar river, and is the location of Kundadev Mahadev Temple. According to ethics, Banpur was the capital of Banasur the king of demons and her daughter Usha Devi and married to Pradhuman grand son of the Lord Krishna, was a dedicated and regular devotee of this Shiv Linga of Mahadev. It is believed, that Shiv Linga has emerged from the Kunda of Bagwar Kshatriya clan landlady. [9]

Distribution in India: Bagwar's are rare but still found in the Madhya Desh i.e. erstwhile Bundelkhand and also moved out to all over India.

Inscriptions of Bundela rulers at Madanpur

Madanpur (मदनपुर) is a village in Sagar District in Madhya Pradesh. Village was founded by Chandel King Madan Varma in 12th century. Many Inscriptions of Bundela rulers have been obtained from here. [10]

Jinapala's Kharataragachchhapaṭṭavalī tells us that in V. 1239 (1182 AD) Prithviraja III started his digvijaya and on his conquest of all quarters had pitched his first camp at Narayana. He marched against Jejakabhukti, which according to Madanpur (Bundelkhand) Inscriptions, "was laid waste in V.1239 by Prithviraja III, the son of Someshvara and the grandson of Arnoraja".

Prithviraj conquered Mahoba, the capital of Chandel ruler Parmardi or Paramala, after a stiff fight with Banafara heroes Alha and Udala who were aided also by an army of Kanauj. [11]

Madanpur Inscriptions of Prithviraja III year V. 1239 (1182 AD):

There is one Inscription incised on a Jaina temple which shows that Prithviraja III conquered Chandel ruler Parmardi or Paramala.

The original text is as under:

श्री चाहुमान-वंश्‍येन पृथ्‍वीराजेन भूभुजा |
परमर्दी-नरेन्‍द्रस्‍य देशोयमुदवास्‍यत ||
अर्णोराजस्‍य पौत्रेण श्रीसोमेश्‍वरसुनुना |
जैजाकभुक्तिदेशोयं पृथ्‍वीराजेन लूनित: ||
संवत् 1239

Reference - Dasharatha Sharma, Early Chauhan Dynasties", pp.109.

The Rivers

The principal rivers are the Sindh, Betwa, Shahzad River, Ken, Bagahin, Tons, Pahuj, Dhasan and Chambal. The Kali Sindh, rising in Malwa, marks the western frontier of Bundelkhand. Parallel to this river, but further east, is the course of the Betwa. Still farther to the east flows the Ken, followed in succession by the Bagahin and Tons.

जहाहूति

विजयेन्द्र कुमार माथुर[12] ने लेख किया है ..जहाहूति (AS, p.362) स्कंद पुराण, कुमारखंड,39 में उल्लेखित देश जो जैजाकभुक्ति या बुंदेलखंड है.

जुझौति

जुझौति (AS, p.368) बुंदेलखंड का प्राचीन नाम है, जिसका शुद्ध रूप 'यजुर्होती' कहा जाता है। यह नाम 7वीं शती में भी प्रचलित था, क्योंकि चीनी यात्री युवानच्वांग ने इसका उल्लेख अपने यात्रा वृत्त में किया है। युवानच्वांग भारत में 630 ई. से 645 ई. तक था। वह उज्जैन से महेश्वरपुर जाते हुए जुझौति पहुँचा था और उसने इस प्रदेश का इसी नाम से उल्लेख किया है। उसके लेख के अनुसार जुझौति का राजा ब्राह्मण था और वह बौद्धों का बहुत आदर करता था। 14वीं शती में बुंदेलों का इस प्रदेश पर राज्य स्थापित होने के कारण इसका नाम बुंदेलखंड हो गया। इससे पूर्व इसे जुझौति ही कहा जाता था।[13]

जेजाकभुक्ति

जेजाकभुक्ति यमुना और नर्मदा नदियों के बीच में स्थित है। इसे अब बुंदेलखंड कहा जाता है। इस पर चंदेल राजाओं का शासन था। यह अब आंशिक रूप से उत्तर प्रदेश में तथा आंशिक रूप से मध्य प्रदेश में सम्मिलित है। इसके मुख्य नगर महोबा, कालिंजर तथा खजुराहो हैं, जहाँ बहुत से सुंदर मंदिर और जलाशय वर्तमान में भी हैं। इन जलाशयों को, पहाड़ियों के बीच के मार्ग को बाँधों से अवरुद्ध करके निर्मित किया गया था।[14]

विभिन्न नामोल्लेख: वैदिक काल में इस प्रदेश को आर्यावर्त, पौराणिक काल में मध्य देश, रामायण काल में दक्षिण कोसल, बौद्ध काल में 'जेजाकभुक्ति' या 'जुझारखंड' जो यजुर्वेद की भूमि है, गुप्त काल में जेजाकभुक्ति और राजपूत काल में बुन्देलखंड नाम से जाना जाता है। बुन्देलखंड विंध्याचल पर्वत का प्रमुख भाग है। अत: उसके नामकरण में ‘विंध्य’ से विंध्येल और फिर बुन्देल की व्युत्पत्ति मानी जाती है। इसे कभी 'विंध्याचल देश' भी कहा जाता था। 'चेदि देश', 'जेजाकभुक्ति' या 'जुझौति', 'दशार्ण', 'कर्णावती', 'कालिंजर प्रदेश' 'डाहल', 'पिपलादि', 'वन्यदेश', 'चित्रकूट देश', 'युद्धदेश', मध्य प्रदेश आदि नामों से समूचा बुन्देलखंड इतिहास में जाना जाता रहा है। [15]

ऐतिहासिक तथ्य: बुन्देली क्षेत्र पर चेदि, मौर्य, शुंग, वाकाटाक, भारशिव, नाग, गुप्त, हूण, हर्षवर्धन, कलचुरी, चन्देल, अफ़ग़ान, मुग़ल, गौड़ और बुन्देलों का शासन रहा है। सम्राट अशोक के राज्य काल में इस क्षेत्र को 'पुलिन्द देश' के नाम से सम्बोधित किया जाता था। महाकवि कालिदास की कृति 'रघुवंश' में पुलिंद जाति का उल्लेख आया है। वह यहाँ की सत्ताधारी जाति थी। वेद, पुराण, अनेक शिलालेखों और ताम्रपत्रों में पुलिन्द नरेशों और पुलिन्द देश की स्थिति के संकेत मिलते हैं। कुछ विद्वानों का मत हैं कि यही ‘पुलिन्द’ शब्द आगे चलकर ‘बोलिन्द’ और कालान्तर में ‘बुन्देल’ हो गया। ब्राह्मी लिपि के एक भेद को 'बोलिन्दी' कहते हैं। इस क्षेत्र के अनेक प्राचीन शिलालेख बोलिन्दी में लिपिबद्ध हैं।[16]

ब्रिटिश विश्वकोश[17] में बुन्देलखंड का ‘जेजाक भुक्ति’ के रूप में उल्लेख किया गया है। जॉर्ज ग्रियर्सन ने 'गजेटियर ऑफ़ इंडिया' के आधार पर लिखा है कि- "बुन्देलखंड वह भू-भाग है, जो उत्तर में यमुना, उत्तर-पश्चिम में चम्बल, दक्षिण में मध्य प्रांत के जबलपुर और सागर संभाग तथा दक्षिण और पूर्व में रीवा अथवा बघेलखंड के मध्य में स्थित हैं और जिसके दक्षिण तथा पूर्व में मिर्जापुर की पहाडि़या हैं। [18]

दशार्ण

विजयेन्द्र कुमार माथुर[19] ने लेख किया है.... दशार्ण बुंदेलखंड, मध्य प्रदेश का धसान नदी से सिंचित प्रदेश है। धसान नदी भोपाल क्षेत्र की पर्वतमाला से निकल कर सागर ज़िले में बहती हुई झांसी के निकट बेतवा नदी में मिल जाती है। दशार्ण का अर्थ है- 'दस' (या अनेक) नदियों वाला क्षेत्र। 'धसान', दशार्ण का ही अपभ्रंश है। महाभारत में दशार्ण को भीमसेन द्वारा विजित किये जाने का उल्लेख है-'तत: स गंडकाञ्छूरो विदेहान् भग्तर्षभ:, विजित्याल्पेन कालेन दशार्णनजयत प्रभु:। तत्र दशार्ण को राजा सुधर्मालोमहर्षणम्, कृतवान् भीमसेनेन महद् युद्धं निरायुधम्' (महाभारत, सभापर्व 29, 4-5.) महाभारत काल में इस क्षेत्र पर उस समय सुधर्मा का शासन था। महाभारत में सुधर्मा के पूर्वगामी दशार्ण नरेश हिरण्यवर्मा का उल्लेख है। हिरण्यवर्मा की कन्या का विवाह द्रुपद के पुत्र शिखंडी के साथ हुआ था। (हिरण्यवर्मेति नृपोऽसौ दाशार्णिक: स्मृत:, स च प्रादान्महीपाल: कन्यां तस्मै शिखंडिने- महाभारत, उद्योगपर्व 199, 10.) महाभारत के पश्चात् दशार्ण का उल्लेख बौद्ध जातकों तथा कौटिल्य के 'अर्थशास्त्र' में मिलता है। उस समय विदिशा दशार्ण की राजधानी हुआ करती थी।

कालिदास ने 'मेघदूत' (पूर्वमेघ 25) में दशार्ण का सुंदर वर्णन करते हुए इस देश के बरसात में फूलने-फलने वाले जामुन के कुंजों तथा इस ऋतु में कुछ दिन यहाँ ठहर जाने वाले यायावर हंसों का वर्णन किया है- 'त्वय्यासन्ने फलपरिणतिश्यामजंबूवनान्तास्संपत्स्यन्ते कतिपयदिन स्थायिहंसा दशार्णा:।'

बुंदेलखंड

विजयेन्द्र कुमार माथुर[20] ने लेख किया है....बुंदेलखंड (AS, p.640) उत्तर प्रदेश के दक्षिण और मध्य प्रदेश के पूर्वोत्तर में स्थित है। यह एक पहाड़ी इलाका है, जिसमें पूर्व स्वातंत्र्य युग में अनेक छोटी-बड़ी रियासतें थीं। बुंदेलखंड बुंदेल राजपूतों के नाम पर प्रसिद्ध है जिनके राज्य की स्थापना 14वीं शती में हुई थी. बुंदेलों का पूर्वज पंचम बुंदेला था. बुंदेलखंड का प्राचीनतम नाम जूझोति या यजुर्होती था. श्री गोरेलाल तिवारी का मत है कि बुंदेलखंड नाम विंध्येलखंड का अपभ्रंश है.

बुंदेलखंड का विस्तार: बुंदेलखंड का अधिकांश भूभाग अब उत्तर प्रदेश में है, किन्तु कुछ भाग मध्य प्रदेश में भी मिला है। यह उस भूखण्ड का नाम है, जिसके उत्तर में यमुना और दक्षिण में विन्ध्य पर्वत शृंखला, पूर्व में बेतवा और पश्चिम में टौंस अथवा तमसा नदी स्थित है।[21]

राज्य के प्रमुख नगर थे- 'महोबा-ज़िला हमीरपुर तथा कालंजर' कालंजर में राज्य की सुरक्षा के लिए एक मज़बूत क़िला था। शेरशाह इस क़िले की घेराबन्दी के समय 1545 ई. के समय यहीं मारा गया था।[22]

एक प्रचलित अवधारणा के अनुसार वह क्षेत्र जो उत्तर में यमुना, दक्षिण में विन्ध्य प्लेटों की श्रेणियों, उत्तर-पश्चिम में चम्बल और दक्षिण पूर्व में पन्ना, और आज़मगढ़ श्रेणियों से घिरा हुआ है, बुन्देलखण्ड के नाम से जाना जाता है। इसमें उत्तर प्रदेश के चार ज़िले- जालौन, झाँसी, हमीरपुर और बांदा. मध्यप्रदेश के चार ज़िले- दतिया, टीकमगढ़, छत्तरपुर और पन्ना के अलावा उत्तर-पश्चिम में चम्बल नदी तक प्रसरित विस्तृत प्रदेश के नाम था। कनिंघम ने "बुन्देलखण्ड के विस्तार के समय इसमें गंगा और यमुना का समस्त दक्षिणी प्रदेश जो पश्चिम में बेतवा नदी से पूर्व में चन्देरी और सागर के ज़िलों सहित विन्ध्यवासिनी देवी के मन्दिर तक तथा दक्षिण में नर्मदा नदी के मुहाने के निकट बिल्हारी तक प्रसरित था। [23]

बुंदेलखंड का क्रमवार इतिहास:-

  • पौराणिक इतिहास
  • मौर्यकाल
  • वाकाटक और गुप्तशासन
  • कलचुरियों का शासन
  • चन्देलों का शासन
  • बुंदेलों का शासन
  • ओरछा के बुंदेला
  • मराठों का शासन
  • बुंदेलखंड में राजविद्रोह
  • अंग्रेज़ी राज्य में विलयन

बुंदेली माटी में जन्मी अनेक विभूतियों ने न केवल अपना बल्कि इस अंचल का नाम ख़ूब रोशन किया और इतिहास में अमर हो गए। आल्हा-ऊदल, ईसुरी, कवि पद्माकर, झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, डॉ. हरिसिंह गौर आदि अनेक महान् विभूतियाँ इसी क्षेत्र से संबद्ध हैं। अनेक इतिहास पुरुषों और आल्हा की बाबन लड़ाइयाँ बुंदेलखंड का प्रमाण हैं। यहाँ के वीर योद्धा बुन्देला कहलाए। बुन्देली यहाँ की सांस्कृतिक, सामाजिक और राजनीतिक चेतना की बोली रही है। यहाँ के लोग बुन्देली बोली बोलने के कारण ही 'बुन्देला' कहलाए। बुन्देलखण्ड के रुपायन का गहरा सम्बन्ध महाराजा छत्रसाल के महत्त्वपूर्ण स्थान जेजाकभुक्ति से है।[24]

मध्य काल से पहले बुंदेलखंड शब्द इस नाम से प्रयोग में नहीं आया। आधुनिक युग में ही इसके अन्य नाम और उनके उपयोग हुए हैं। बीसवीं शती के प्रारंभिक दशक में बुंदेलखंड का इतिहास महाराज रायबहादुर सिंह ने लिखा था। इसमे बुंदेलखंड के अन्तर्गत आने वाली जागीरों और उनके शासकों के नामों की गणना मुख्य थी। पन्ना दरबार के प्रसिद्ध कवि कृष्ण तथा दीवान प्रतिपाल सिंह ने अपने स्रोतों से बुंदेलखंड का इतिहास लिखा; परन्तु वे विद्वान् भी सामाजिक सांस्कृतिक चेतनाओं के प्रति उदासीन रहे।[25]

दस्तकारी के लिए बुंदेलखंड की प्रसिद्धि दूर-दूर तक है। चंदेरी के कपड़े और ज़री के काम के लिए, गऊ कपड़े बुनने के लिए तथा दतिया, ओरछा, पन्ना और छतरपुर मिट्टी के बर्तन तथा लकड़ी और पत्थर के काम के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ कोरियों के द्वारा जाजम, दरी, कालीन, लोहारों के द्वारा बन्दूक के कुन्दे और नाल, गड़रियों के द्वारा कंबल तथा बजीरों के द्वारा चटाईयाँ, बच्चों के लेटने के लिए चँगेला, टोकनियाँ, चुलिया-टिपारे और पँखे आदि बड़ी कुशलता से बनाते हैं।[26]

महौनी, बुंदेलखंड

महौनी (बुंदेलखंड) (AS, p.731): वीरभद्र अथवा वीर बुंदेला ने जो 1071 ई. में बुंदेलों का राजा हुआ था. बुंदेलखंड का विस्तृत भाग अपने अधिकार में करके महौनी में अपनी राजधानी बनाई. वहां बुंदेलों की राजधानी काफी समय तक रही.[27]

बुंदेला वंशावली

महाकवि केशवदास ने 'वीरसिंहदेवचरित' और ‘कविप्रिया' में ओरछा के बुन्देला-नरेशों की वंशावली का वर्णन किया है। 'वीरसिंहदेवचरित' संवाद-शैली में लिखित एक बृहत्तर प्रबन्धकाव्य है। द्वितीय प्रकाश में 'दान' और 'लोभ' के संवाद के अन्तर्गत लोभ ने महाराज वीरसिंहदेव की वंशावली बताया है। उसके कथनानुसार भगवान् राम कुश को राज्य देकर जब सदेह बैकुण्ठ चले गये तो उन्हीं के वंश में वीरभद्र काशी के राजा हुए। पुनः वीरभद्र के वीर, वीर के कर्ण और कर्ण के अर्जुनपाल हुए। अर्जुनपाल काशी त्यागकर महौनी चले गये। उनके पुत्र साहनपाल ने गढ़कुण्डार जीता। साहनपाल के पुत्र सहजेन्द्र, सहजेन्द्र के नौनखदेव, उनके पृथ्वीराज, पृथ्वीराज के मेदिनीमल्ल, उनके अर्जुनदेव, अर्जुनदेव के मलखान, मलखान के प्रतापरुद्रदेव हुए। इन्हीं प्रतापरुद्रदेव ने ओरछा नगर बसाया था.[28]

गढ़कुण्डार

विजयेन्द्र कुमार माथुर[29] ने लेख किया है ... गढ़कुण्डार (AS, p.273) मध्य प्रदेश के निवाड़ी ज़िले में गढ़कुण्डार के दुर्ग एवं नगर के भग्नावशेष बीहड़ पहाड़ों एवं वनों में बिखरे पड़े हैं। कभी गढ़कुण्डार चंदेल, खंगार एवं बुन्देल राजाओं की राजधानी रहा था। प्राचीन काल में कुण्डार प्रदेश पर गौंडो का राज्य था, जो पाटलिपुत्र के मौर्य सम्राटों को मंडलेश्वर मानते थे। परवर्ती काल में परिहार राजाओं ने कुण्डार पर आधिपत्य जमा लिया। आठवीं सदी के अंत में यहाँ चन्देलों का शासन था। पृथ्वीराज चौहान तृतीय का समकालीन चन्देल नरेश परमाल के समय यहाँ का दुर्गपाल शिवा नामक क्षत्रीय कीलेदार था जो परमाल के अधीन था. 1182 ई. में चौहान शासक एवं परमाल के बीच संघर्ष में शिवा मारा गया और चौहान के सैनिक खूबसिंह या खेतसिंह खंगार का कुंडार पर अधिकार हो गया। इसने खंगार राज्य क़ी नींव डाली, जो काफ़ी समय तक झाँसी के परिवर्ती इलाक़े में पर्याप्त समय तक राज्य करता रहा।

खंगारों से बुंदेला-वंशीय क्षत्रियों को ईर्ष्या थी और वे खंगारों को अपने से छोटा समझते थे. दिल्ली के गुलाम वंश के प्रसिद्ध सुल्तान बलबन के [p.274]: शासनकाल में बुंदेलों ने गढ़कुण्डार पर, जहाँ खंगारों की राजधानी थी, अधिकार कर लिया (1257 ई.) और युद्ध में खंगार शक्ति का पूर्ण रूप से विनास कर दिया. खंगार इस शक्ति के मद में चूर रहकर अत्यधिक मदिरापान करने लगे थे. इस युद्ध में खंगारों के सभी सरदार और सामंत मारे गए. बुंदेलों का नायक इस समय सोहनपाल था जिसकी संदरी कन्या रूपकुमारी और खंगार-नरेश हुरमत की दुखांत प्रणय-कथा बुंदेलखंड के चारणों के गीतों का प्रिय विषय है. बुंदेलों की राजधानी कुण्डार में 1507 ई. तक रही. इस वर्ष या संभवत: 1531 ई. में बुन्देला नरेश रुद्रप्रताप ने ओरछा बसाकर वहीं नई राजधानी बनायी। खंगारों और बुंदेलों में जो युद्ध हुआ उसका घटनास्थल कुंडार का दुर्ग ही था. इसके बाद यह नगर धीरे-धीरे खण्डहर में तब्दील हो गया। दुर्ग के खंडहर झाँसी नगर से 30 मील दूर हैं.

बुंदेलखंड में जाट इतिहास

ठाकुर देशराज[30] ने लिखा है ....[पृ.550]: मध्य भारत के पड़ोस में बुंदेलों का देश है। जो बुंदेलखंड के नाम से मशहूर है। बुंदेलों से पहले यहां खंगार और जाटों की भी रियासतें थी। प्रसिद्ध गढ़कुंडार के अधिपति खंगार थे और इंदरगढ़ के मालिक जाट थे।

इंदरगढ़ के मातहत एक समय 84 गांव थे। इस राज्य को खत्म करने के लिए बुंदेलों ने कई बार कोशिश की किंतु वह सफल नहीं हुए क्योंकि यहां का किला जिसके चारों और पानी की गहरी खाई थी और परकोटा पक्का और काफी उत्साह और मजबूत था। उसे सहज ही जीत लेना आसान न था। आखिर उन्होंने दतिया को अपनी राजधानी बनाया और यही से बैठकर इंदरगढ़ के जाट अधिकारियों से युद्ध जारी रखा। इंद्रगढ़ का अंतिम बहादुर अधिपति जाट वीर दलपति था, जिसके बारे में यहां पर लोकोक्ति मशहूर है कि “दलपतियारे दलपतिया। अढ़ाई टटू से हराई दतिया।“ इंदरगढ़ का जाट घराना जबरिया गोत्र1 का था।


नोट - 1. जबरिया गोत्र का उल्लेख किसी अभिलेख में नहीं है। लेफ्टिनेंट जनरल खेमकरण सिंह का गोत्र दोंदेरिया था। उन्होने इंदरगढ़ के जाट शासकों के बारे में खोजपूर्ण लेख लिखे हैं। इससे स्पष्ट होता है कि इन शासकों का गोत्र दोंदेरिया था। Laxman Burdak (talk) 22:22, 14 January 2018 (EST)

बुन्देलखण्ड में मोहिल रियासत

दलीप सिंह अहलावत[31] के अनुसार |मोहिलों के अधीश्वर की भूमि माहिलवाटी कहलाती थी।” जोधपुर के इतिहास के अनुसार राव जोधा जी राठौर ने माहिलवाटी पर आक्रमण कर दिया। राणा अजीत माहिल और राणा बछुराज माहिल और उनके 145 साथी इस युद्ध में मारे गये। राव जोधा जी राठौर की विजय हुई। उसी समय मोहिल फतेहपुर, झुंझुनू, भटनेर और मेवाड़ की ओर चले गये। नरवद माहिल ने दिल्ली के बादशाह बहलोल लोधी (1451-89) से मदद मांगी। उधर जोधा जी के भाई कांधल के पुत्र बाघा के समर्थन का आश्वासन प्राप्त होने पर दिल्ली के बादशाह ने हिसार के सूबेदार सारंगखां को आदेश दिया कि वह माहिलों की मदद में द्रोणपुर पर आक्रमण कर दे। जोधपुर इतिहास के अनुसार कांधलपुत्र बाघा सभी गुप्त भेद जोधा जी को भेजता रहा। युद्ध होने पर 555 पठानों सहित सारंगखां परास्त हुआ और जोधा जी विजयी बने। कर्नल टॉड के अनुसार जोधा के पुत्र बीदा ने मोहिलवाटी पर विजय प्राप्त की। राव बीदा के पुत्र तेजसिंह ने इस विजय की स्मृतिस्वरूप बीदासर नामक नवीन राठौर राजधानी स्थापित की। तदन्तर यह ‘मोहिलवाटी’ ‘बीदावाटी’ के नाम से प्रसिद्ध की गई। इस प्रदेश पर बीदावत राजपूतों का पूर्ण अधिकार हो गया। राजपूतों ने इस प्राचीनकालीन मोहिलवंश को अल्पकालीन चौहानवंश की शाखा लिखने का प्रयत्न किया।[32] किन्तु इस वंश के जाट इस पराजय से बीकानेर को ही छोड़ गये। कुछ राजपूत भी बन गये। माहिलों की उरियल (वर्तमान उरई-जालौन) नामक रियासत बुन्देलखण्ड में थी। आल्हा काव्य के चरितनायक आल्हा, उदल, मलखान की विजयगाथाओं से महलाभूपत के कारनामे उल्लेखनीय हैं। बिल्कुल झूठ को सत्य में और सत्य को असत्य में परिणत करने की कला में ये परम प्रवीण थे। (जाट इतिहास उत्पत्ति और गौरव खण्ड पृ० 105 पर लेखक ठा० देशराज ने मलखान को वत्स गोत्र का जाट लिखा है)।

विंध्येलखंड

विंध्येलखंड (p.849) (= बुंदेलखंड) - विंध्येलखण्ड बुन्देलखण्ड का प्राचीन नाम था। इतिहासकार गोरेलाल तिवारी के अनुसार विंध्याटवी में स्थित होने के कारण इस प्रदेश का नाम विंध्येलखण्ड पड़ा था। बाद के समय में अपभ्रष्ट होकर यह बुन्देलखण्ड कहलाया। (दे. बुन्देलखण्ड का संक्षिप्त इतिहास, पृ. 1) [33]

जुझारखंड

जुझारखंड = बुंदेलखंड (AS, p.367) बुन्देलखण्ड का प्राचीन नाम था। (दे. गोरेलाल तिवारी -- बुन्देलखण्ड का संक्षिप्त इतिहास, पृ. 1) [34]

See also

References

  1. Abha Singh, Bharhut Stoopa Gatha (Hindi), Ed. Ramnarayan Singh Rana, Satna, 2007, p. 119
  2. गोरेलाल तिवारी बुन्देलखण्ड का संक्षिप्त इतिहास, पृ. 1
  3. Jain, Ravindra K. (2002). Between History and Legend: Status and Power in Bundelkhand. Orient Blackswan. p. 1. ISBN 978-81-250-2194-0.
  4. Mitra, Sisirkumar (1977). The Early Rulers of Khajurāho. Motilal Banarsidass. pp. 1–4. ISBN 9788120819979.
  5. Abha Singh, Bharhut Stoopa Gatha (Hindi), Ed. Ramnarayan Singh Rana, Satna, 2007, p. 119
  6. Jats the Ancient Rulers (A clan study)/Harsha Vardhana : Linkage and Identity,p.211
  7. ABORI, 1924, Vol. V, pp. 31-34.
  8. James Tod: Annals and Antiquities of Rajasthan, Volume II,Annals of Haravati,p.414-416
  9. Sent via Email by <bagwaresns.sbi@gmail.com>
  10. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, pp. 704
  11. "Early Chauhan Dynasties" by Dasharatha Sharma, pp. 83
  12. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.362
  13. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.368
  14. भारतकोश-जेजाकभुक्ति
  15. भारतकोश-जेजाकभुक्ति
  16. भारतकोश-जेजाकभुक्ति
  17. एनसाइक्लापीडिया ब्रिटानिका
  18. भारतकोश-जेजाकभुक्ति
  19. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.429
  20. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.640
  21. भारतकोश-बुंदेलखंड
  22. भारतकोश-बुंदेलखंड
  23. भारतकोश-बुंदेलखंड
  24. भारतकोश-बुंदेलखंड
  25. भारतकोश-बुंदेलखंड
  26. भारतकोश-बुंदेलखंड
  27. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.731
  28. वंशावली-लेखन में। रीतिकालीन कवियों का योगदान
  29. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.273274
  30. Thakur Deshraj:Jat Jan Sewak, 1949, p.550
  31. जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठ-251
  32. जाटों का उत्कर्ष, 337-338 लेखक योगेन्द्रपाल शास्त्री; जाट इतिहास उर्दू पृ० 378-380, लेखक ठा० संसारसिंह।
  33. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.849
  34. Aitihasik Sthanavali by Vijayendra Kumar Mathur, p.367